Ask Question | login | Register
Notes
Question
Quiz
Tricks
Facts

30 April 2020

जाने-माने अभिनेता इरफान खान का निधन

जाने-माने अभिनेता इरफ़ान खान का मुंबई के एक अस्‍पताल में निधन हो गया। वे 54 वर्ष के थे और कैंसर की बीमारी से पीडि़त थे। 2018 में उनमें न्‍यूरोएंडोक्राइन ट्यूमर का पता चला था। इरफ़ान खान का बॉलीवुड में सफर 1988 में मीरा नायर की फिल्‍म सलाम बॉम्‍बे से शुरू हुआ था। इसके बाद उन्‍होंने कई फिल्‍मों में काम किया, लेकिन मकबूल, लाइफ इन ए मेट्रो, पान सिंह तोमर और पीकू जैसी फिल्‍मों से उन्‍हें खास पहचान मिली। उन्‍होंने स्‍लम डॉग मिलेनियर, अ माइटी हार्ट, जुरासिक वर्ल्‍ड और द अमेजिंग स्‍पाइडर मैन जैसी अनेक अंतर्राष्‍ट्रीय फिल्‍मों में भी काम किया। उनकी फिल्‍म लाइफ ऑफ पाय ने बड़े पैमाने पर सफलता हासिल की। इरफ़ान खान का जन्म 7 जनवरी, 1967 को राजस्थान के जयपुर में हुआ था। उन्हें वर्ष 2011 में पद्मश्री से सम्मानित किया गया था।राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, उपराष्ट्रपति एम. वेंकैया नायडू और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अभिनेता इरफान खान के देहांत पर दुःख व्यक्त किया है।

भारत सरकार ने अंतर्राष्ट्रीय वित्तीय सेवा केंद्र प्राधिकरण की स्थापना की

भारत सरकार ने अंतर्राष्ट्रीय वित्तीय सेवा केंद्र प्राधिकरण की स्थापना की है। इस प्राधिकरण का मुख्यालय गुजरात के गांधीनगर में स्थापित किया जायेगा। इस प्राधिकरण की स्थापना एक अधिसूचना के माध्यम से की गयी। भारत सरकार द्वारा जारी यह अधिसूचना IFSCA अधिनियम, 2019 के कुछ प्रभावों को लागू करती है। यह प्राधिकरण भारत में अंतर्राष्ट्रीय वित्तीय सेवा केंद्रों में वित्तीय बाजारों को विनियमित करेगा। इस प्राधिकरण का मुख्य कार्य वित्तीय उत्पादों को विनियमित करना है जैसे कि बीमा के अनुबंध, जमा, वित्तीय संस्थानों की प्रतिभूतियां जिन्हें नियामकों द्वारा अनुमोदित किया गया है। इन नियामकों में RBI, SEBI, पेंशन फंड नियामक और विकास प्राधिकरण, IRDAI शामिल हैं।

श्री सुरेश एन. पटेल ने सतर्कता आयुक्‍त के रूप में शपथ ली

श्री सुरेश एन. पटेल ने सतर्कता आयुक्‍त के रूप में शपथ ली। नई दिल्‍ली में वीडियो कान्‍फ्रेंसिंग में माध्‍यम से केंद्रीय सतर्कता आयुक्‍त संजय कोठारी ने शपथ दिलाई।

केन्‍द्र सरकार ने प्रवासी मजदूरों सहित फंसे हुए लोगों के लिए अंतर राज्‍यीय आवागमन की अनुमति दी

सरकार ने राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को आदेश जारी किया है कि देश में प्रवासी मजदूरों सहित विभिन्न जगहों पर फंसे लोगों के अंतर-राज्यीय आवागमन को सुगम बनाया जाए। गृह मंत्रालय के आदेश में कहा गया है कि सभी लोगों के रवाना होने से पहले और गंतव्य स्थल पहुंचने पर चिकित्सा जांच की जानी चाहिए। केंद्र के दिशा निर्देशों के अनुसार गंतव्य स्थलों पर पहुंचने के बाद उन्हें घर या अस्पताल में क्वारेंटीन किया जाना चाहिए। उन्हें आरोग्य सेतु ऐप डाउनलोड करने और इस्तेमाल करने के लिए प्रोत्साहित किया जाएगा ताकि उन पर नजर रखी जाएगी और उनकी स्वास्थ्य स्थिति की जानकारी हो सके।

