Ask Question | login | Register
Notes
Question
Quiz
Tricks
Facts

6 May 2021

ममता बनर्जी तीसरी बार बंगाल की मुख्यमंत्री बनीं

पश्चिम बंगाल में तृणमूल कांग्रेस प्रमुख ममता बनर्जी ने लगातार तीसरी बार राज्य के मुख्यमंत्री के रूप में शपथ ली। राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने कोविड नियमों का पालन करते हुए उन्हें कोलकाता के राजभवन में आयोजित एक सादे समारोह में पद और गोपनीयता की शपथ दिलाई। दिल्‍ली की पूर्व मुख्‍यमंत्री स्‍वर्गीय शीला दीक्षित के बाद सुश्री बैनर्जी लगातार तीन बार किसी भी राज्य की मुख्यमंत्री के रूप में शपथ लेने वाली देश की दूसरी महिला बन गई हैं। ये दूसरा मौका है जब ममता बंगाल विधानसभा की विधायक नहीं होने के बाद भी प्रदेश की कमान संभाल रही हैं। इससे पहले 2011 में जब ममता पहली बार मुख्यमंत्री बनी थीं तो वो लोकसभा सांसद थीं। इस बार वो नंदीग्राम से अपने पुराने सहयोगी और भाजपा उम्मीदवार शुभेंदु अधिकारी से चुनाव हार गई हैं। हार के बाद भी ममता राज्य की मुख्यमंत्री बन सकती हैं, लेकिन छह महीने के भीतर उन्हें राज्य की किसी विधानसभा सीट से चुनाव जीतना होगा। अगर ऐसा नहीं होता तो उन्हें मुख्यमंत्री का पद छोड़ना पड़ेगा। संविधान का आर्टिकल 164(4) कहता है कि कोई भी व्यक्ति किसी राज्य में मंत्री पद की शपथ ले सकता है, लेकिन छह महीने के भीतर उसे किसी विधानसभा क्षेत्र से चुनकर आना होगा। अगर राज्य में विधान परिषद है तो वो MLC के रूप में भी चुना जा सकता है। मुख्यमंत्री भी एक मंत्री होता है, इसलिए यही नियम उस पर भी लागू होता है।

रिजर्व बैंक ने आपात स्वा‍स्थ्य सेवाओं तक आसान पहुंच के लिए पचास हजार करोड़ रुपए की सावधि तरलता सुविधा देने का प्रस्ताव किया

रिजर्व बैंक के गवर्नर शक्तिकांत दास ने कहा है कि बैंक कोरोना संक्रमण से उत्‍पन्‍न वर्तमान स्थिति पर नजर रखे हुए है और इससे निपटने के सभी संभव प्रयास करेगा। विभिन्न सोशल मीडिया प्लेटफार्मों के माध्यम से उन्‍होंने कहा कि वृहद आर्थिक स्थिति और वित्तीय बाजार की स्थिति के निरंतर मूल्यांकन के आधार पर वह आपातकालीन स्वास्थ्य सेवाओं तक पहुंच को आसान बनाने के लिए पचास हजार करोड़ रुपये की सावधि तरलता सुविधा का प्रस्ताव करता है। इसके अलावा देश में कोविड संबंधित स्वास्थ्य सुविधाओं में तेजी लाने के लिए मौजूदा रेपो दर पर तीन साल तक के लिए पचास हजार करोड़ रूपये के कर्ज भी उपलब्‍ध कराए जाएंगे। श्री दास ने कहा कि इस योजना के तहत बैंक, वैक्सीन उत्‍पादकों समेत अन्‍य संस्थाओं को ऋण सहायता प्रदान कर सकते हैं। यह ऋण सहायता टीके और प्राथमिकता वाले चिकित्सा उपकरणों के आयातकों और आपूर्तिकर्ताओं, अस्पतालों, जांच प्रयोगशालाओं, ऑक्सीजन और वेंटिलेटर के निर्माताओं और आपूर्तिकर्ताओं तथा टीके और कोविड संबंधी दवाओं के आयातकों को भी उपलब्‍ध होगी।

