Ask Question | login | Register
Notes
Question
Quiz
Tricks
Facts

11 February 2021

असम में नामपूर स्थित बीवीएफसीएल के लिए एक सौ करोड़ रुपये के अनुदान सहायता दिए जाने के प्रस्‍ताव को स्‍वीकृति

आर्थिक मामलों से सम्‍बद्ध मंत्रिमंडलीय समिति-सीसीईए ने असम में नामपूर स्थित ब्रह्मपुत्र वैली फर्टीलाइजर्स कॉर्पोरेशन लिमिटेड-बीवीएफसीएल के लिए एक सौ करोड़ रुपये के अनुदान सहायता दिए जाने के प्रस्‍ताव को स्‍वीकृति दे दी है। इसका उद्देश्‍य इस कम्‍पनी की यूरिया उत्‍पादन ईकाइयों को कार्यरत रखना है। बीवीएफसीएल सार्वजनिक क्षेत्र की कम्‍पनी है जो भारत के पूर्वोत्‍तर भाग में स्‍थापित है। एक सौ करोड़ रुपये की अनुदान सहायता राशि से कम्‍पनी में प्रतिवर्ष तीन लाख 90 हजार मिट्रिक टन यूरिया उत्‍पादन क्षमता बहाल हो जाएगी। इससे समस्‍त पूर्वोत्‍तर क्षेत्र विशेषकर असम में चाय उद्योग और कृषि क्षेत्र को समय पर यूरिया उपलब्‍ध होगी।

पीएम मोदी ने किया विश्व सतत विकास शिखर सम्मेलन 2021 का उद्घाटन

भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 10 फरवरी को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से विश्व सतत विकास शिखर सम्मेलन 2021 (World Sustainable Development Summit 2021) का उद्घाटन किया। विश्व सतत विकास शिखर सम्मेलन का आयोजन ‘Redefining Our Common Future: Safe and Secure Environment for All’ थीम के तहत किया जाएगा। यह वर्ष शिखर सम्मेलन के 20वें संस्करण को चिह्नित करेगा।यह 10 से 12 फरवरी के बीच में आयोजित किया जाएगा।यह शिखर सम्मेलन ऊर्जा और संसाधन संस्थान (TERI) द्वारा आयोजित किया जाता है। इस शिखर सम्मेलन का आयोजन जलवायु परिवर्तन के खिलाफ लड़ने के लिए सरकारों, शिक्षाविदों, व्यापारिक नेताओं, जलवायु वैज्ञानिकों, सिविल सोसाइटी और युवाओं को एक साथ लाने के उद्देश्य से किया जाएगा।इस शिखर सम्मेलन में जलवायु वित्त, परिपत्र अर्थव्यवस्था, ऊर्जा और उद्योग संक्रमण, अनुकूलन और लचीलापन, प्रकृति आधारित समाधान, स्वच्छ महासागरों और वायु प्रदूषण इत्यादि विषयों पर विचार-विमर्श किया जाएगा। इस शिखर सम्मेलन के प्रमुख भागीदार नवीन और नवीकरणीय ऊर्जा मंत्रालय, पर्यावरण मंत्रालय, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्रालय और पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय हैं।इस शिखर सम्मेलन में मालदीव के पीपल्स मजलिस के अध्यक्ष मोहम्मद नशीद, पापुआ न्यू गिनी के प्रधानमंत्री जेम्स मारपे, संयुक्त राष्ट्र की उप-महासचिव अमीना जे मोहम्मद, गुयाना के राष्ट्रपति मोहम्मद इरफान अली और केंद्रीय पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्री प्रकाश जावड़ेकर शामिल होंगे।

प्रौद्योगिकी सूचना, पूर्वानुमान एवं मूल्यांकन परिषद् (टीआईएफएसी अर्थात् टाइफैक) ने अपना 34वां स्थापना दिवस मनाया, दो पहल- सक्षम और सीवीड मिशन लॉन्च किया

विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग के अंतर्गत कार्यरत एक स्वायत्त संगठन ‘प्रौद्योगिकी सूचना, पूर्वानुमान और मूल्यांकन परिषद् (टाइफैक)’ ने 10 फरवरी को नई दिल्ली में अपना 34वां स्थापना दिवस मनाया। स्थापना दिवस कार्यक्रम की थीम- “आत्म निर्भर भारत के लिए प्रौद्योगिकी, नवाचार और अर्थव्यवस्था” थी। इस अवसर पर टाईफैक के दो नई पहल- पहला सक्षम (श्रमिक शक्ति मंच)– एक ऐसा जॉब पोर्टल, जो एमएसएमई की ज़रूरतों और श्रमिकों के कौशल को एक साझा मंच प्रदान करेगा, जिससे श्रमिकसीधे एमएसएमई से जुड़ेंगे और करीब 10 लाख श्रमिकों को रोज़गार मिलेगा, और दूसरा राष्ट्रीय अर्थव्यवस्था को मज़बूती देने के उद्देश्य सेसमुद्री शैवालों की व्यावसायिक खेती और इसके प्रसंस्करण के लिए सीवीड मिशन (Seaweed Mission)को लॉन्च किया गया।

संसद ने ऐतिहासिक प्रमुख बंदरगाह प्राधिकरण विधेयक, 2020 पारित किया

संसद ने ऐतिहासिक प्रमुख बंदरगाह प्राधिकरण विधेयक, 2020 को पारित कर दिया। केन्द्रीय पत्तन, पोत परिवहन और जलमार्ग राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री मनसुख मंडाविया ने इस विधेयक को राज्यसभा में पेश किया और उच्च सदन द्वारा इसे पारित कर दिया गया।अब इस विधेयक को राष्ट्रपति के पास उनकी सहमति के लिए भेजा जाएगा।बंदरगाहों से जुड़े बुनियादी ढांचे के विस्तार को बढ़ावा देने और व्यापार एवं वाणिज्य को सुविधाजनक बनाने के उद्देश्य से, प्रमुख बंदरगाह प्राधिकरण विधेयक, 2020 का लक्ष्य निर्णय लेने की प्रक्रिया का विकेंद्रीकरण और प्रमुख बंदरगाहों के प्रशासन में पेशेवर रवैये का समावेश करना है। यह विधेयक प्रमुख बंदरग्राह ट्रस्ट कानून 1963 की तुलना में ज्यादा सुगठित है क्योंकि इसमें ओवरलैपिंग करने वाले और पुराने पड़ चुके अनुच्छेदों को समाप्त करके अनुच्छेदों की कुल संख्या 134 से घटाकर 76 कर दी गई है।

केंद्र सरकार ने ‘10,000 किसान उत्पादन संगठनों का गठन और संवर्धन’ योजना लांच की

भारत सरकार ने एक नई केंद्रीय क्षेत्र योजना शुरू की है जिसे “10,000 किसान उत्पादन संगठनों (एफपीओ) का गठन और संवर्धन” (Formation and Promotion of 10,000 Farmer Produce Organizations-FPOs) नाम दिया गया है। यह योजना पूरे भारत में 10,000 नए एफपीओ के निर्माण और संवर्धन के लिए एक स्पष्ट रणनीति और प्रतिबद्ध संसाधनों के साथ शुरू की गई है। एफपीओ बनाने के लिए 6,865 करोड़ रुपये आवंटित किए गए हैं। यह योजना इसलिए शुरू की गई है, क्योंकि कृषि क्षेत्र आर्थिक विकास और राष्ट्र निर्माण में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।इसके अलावा, भारत 2022 तक अपने कृषि निर्यात को दोगुना करने का प्रयास कर रहा है।लेकिन, भारत में 86% से अधिक किसान छोटे और सीमांत हैं।उन्हें प्रोत्साहित करने के लिए बेहतर प्रौद्योगिकी, साख इत्यादि सुविधाओं की आवश्यकता है। इससे उन्हें बेहतर गुणवत्ता वाली वस्तु का उत्पादन करने में मदद मिलेगी।इस प्रकार, अगर छोटे, सीमांत और भूमिहीन किसानों को एफपीओ में शामिल किया जाता है, तो इससे किसानों की आर्थिक ताकत में वृद्धि करने और बाजार से जुड़ने में में मदद मिलेगी।यह बदले में उनकी आय बढ़ाने में भी मदद करेगा।