ब्रिक्स देशों के विदेश मंत्री COVID-19 बैठक में हिस्सा लेंगे

ब्रिक्स समूह के विदेश मंत्री COVID-19 से निपटने के उपायों पर चर्चा करेंगे। विदेश मंत्री श्री एस जयशंकर बैठक में भारत का प्रतिनिधित्व करेंगे। यह वीडियो कांफ्रेंस रूस द्वारा आयोजित की जा रही है। इस बैठक में मंत्री अत्यधिक संक्रामक, तेजी से फैलने वाली और खतरनाक बीमारी COVID -19 से लड़ने के लिए संभावित संयुक्त उपायों पर चर्चा करेंगे।

जल शक्ति अभियान के तहत जल संरक्षण के लिए प्रयास शुरू किया गया

जल शक्ति अभियान ने ग्रामीण अर्थव्यवस्था को बढ़ावा देने और COVID-19 स्वास्थ्य संकट से निपटने के लिए सभी उपाय किए हैं। इसके अलावा, इस योजना के तहत ग्रामीण श्रम बलों की भारी उपलब्धता (लॉक डाउन के कारण) का उपयोग किया जाएगा। भारतीय मौसम विभाग (IMD) ने हाल ही में घोषणा की थी कि देश में मानसून की बारिश सामान्य होगी। इसके साथ ही जल शक्ति अभियान ने जल संरक्षण, पुनर्भरण और जल स्रोतों को फिर से भरने की तैयारी की थी। जल शक्ति अभियान 2019 में शुरू किया गया था। अब तक, इस योजना ने देश के 256 से अधिक जल की कमी वाले जिलों को कवर किया है।

भारत ने पीटर्सबर्ग जलवायु वार्ता में हिस्सा लिया

केंद्रीय पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्री श्री प्रकाश जावड़ेकर ने भारत का प्रतिनिधित्व करते हुए “पीटरबर्ग क्लाइमेट डायलॉग” के 11वें सत्र में भाग लिया। इस संवाद की मेजबानी जर्मनी ने की थी। इसकी सह-अध्यक्षता यूनाइटेड किंगडम ने की थी। इस संवाद में 30 से अधिक देशों ने भाग लिया। इस दौरान COVID ​​-19 से निपटने, जीवन बचाने और बीमारी के सामाजिक और आर्थिक परिणामों को दूर करने के उपायों के बारे में चर्चा की गई। इसमें पेरिस समझौते के कार्यान्वयन चरण में आगे बढ़ने की तैयारी के बारे में भी चर्चा की गयी।

‘वर्क फ्रॉम होम’ के कारण साइबर हमलों में वृद्धि : NTRO

राष्ट्रीय तकनीकी अनुसंधान संगठन ने बताया है कि देश में साइबर हमलों की संख्या ‘वर्क फ्रॉम होम’ के कारण बढ़ गई है। इस रिपोर्ट के अनुसार महत्वपूर्ण क्षेत्र के कर्मचारियों को जियोफेंसिंग प्रतिबंधों में ढील देने के कारण उन्हें साइबर हमलों का सामना करना पड़ सकता है। इस रिपोर्ट में कहा गया है कि सार्वजनिक उपक्रमों, सरकारी उपक्रमों, बैंकिंग, बिजली, दूरसंचार, परिवहन, ऊर्जा सहित कई क्षेत्रों में साइबर हमलों की आशंका है। कई कंपनियों ने अपने कर्मचारियों को घर से काम करने की अनुमति देने के लिए अपने जियोफेंसिंग प्रतिबंधों में ढील दी थी। इसे कम करने के लिए, गृह मंत्रालय ने देश में सभी CRUD (Create, Read, Update and Delete) उनके IdAM (पहचान और अभिगम प्रबंधन) गतिविधियों को ट्रैक करने का निर्देश दिया है। साथ ही मंत्रालय ने फर्मों को रैंसमवेयर हमलों के खिलाफ सजग रहने के लिए कहा है।