आईडीबीआई बैंक लिमिटेड में रणनीतिक विनिवेश और प्रबंधन नियंत्रण के हस्‍तांतरण को सैद्धांतिक मंजूरी

आर्थिक मामलों की मंत्रिमंडलीय समिति ने आईडीबीआई बैंक लिमिटेड में रणनीतिक विनिवेश और प्रबंधन नियंत्रण के हस्‍तांतरण को सैद्धांतिक मंजूरी दे दी। फिलहाल एलआईसी आईडीबीआई बैंक का प्रोमोटर है तथा प्रबंधन का नियंत्रण भी उसके पास है। भारत सरकार इस बैंक की सह-प्रोमोटर है। भारत सरकार और एलआईसी के शेयर होल्डिंग में विनिवेश की सीमा भारतीय रिजर्व बैंक के परामर्श से बैंक के पुनर्गठन के समय तय की जाएगी। भारत सरकार और एलआईसी की आईडीबीआई बैंक में 94 प्रतिशत से अधिक हिस्‍सेदारी है। इसमें भारत सरकार के 45 दशमलव चार आठ प्रतिशत और एलआईसी की 49 दशमलव दो-चार प्रतिशत शेयर है।

मारिया रेसा को यूनेस्को विश्व प्रेस स्वतंत्रता पुरस्कार 2021 सम्मान

मारिया रेसा (Maria Ressa) को यूनेस्को/गुइलेर्मो कैनो विश्व प्रेस स्वतंत्रता पुरस्कार के 2021 पुरस्कार विजेता के रूप में नामित किया गया है। इस पुरस्कार का नाम कोलम्बियाई पत्रकार गुइलेर्मो कैनो इसाज़ा (Guillermo Cano Isaza) के नाम पर रखा गया था। यूनेस्को ने रेसा के एक पत्रकार के रूप में 3 दशक के करियर का हवाला देते हुए, एशिया के लिए सीएनएन के प्रमुख खोजी रिपोर्टर के रूप में और फिलीपीन ब्रॉडकास्ट ABS-CBN के समाचार प्रमुख के रूप में उनके काम को शामिल किया। मारिया वेब न्यूज़ पोर्टल राप्प्लेर डॉट कॉम की संस्थापक हैं और इससे पहले वे सीएनएन और एबीएस-सीबीएन के साथ काम कर चुकी हैं। सरकार के विरुद्ध लिखने के कारण उन पर फिलीपींस की सरकार द्वारा अलग-अलग मामलों में 11 मुकदमे दायर किये गए हैं, कुछ में उन्हें दोषी भी करार दिया गया है, पर वे जमानत पर जेल से बाहर हैं और निर्भीकता से पत्रकारिता कर रही हैं।।

सिक्किम में भारतीय सेना का पहला ग्रीन सोलर एनर्जी हार्नेसिंग प्लांट

भारतीय सेना ने हाल ही में सिक्किम में पहला ग्रीन सोलर एनर्जी हार्नेसिंग प्लांट (Green Solar Energy Harnessing Plant) शुरू किया। इसे भारतीय सेना के सैनिकों को लाभ पहुंचाने के लिए लॉन्च किया गया था। यह प्लांट वैनेडियम (Vanadium) आधारित बैटरी तकनीक का उपयोग करता है। इसे 16,000 फीट की ऊंचाई पर बनाया गया है। इस प्लांट की क्षमता 56 KVA है। यह आईआईटी मुंबई के सहयोग से पूरा हुआ है।

सशस्त्र बलों ने COVID रोगियों के मानसिक स्वास्थ्य के लिए ऑपरेशन "CO-JEET" लॉन्च किया