तुर्की ने नए अंतरिक्ष कार्यक्रम की घोषणा की

तुर्की के राष्ट्रपति रेसेप तैयप एर्दोगन ने 9 फरवरी 2021 को अपने देश के महत्वाकांक्षी 10 साल के अंतरिक्ष कार्यक्रम का अनावरण किया। इस अंतरिक्ष कार्यक्रम में चंद्रमा के लिए एक मिशन, अंतरराष्ट्रीय स्तर पर व्यवहार्य उपग्रह प्रणालियों का विकास और अंतरिक्ष में तुर्की के अंतरिक्ष यात्रियों को भेजना शामिल है।इस मिशन को क्षेत्रीय और वैश्विक भूमिका में तुर्की को जगह देने के लिए राष्ट्रपति के दृष्टिकोण के हिस्से के रूप में देखा जा रहा है।तुर्की अंतरराष्ट्रीय सहयोग के साथ तुर्की के नागरिकों को अंतरिक्ष में भेजने की योजना बना रहा है।तुर्की दूसरे देशों के साथ मिलकर स्पेसपोर्ट बनाने का काम करेगा।यह उपग्रह प्रौद्योगिकी के संबंध में एक “वैश्विक ब्रांड” बनाना चाहता है।तुर्की ने वर्ष 2018 में अपनी तुर्की अंतरिक्ष एजेंसी की स्थापना की थी। राष्ट्रपति ने आगे घोषणा की, कि तुर्की ने 2023 में तुर्की गणराज्य की स्थापना के शताब्दी वर्ष को चिह्नित करने के लिए अपना पहला उपग्रह चंद्रमा पर भेजने की योजना बनाई है।चंद्रमा मिशन का पहला चरण अंतर्राष्ट्रीय सहयोग के साथ पूरा किया जाएगा।इस मिशन के दूसरे चरण में तुर्की के रॉकेट का उपयोग किया जाएगा।

अमेरिका फिर से संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद में शामिल होगा

अमेरिका के जो बाईडेन प्रशासन ने संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद में फिर से शामिल होने का निर्णय लिया है। अमेरिका ने वर्ष 2018 में डोनाल्ड ट्रम्प के कार्यकाल में परिषद से हटने का फैसला लिया था। डोनाल्ड ट्रम्प ने इजरायल के साथ भेदभाव के कारण संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद से हटने की घोषणा की थी।इज़राइल को किसी अन्य देश के मुकाबले में अब तक की सबसे अधिक संख्या में परिषद के प्रस्ताव प्राप्त हुए थे।इसलिए, ट्रम्प प्रशासन ने संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद के साथ इस मुद्दे पर चर्चा की थी। UNHRC संयुक्त राष्ट्र प्रणाली के भीतर एक अंतर-सरकारी निकाय है।यह एजेंसी दुनिया भर में मानवाधिकारों के प्रचार और संरक्षण को मजबूत करने में शामिल है।यह एजेंसी मानवाधिकारों के उल्लंघन की स्थितियों का अवलोकन करती है ।इस परिषद को 2006 में संयुक्त राष्ट्र महासभा के प्रस्ताव 60/251 द्वारा बनाया गया था।इसकी स्थापना के तीन महीने बाद 2006 में परिषद का पहला सत्र हुआ था। परिषद में 47 संयुक्त राष्ट्र सदस्य राष्ट्र शामिल हैं। इनसदस्य राज्यों को UNGA द्वारा प्रत्यक्ष और गुप्त मतदान द्वारा चुना जाता है।

अमरीका के पूर्व राष्‍ट्रपति डॉनल्‍ड ट्रम्‍प पर दूसरी बार महाभियोग की कार्रवाई सीनेट में शुरू हुई

अमरीका के पूर्व राष्‍ट्रपति डॉनल्‍ड ट्रम्‍प पर दूसरी बार महाभियोग की कार्रवाई ससंद के ऊपरी सदन- सीनेट में औपचारिक रूप से शुरू हुई। सीनेट में महाभियोग चलाने के प्रस्‍ताव पर हुए मतदान में पक्ष में 56, जबकि विपक्ष में 44 वोट पड़े। सदन ने डॉनल्‍ड ट्रम्‍प के अधिवक्‍ता की इस दलील को खारिज कर दिया कि 20 जनवरी को व्‍हाइट हाऊस छोड़ने के बाद ट्रम्‍प पर सीनेट में महाभियोग की कार्रवाई नहीं चलाई जा सकती। 56-44 के विभाजन का मतलब ये है कि मतदान में रिपब्लिकन पार्टी के छह सदस्‍यों ने महाभियोग के पक्ष में वोट डाला है। श्री ट्रंप पर पिछले महीन अमरीकी संसद यानी कांग्रेस पर हमले के लिए लोगों को भड़़काने का आरोप है।अगर श्री ट्रंप दोषी पाए जाते हैं तो वे आगे राष्‍ट्रपति पद के उम्‍मीदवार नहीं हो सकेंगे।