जी-20 समूह ने लॉन्च की “Access To COVID-19 Tools Accelerator” पहल

जी-20 समूह ने सऊदी अरब की अध्यक्षता में एक नई पहल “Access to COVID-19 Tools Accelerator” लॉन्च की है। नई पहल “Access to COVID-19 Tools Accelerator” कार्रवाई के लिए तालमेल को बेहतर बनाने सहित सामूहिक भागीदारी के लिए अंतर-निर्भरता, समस्या को सुलझाने के लिए सबको एकजुट करने और नए COVID-19 उपचार एवं वैक्सीन तैयार करने के लिए निवेश का मार्गदर्शन करने के लिए एक वैश्विक मंच के रूप में कार्य करेगी। साथ ही इसका उद्देश्य सभी सदस्यों को सभी संसाधनों की न्यायसंगत पहुँच प्रदान करना है।

मध्‍य प्रदेश सरकार ने कोरोना वायरस संकट के दौरान कल्‍याणकारी योजनाओं का लाभ लोगों तक पहुंचना के लिए दीनदयाल समितियां गठित करने का फैसला किया

मध्‍य प्रदेश सरकार ने कोरोना वायरस संकट के दौरान कल्‍याणकारी योजनाओं का लाभ लोगों तक पहुंचना सुनिश्चित करने के लिए वार्ड और पंचायत स्‍तर पर दीनदयाल समितियां गठित करने का फैसला किया है।

केरल में एक लाख 80 हजार हेक्‍टेयर बंजर भूमि पर व्‍यापक कृषि परियोजना शुरु की जाएगी

केरल में कोविड-19 के कारण उत्‍पन्‍न आर्थिक संकट से उबरने के लिए पूरे राज्‍य में एक लाख 80 हजार हेक्‍टेयर बंजर भूमि पर व्‍यापक कृषि परियोजना शुरु की जाएगी। मुख्‍यमंत्री पी. विजयन ने बताया कि इस कार्य के लिए राज्‍य सरकार सूक्ष्‍म उद्यम इकाइयों - कदम्‍बश्री, स्‍व-सहायता समूहों, गैर-सरकारी संगठनों, स्‍वैच्छिक कार्यकर्ताओं और युवाओं का सहयोग लेगी। इसका उद्देश्‍य अनाज, रोज़गार और आय सृजन में राज्‍य को आत्‍म-निर्भर बनाना है।

व्यावसायिक उत्पादन के लिए इलेक्ट्रोस्टैटिक कीटाणुशोधन प्रौद्योगिकी का हस्तांतरण

सीएसआईआर-केंद्रीय वैज्ञानिक उपकरण संगठन (सीएसआईआर-सीएसआईओ), चंडीगढ़ ने कोरोना महामारी से लड़ने के लिए प्रभावी कीटाणुशोधन और स्वच्छता को ध्यान में रखते हुए एक नवीन तकनीक का डिजाइन तैयार किया है और इसे विकसित किया है। सीएसआईआर-सीएसआईओ ने व्यावसायीकरण और बड़े पैमाने पर उत्पादन के लिए इस तकनीक को नागपुर की एक कंपनी, राइट वाटर सलूशन प्राइवेट लिमिटेड, को हस्तांतरित किया है। इलेक्ट्रोस्टैटिक कीटाणुशोधन मशीन, इलेक्ट्रोस्टैटिक सिद्धांत के आधार पर विकसित की गयी है। यह सूक्ष्मजीवों और वायरस को ख़त्म करने के लिए 10-20 माइक्रोमीटर की आकार सीमा में कीटाणुनाशक की समान और बारीक स्प्रे बूंदों का उत्पादन करता है। बूंदों के छोटे आकार के कारण, स्प्रे बूंदों का सतह क्षेत्रफल बढ़ जाता है जिससे हानिकारक सूक्ष्मजीवों और कोरोना वायरस के साथ संपर्क बढ़ जाता है। यह मशीन पारंपरिक तरीकों की तुलना में बहुत कम कीटाणुशोधन सामग्री का उपयोग करती है। इससे प्राकृतिक संसाधनों को बचाने में मदद मिलती है तथा पर्यावरण में रासायनिक अपशिष्ट की वृद्धि भी नहीं के बराबर होती है।