दिल्ली कैबिनेट ने मुख्यमंत्री विज्ञान प्रतिभा परीक्षा योजना को मंजूरी दी

दिल्ली कैबिनेट ने मुख्यमंत्री विज्ञान प्रतिभा परीक्षा को मंजूरी दे दी है, जिसमें दिल्ली के स्कूलों में कक्षा 9 के 1,000 मेधावी छात्रों को विज्ञान छात्रवृत्ति के रूप में 5,000 रुपये प्रदान किए जाएंगे। छात्रवृत्ति स्कूली स्तर पर माध्यमिक कक्षाओं में विज्ञान शिक्षा को बढ़ावा देगी। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि हमारी सरकार ने मेधावी और प्रतिभाशाली छात्रों को बढ़ावा देने के लिए यह महत्वपूर्ण कदम उठाया है। दिल्ली सरकार बच्चों के बीच उत्कृष्टता और वैज्ञानिक स्वभाव की खोज को बढ़ावा देना चाहती है। विज्ञप्ति के अनुसार, दिल्ली के स्कूलों में पढ़ने वाले छात्र जिन्होंने कक्षा 8 में 60 प्रतिशत से अधिक अंक प्राप्त किए हैं, वे परीक्षा के लिए पात्र हैं। एससी, एसटी, पीएच या ओबीसी वर्ग से संबंधित छात्रों को 5 प्रतिशत तक छूट दी जाएगी।

HOPE: UAE का मंगल मिशन

संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) ने मंगल की कक्षा में होप नामक एक प्रोब को भेजा है। इसके साथ ही यह अमेरिका, सोवियत संघ, यूरोप और भारत के बाद अंतरिक्ष यान को मंगल की कक्षा में लॉन्च करने वाला पांचवा देश बन गया है। इस अंतरिक्ष यान को सात महीने पहले पृथ्वी से लांच किया गया था।कक्षा में अंतरिक्ष यान के सफल प्रक्षेपण के साथ, यूएई के वैज्ञानिक अब ग्रह के वायुमंडल का अध्ययन कर सकते हैं।इस अंतरिक्ष यान में ऑक्सीजन और हाइड्रोजन के परमाणुओं की अंतरिक्ष में प्रतिक्रिया का अध्ययन करने के लिए तीन उपकरण हैं।होप अंतरिक्ष यान मार्स की शानदार, हाई-रिज़ॉल्यूशन चित्र भी लेगा। यूएई ने 19 जुलाई, 2020 को होप ऑर्बिटर लॉन्च किया था। ऑर्बिटर 9 फरवरी, 2021 को मंगल पर पहुंचा। इसे जापान के तनेगाशिमा स्पेस सेंटर से लॉन्च किया गया था। इस ऑर्बिटर को मित्सुबिशी हेवी इंडस्ट्रीज़ H-IIA लॉन्च व्हीकल के साथ लॉन्च किया गया था।

इसरो ने उत्तराखंड ग्लेशियर टूटने के चित्र जारी किये

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) ने उत्तराखंड के चमोली जिले में ग्लेशियर के फटने की घटना की पहली तस्वीरें जारी की हैं। ग्लेशियर के फटने से अब तक 32 लोगों की मौत हो चुकी हैं। इस घटना के बाद, सौ से अधिक लोग अभी भी लापता हैं। उपग्रह के चित्र से पता चलता है कि ऋषि गंगा और धौली गंगा नदी के जलग्रहण क्षेत्रों में फ़्लैश फ्लड की सूचना दर्ज की गई थी।चमोली जिले के रैनी गाँव के समीप प्रमुख हिमस्खलन बाढ़ का कारण बना।इन छवियों से पता चलता है कि रैनी और तपोवन में स्थित बिजली संयंत्र ग्लेशियर के टूटने से सबसे अधिक नुकसान हुआ।एक चित्र में धौली गंगा में भारी मात्रा में मलबे का जमाव दिखाई दे रहा है।एक दूसरे चित्र से पता चलता है कि तपोवन और रैनी में बांध के बुनियादी ढांचे को क्षति पहुंची है।इन चित्रों को इसरो के एडवांस्ड अर्थ इमेजिंग और मैपिंग उपग्रह कार्टोसैट-3 द्वारा कैप्चर किया गया था। वैज्ञानिक अभी भी हिमस्खलन या ग्लेशियर के टूटने के कारण के बारे में जाँच कर रहे हैं। परन्तु विशेषज्ञ मानना है कि जलवायु परिवर्तन इसका एक प्रमुख कारण सकता है। क्योंकि ग्लोबल वार्मिंग के कारण दुनिया भर में ग्लेशियर सिकुड़ रहे हैं।

भारतीय सेना ने गुलमर्ग में 100 फुट ऊंचे राष्ट्रीय ध्वज की नींव रखी

भारतीय सेना ने जम्मू-कश्मीर के गुलमर्ग के प्रसिद्ध स्की-रिसॉर्ट में सबसे ऊंचे 'आइकोनिक नेशनल फ्लैग' की आधारशिला रखी है। झंडा 100 फीट ऊंचे पोल पर होगा, जो घाटी में सबसे ऊंचा तिरंगा है। सोलर इंडस्ट्री इंडिया के साथ मिलकर भारतीय सेना गुलमर्ग में 'आइकॉनिक नेशनल फ्लैग' स्थापित करेगी। प्रतिष्ठित राष्ट्रीय ध्वज की आधारशिला डैगर डिवीजन जनरल ऑफिसर कमांडिंग (GoC) मेजर जनरल वीरेंद्र वत्स ने बॉलीवुड अभिनेता-निर्माता अरबाज खान और अभिनेत्री विद्या बालन के साथ रखी। यह प्रतिष्ठित भारतीय राष्ट्रीय ध्वज कई मायनों में पहला होगा। कश्मीर के बर्फ से ढके पहाड़ों के बीच यह स्थल एक अन्य पर्यटक आकर्षण बनने की उम्मीद है।

कर्नाटक डिजिटल अर्थव्यवस्था मिशन कार्यालय को लांच किया गया

हाल ही में कर्नाटक डिजिटल अर्थव्यवस्था मिशन (Karnataka Digital Economy Mission-KDEM) के कार्यालय का उद्घाटन कर्नाटक में किया गया। इस कार्यालय का उद्घाटन सकल राज्य घरेलू उत्पाद (जीएसडीपी) में डिजिटल अर्थव्यवस्था के योगदान को 30 प्रतिशत तक बढ़ाने के उद्देश्य से किया गया है। इस कार्यालय के साथ, “बियॉन्ड बेंगलुरु” रिपोर्ट भी प्रकाशित की गई जो योगदान बढ़ाने के लक्ष्य को प्राप्त करने की सुविधा प्रदान करेगी।इस मिशन की स्थापना एक सार्वजनिक-निजी भागीदारी मॉडल पर की गई है। इस मिशन में, इंडिया इलेक्ट्रॉनिक्स और सेमीकंडक्टर एसोसिएशन (IESA), NASSCOM, एसोसिएटेड चैंबर्स ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री ऑफ इंडिया (एसोचैम) और विज़न ग्रुप स्टार्ट-अप्स जैसे उद्योगों की 51% हिस्सेदारी है।इस कार्यालय को अधिक उद्योग के अनुकूल बनाने के लिए उद्योगों में 51% हिस्सेदारी की अनुमति दी गई है।जबकि 49 फीसदी हिस्सेदारी सरकार के पास रखी गई है।

ऑर्बिटल ट्रान्सफर व्हीकल के लिए स्कायरूट और बेलाट्रिक्स के बीच समझौता

स्कायरूट द्वारा विकसित किए जा रहे लॉन्च वाहनों की विक्रम श्रृंखला के ऊपरी चरण में, बेलाट्रिक्स एयरोस्पेस द्वारा विकसित किए जा रहे ऑर्बिटल ट्रांसफर वाहन (Orbital Transfer Vehicle) का उपयोग करने के लिए, स्कायरूट एयरोस्पेस ने बेलैट्रिक्स एयरोस्पेस के साथ एक समझौता ज्ञापन (MoU) पर हस्ताक्षर किए हैं। वाहन के विक्रम रॉकेट पर 2023 में पृथ्वी की निम्न कक्षा में लॉन्च होने की संभावना है। वाहन से वैश्विक ऑपरेटरों को संचार और पृथ्वी अवलोकन उपग्रहों को लॉन्च करने के लिए समय और लागत कम करने में मदद करने की संभावना है।