जेएनसीएएसआर के वैज्ञानिकों ने विकसित किया ‘प्राकृतिक उत्पाद आधारित अल्जाइमर अवरोधक’

भारत सरकार के विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग (डीएसटी) के अधीनस्‍थ स्वायत्त संस्थान जवाहरलाल नेहरू उन्नत वैज्ञानिक अनुसंधान केंद्र (जेएनसीएएसआर) के वैज्ञानिकों ने बर्बेरिन की संरचना को बेर-डी में बदल दिया है, ताकि इसका उपयोग अल्जाइमर के अवरोधक के रूप में किया जा सके। बर्बेरिन दरअसल करक्यूमिन के समान ही एक प्राकृतिक और सस्ता उत्पाद है जो व्यावसायिक तौर पर उपलब्ध है। वैज्ञानिकों ने प्राकृतिक उत्पाद आधारित अल्जाइमर अवरोधक बनाने के लिए भारत एवं चीन में पाए जाने वाले आइसोक्विनोलीन प्राकृतिक उत्पाद बर्बेरिन का चयन किया। इन वैज्ञानिकों का शोध कार्य विज्ञान पत्रिका ‘आईसाइंस’ में प्रकाशित किया गया है। अल्जाइमर रोग ही सबसे अधिक होने वाला तंत्रिका अपक्षयी (न्यूरोडीजेनेरेटिव) विकार है और मनोभ्रंश (डिमेंशिया) के 70% से भी अधिक मामलों के लिए यही जिम्मेदार होता है। बहुआयामी विषाक्तता की वजह से इस रोग का स्‍वरूप बहुघटकीय होने के कारण शोधकर्ताओं के लिए इसकी कोई अत्‍यंत कारगर दवा विकसित करना काफी मुश्किल हो गया है।

एचसीएआरडी नामक रोबोट कोविड-19 स्वास्थ्य योद्धाओं की सहायता करेगा

अस्पतालों में काम करने वाले स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं को 24 घंटे संक्रमित व्यक्तियों की देखभाल करने के कारण खुद संक्रमित हो जाने का खतरा रहता है। अब एक नए मित्र की सहायता मिलने के बाद जोखिम की मात्रा में कमी आ सकती है। रोबोट डिवाइस एचसीएआरडी, जो हास्पीटल केयर एस्सिटिव रोबोटिक डिवाइस का संक्षिप्त नाम है, कोरोना वायरस से संक्रमित व्यक्तियों से शारीरिक दूरी बनाये रखने के द्वारा अग्रिम पंक्ति स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं की सहायता कर सकते हैं। एचसीएआरडी का निर्माण सेंट्रल मैकेनिकल इंजीनियरिंग रिसर्च इंस्टीच्यूट के दुर्गापुर स्थिति सीएसआईआर लैब ने किया है। यह डिवाइस अत्याधुनिक प्रौद्योगिकियों से सुसज्जित है और आटोमैटिक एवं नेवीगेशन के मैनुअल मोड्स दोनों में ही काम करता है। यह रोबोट नेवीगेशन, ड्राअर एक्टिवेशन जैसे फीचरों वाले एक कंट्रोल स्टेशन के साथ एक नर्सिंग बूथ द्वारा नियंत्रित एवं मोनीटर किया जा सकता है और इसका उपयोग रोगियों को दवाएं एवं भोजन उपलब्ध कराने, नमूना संग्रह करने तथा आडियो-विजुअल कम्युनिकेशन करने के लिए किया जा सकता है।

ऑटोमोबाइल दिग्गज मारुति सुजुकी ने कम लागत वाले वेंटिलेटर का उत्पादन किया शुरू

ऑटोमोबाइल दिग्गज मारुति सुजुकी ने COVID-19 के खिलाफ लड़ाई में सरकार का सहयोग करने के लिए कम लागत वाले वेंटिलेटर विकसित किए हैं। यह उत्पादन उत्तर प्रदेश के गौतम बुद्ध नगर में किया जा रहा है, जहाँ कंपनी इन वेंटिलेटर का उत्पादन करने के लिए Agva Healthcare स्टार्ट-अप की सहायता कर रही है। इन कम लागत वाले वेंटिलेटर को आज्ञा हेल्थकेयर द्वारा डिजाइन किया गया था और मारुति सुजुकी गुणवत्ता जाँच और उत्पादन बढ़ाने के लिए विक्रेताओं को लाने का कम कर रही है। गौतम बुद्ध नगर के उत्पादन केंद्र ने अब तक लगभग 1200 इकाइयों से अधिक का निर्माण कर लिया है और कंपनी ने उम्मीद जताई है कि वह एक महीने के भीतर सरकार को 10000 वेंटिलेटर मुहैया करा देगी।

भारत ने 2021 पुरुष विश्व मुक्केबाजी चैम्पियनशिप की मेजबानी गंवाई

भारत ने पुरुषों की विश्व मुक्केबाजी चैम्पियनशिप 2021 की मेजबानी गंवा दी चूंकि राष्ट्रीय महासंघ मेजबानी की फीस नहीं भर सका था। अंतरराष्ट्रीय मुक्केबाजी महासंघ ने 2017 में किया गया करार तोड़कर अब सर्बिया को मेजबानी सौंपी है। इसके अलावा अब भारत को 500 यूएस डॉलर का रद्दीकरण शुल्क भी देना होगा। भारत में पहली बार होने वाली ये प्रमुख प्रतियोगिता अब सर्बियाई के बेलग्रेड शहर में आयोजित होगी। सर्बिया बॉक्सिंग फेडरेशन के अध्यक्ष, नेनाड बोरोवेंकिन ने 43 साल बाद बेलग्रेड में चैंपियनशिप आयोजन करने का का स्वागत किया। एआईबीए के अंतरिम अध्यक्ष मोहम्मद मोसाहसैन ने कहाँ कि सर्बिया के पास इस समय एथलीटों और कोचों के लिए एक शानदार आयोजन करने के लिए सारे संसाधन मौजूद है।

अंतर्राष्ट्रीय नृत्य दिवस : 29 अप्रैल

प्रतिवर्ष 29 अप्रैल को अंतर्राष्ट्रीय नृत्य दिवस के रूप में मनाया जाता है, इसका उद्देश्य इवेंट्स तथा उत्सवों के द्वारा नृत्य को बढ़ावा देना है। इस दिवस को Dance Committee of International Theatre Institute द्वारा शुरू किया गया था, इसे बाद में यूनेस्को ने आधिकारिक मान्यता दी थी। International Theatre Institute परफोर्मिंग आर्ट्स के लिए यूनेस्को का मुख्य पार्टनर है। अंतर्राष्ट्रीय नृत्य दिवस के लिए 29 अप्रैल को इसलिए चुना गया क्योंकि इसी दिन प्रसिद्ध फ़्रांसिसी डांसर जीन जॉर्जस का जन्म हुआ था। वे आधुनिक “बेले” नृत्य के जनक हैं, वे नृत्य के महान सुधारक भी थे।