बायो एशिया 2021, 22 से 23 फरवरी, 2021 के बीच आयोजित किया जाएगा

बायोएशिया का 18वां संस्करण 22 फरवरी, 2021 से 23 फरवरी, 2021 के बीच आयोजित किया जाएगा। इसका आयोजन ‘मूव द नीडल’ थीम के तहत किया जाएगा। इस साल, बायोएशिया इवेंट कोविड-19, फार्मा, मेडटेक और वैश्विक स्वास्थ्य पर केंद्रित होगा।इस आयोजन में कई प्रकार के पैनल शामिल होंगे। पैनल इस बात पर ध्यान केंद्रित करेंगे कि कैसे कोविड-19 महामारी के कारण जीव विज्ञान उद्योग में किस प्रकार के बदलाव आये हैं। इस इवेंट जीवन विज्ञान उद्योग के लिए महत्व के विषयों पर चर्चा करने के लिए एक प्लेटफार्म प्रदान करेगा।इस आयोजन का एक सत्र मेडिकल टेक्नोलॉजीज की संभावनाओं पर केंद्रित होगा जो भारत के लिए अगला बड़ा अवसर बन रहा है।मेडिकल टेक्नोलॉजीज के क्षेत्र में भारत आयातक की बजाय निर्यातक बन सकता है।इस इवेंट में आपूर्ति श्रृंखला लचीलापन, नवीन दवाओं तक पहुंच, नवाचार और अनुसंधान पर विश्लेषण भी किया जायेगा।

14वाँ अंतर्राष्ट्रीय बाल फिल्म महोत्सव बांग्लादेश में संपन्न

बांग्लादेश का 14वां अंतर्राष्ट्रीय बाल फिल्म महोत्सव (ICFFB) ढाका में समाप्त हो गया है। समापन समारोह में विजेताओं को कुल 12 पुरस्कार प्रदान किए गए। बांग्लादेश के चिल्ड्रन्स फिल्म सोसाइटी (CFS) द्वारा आयोजित 7-दिवसीय समारोह के दौरान 37 देशों की 179 फिल्मों को विभिन्न स्थानों पर दिखाया गया। कार्यक्रम के दौरान बांग्लादेश के अलावा, भारत, आर्मेनिया, अमेरिका, यूके, आयरलैंड, जापान और चीन की फिल्में दिखाई गईं। डच फिल्म जैकी और ऊपजेन को सर्वश्रेष्ठ अंतर्राष्ट्रीय फीचर फिल्म पुरस्कार से सम्मानित किया गया। बांग्लादेशी फिल्म माटी को द यंग टैलेंट अवार्ड मिला जबकि लॉटरी ने यंग टैलेंट अवार्ड के तहत विशेष उल्लेख हासिल किया।

संगीत पॉल चौधरी ने लिखी "प्लेटफ़ॉर्म स्केल: फॉर ए पोस्ट-पांडेमिक वर्ल्ड"

'प्लेटफ़ॉर्म स्केल: फॉर ए पोस्ट-पांडेमिक वर्ल्ड’ नामक पुस्तक संगीत पॉल चौधरी द्वारा लिखी गई है। इसे पेंगुइन रैंडम हाउस इंडिया ने प्रकाशित किया है। यह प्लेटफार्म बिज़नस मॉडल के आंतरिक कामकाज के महत्व और तेजी से पैमाने पर उनकी क्षमता को समझाता है। प्लेटफ़ॉर्म स्केल का पहला संस्करण 2015 में प्रकाशित हुआ था।

एम हामिद अंसारी ने लिखी 'बाय मेनी ए हैप्पी एक्सीडेंट: रिकलेक्शन ऑफ ए लाइफ'

बाय मेनी ए हैप्पी एक्सीडेंट: रिकलेक्शन ऑफ ए लाइफ’ नामक पुस्तक एम हामिद अंसारी द्वारा लिखी गई है। मोहम्मद हामिद अंसारी 2007 से 2017 तक लगातार दो बार भारत के उपराष्ट्रपति और राज्यसभा के सभापति रहे। एक पूर्व राजनयिक, उन्होंने संयुक्त अरब अमीरात, अफगानिस्तान, ईरान और सऊदी अरब में ऑस्ट्रेलिया के उच्चायुक्त और न्यूयॉर्क में संयुक्त राष्ट्र में स्थायी प्रतिनिधि के रूप में राजदूत के रूप में कार्य किया।

ईशांत शर्मा 300 टेस्ट विकेट लेने वाले तीसरे भारतीय तेज गेंदबाज बने

भारतीय तेज गेंदबाज ईशांत शर्मा टेस्ट क्रिकेट में 300 विकेट लेने वाले देश के छठे भारतीय और तीसरे पेसर बने। 32 वर्षीय ईशांत को इस मुकाम पर पहुंचने में 98 मैच लगे, क्लब में अन्य भारतीय गेंदबाजों की तुलना में अधिक है। यह उपलब्धि ईशांत ने उस समय पायी, जब उन्होंने ओपनिंग टेस्ट के चौथे दिन इंग्लैंड की दूसरी पारी में डैन लॉरेंस को पगबाधा कर विकेट लिया। अनिल कुंबले (619) और कपिल देव (434) के अलावा, रविचंद्रन अश्विन (इस खेल से पहले 377), हरभजन सिंह (417), और ज़हीर खान (311) इस मुकाम पर पहुँचने वाले देश के अन्य गेंदबाज हैं।

10 फरवरी : विश्व दाल दिवस

सरकारें पोषक तत्व और खाद्य सुरक्षा के लिए दालों का महत्व समझाने के लिए विश्व दलहन दिवस मनाती हैं। हर साल हर साल 10 फरवरी को विश्व दलहन दिवस यानी वर्ल्ड पल्स डे( World Pulses Day 2021 ) मनाया जाता है। इसका मकसद दलहन की पैदावार को बढ़ावा देना है। पहली बार 2016 को अंतरराष्ट्रीय दाल वर्ष घोषित किया था। 10 फरवरी, 2019 को प्रथम दाल दिवस के रूप में मनाया गया है। दालें पोषण से भरपूर होती हैं, इनमे प्रोटीन की मात्रा काफी अधिक होती है। यह उन क्षेत्रों के लिए विशेष उपयोगी होती हैं जहाँ पर मांस तथा दुग्ध उत्पादों की कमी होती है। दालों में वसा कम होता है जबकि घुलनशील रेशे अधिक होती है। यह कोलेस्ट्रोल तथा ब्लड शुगर को कम करने में काफी उपयोगी हैं। मोटापा कम करने के लिए भी दालें काफी उपयोगी होती हैं।

कर्नाटक में रेत की निर्बाध आपूर्ति सुनिश्चित करने के लिए नई रेत नीति की घोषणा

कर्नाटक के खदान और भूविज्ञान मंत्री मुरुगेश निरानी ने आम आदमी को रेत की निर्बाध आपूर्ति सुनिश्चित करने के लिए नई रेत नीति की घोषणा की। नए रेत प्रावधानों से आश्रय और सरकार की अन्य आवासीय योजनाओं से जनता को लाभ मिलेगा। राज्‍य में एक एकल खिडकी एजेंसी से 183 रेत ब्लॉकों से रेत की निकासी की जाएगी। झारखंड में धनबाद में राष्ट्रीय खान विश्वविद्यालय की ही तरह कर्नाटक में भी एक खदान विश्वविद्यालय स्थापित किया जाएगा।

Start the Quiz

« Previous Next Affairs »

Current Affairs Quiz

Here you can find Month Wise Quiz.

Quiz

Notes

Notes on many subjects with example and facts.

Notes

QUESTION

Find Question on this Topic and many other subjects

Learn More

Exam

Here You can find previous year question paper and model test for practice.

Start Exam

Download

Here you can download Current Affairs PDF.

Download

Join

Join a family of Rajasthangyan on


Contact Us Contribute About Write Us Privacy Policy About Copyright

© 2021 RajasthanGyan All Rights Reserved.