लिवरपूल के पूर्व खिलाड़ी माइकल रॉबिन्सन का निधन

लिवरपूल के पूर्व स्ट्राइकर माइकल रॉबिन्सन का निधन। उनका जन्म 12 जुलाई, 1958 को इंग्लैंड के लीसेस्टर में हुआ था। उन्होंने इंग्लैंड में पांच क्लबों के लिए लगभग 300 से अधिक आधिकारिक मैच खेले, जिसमें लिवरपूल भी शामिल है। रॉबिन्सन 1984 में लीग कप एंड यूरोपीय कप त्रेब्ल पर कब्जा करने वाली लिवरपूल टीम का हिस्सा था। वह 1989 में सेवानिवृत्त होने के बाद स्पेन में बस गए थे, जहां उन्हें नागरिकता पुरस्कार से सम्मानित किया गया और एक लम्बा मीडिया कैरियर बिताया था। उन्हें दिसंबर 2017 में एफसी बार्सिलोना द्वारा स्पोर्ट्स जर्नलिज़्म के लिए XIII इंटरनेशनल वेज़्केज़ मोंटलबैन पुरस्कार से सम्मानित किया गया था।

ग्रैमी पुरस्कार के लिए नॉमिनेटेड होने वाले सिंगर ट्रॉय स्नेड का निधन

ग्रैमी पुरस्कार के लिए नॉमिनेटेड किए जाने वाले सुसमाचार संगीत (gospel) गायक ट्रॉय स्नेड का कोरोनावायरस के कारण निधन हो गया है। ट्रॉय स्नेड को यूथ फ़ॉर क्राइस्ट के 1999 के एल्बम 'हायर' के लिए ग्रैमी पुरस्कार के लिए नामांकित किया गया था। ट्रॉय स्नेड ने अपने संगीत कैरियर की शुरुआत 1999 में अपने पहले एल्बम 'कॉल जीसस' से की थी। उन्होंने अपना पहला एल्बम 'कॉल जीसस' मलाको रिकॉर्ड्स के साथ मिलकर रिलीज किया था। ग्रैमी के लिए नामांकित होने इस सिंगर के नाम के तहत कई हिट गाने हैं, जिनमे सुसमाचार वर्क इट आउट और माय हार्ट सेज़ यस शामिल हैं।

देशभर में स्‍व-सहायता समूहों ने एक करोड से अधिक मास्‍क तैयार किए

आवासन और शहरी कार्य मंत्रालय की दीनदयाल अंत्‍योदय योजना-राष्‍ट्रीय शहरी आजीविका मिशन के अंतर्गत देश में स्‍व-सहायता समूहों ने एक करोड़ से अधिक मास्‍क तैयार किए हैं। महाराष्‍ट्र के टिटवाला में समृद्धि परिसंघ की अध्‍यक्ष शुभांगी चंद्रकांत धायगुड़े फोन पर प्राप्‍त मांगों के अनुरूप अपने घर में मास्‍क की सिलाई करती हैं। उनके परिसंघ ने अब तक ऐसे पचास हज़ार मास्‍क तैयार किए हैं और इस काम में उन्‍हें 45 महिलाओं का सहयोग मिल रहा है। असम में नौगांव का स्‍व-सहायता समूह - रुनझुन पारंपरिक असमी गमछे से मास्‍क तैयार कर रहा है। जम्‍मू-कश्‍मीर के कठुआ में स्‍व-सहायता समूह - प्रयास के सदस्‍य तीन रंगों वाले मास्‍क तैयार कर रहा है।

Start the Quiz

« Previous Next Affairs »

Current Affairs Quiz

Here you can find Month Wise Quiz.

Quiz

Notes

Notes on many subjects with example and facts.

Notes

QUESTION

Find Question on this Topic and many other subjects

Learn More

Exam

Here You can find previous year question paper and model test for practice.

Start Exam

Download

Here you can download Current Affairs PDF.

Download

Join

Join a family of Rajasthangyan on


Contact Us Contribute About Write Us Privacy Policy About Copyright

© 2020 RajasthanGyan All Rights Reserved.