सशस्त्र बलों ने भारत में चिकित्सा प्रणाली को मजबूत करने और ऑक्सीजन आपूर्ति श्रृंखलाओं की तरह, एंटी-कोविड -19 प्रयासों की सहायता के लिए ऑपरेशन "CO-JEET(CO-JEET stands for co-workers of all the three services who will finally achieve 'Jeet' [victory] over COVID)" शुरू किया है। ​इनके साथ-साथ, CO-JEET लोगों की मानसिक स्वास्थ्य को सुनिश्चित करने के लिए भी उपाय करता है। एकीकृत रक्षा स्टाफ (मेडिकल) की उप प्रमुख लेफ्टिनेंट जनरल डॉ माधुरी कानितकर ने कहा, "मेडिकल थेरेपी के अलावा, रोगियों को आश्वस्त होने की आवश्यकता है कि वे ठीक हो जाएंगे और तनाव के समय में, अगर आपके पास कोई बात करने के लिए है, तो इससे बहुत फर्क पड़ता है"। एकीकृत रक्षा स्टाफ (मेडिकल) की डिप्टी चीफ डॉ माधुरी कानिटकर सशस्त्र बलों में थ्री स्टार जनरल बनने वाली तीसरी महिला हैं। वाइस एडमिरल डॉ. पुनीता अरोड़ा और एयर मार्शल पद्मावती बंदोपाध्याय पहली और दूसरी हैं।

केंद्रीय मंत्रिमंडल ने वैश्विक नवाचार सहभागिता के बारे में समझौता ज्ञापन पर हस्‍ताक्षर को मंजूरी दी

प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मादी की अध्‍यक्षता में केंद्रीय मंत्रिमंडल ने वैश्विक नवाचार सहभागिता के बारे में विदेश मंत्रालय और ब्रिटेन के विदेश, राष्‍ट्रमंडल और विकास कार्यालय के बीच समझौता ज्ञापन पर हस्‍ताक्षर को मंजूरी दे दी है। इस समझौता ज्ञापन के जरिये भारत और ब्रिटेन वैश्विक नवाचार सहभागिता शुरू करने पर सहमत हो गए हैं। इससे भारतीय अन्‍वेषक, नई-नई सोच के साथ सामने आएंगे तथा उन्‍हें नए बाजार तलाशने और आत्‍मनिर्भर बनने में मदद मिलेगी। इस सहभागिता से भारत में नवाचार तंत्र भी मजबूत होगा। वैश्विक नचाचार सहभागिता के अंर्तगत चुने गए अन्‍वेषक सतत विकास लक्ष्‍यों की प्राप्ति को गति देंगे। इस सहभागिता के जरिये सीमापार नवाचार के आदान-प्रदान के लिए खुले और समावेशी ई-बाजार का विकास होगा।

केंद्रीय मंत्रिमंडल ने भारत और यूनाइटेड किंगडम ऑफ ग्रेट ब्रिटेन तथा नार्दर्न आयरलैंड के बीच प्रवास और आवागमन के लिये समझौता-ज्ञापन को मंजूरी प्रदान की

प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी की अध्यक्षता में केंद्रीय मंत्रिमंडल ने प्रवास और आवागमन के मद्देनजर भारत और यूनाइटेड किंगडम ऑफ ग्रेट ब्रिटेन तथा नार्दर्न आयरलैंड के बीच समझौता-ज्ञापन पर हस्ताक्षर करने को मंजूरी दे दी है। यह समझौता-ज्ञापन भारत सरकार और यूनाइटेड किंगडम ऑफ ग्रेट ब्रिटेन की महारानी की सरकार (इंग्लैंड, वेल्स, स्कॉटलैंड और आयरलैंड) तथा नार्दर्न आयरलैंड के बीच है। समझौता-ज्ञापन का उद्देश्य वीजा प्रक्रिया को उदार बनाना है, ताकि छात्रों, शोधकर्ताओं और कुशल पेशेवरों का आवागमन आसान हो तथा दोनों तरफ अनियमित प्रवास और मानव तस्करी सम्बन्धी मुद्दों पर सहयोग को मजबूत करना है।समझौता-ज्ञापन से भारतीय छात्रों, अकादमिशियनों और शोधकर्ताओं, पेशेवरों और आर्थिक कारणों से प्रवास करने वाले लोगों को लाभ मिलेगा।

स्विस कंपनी के एंटीबॉडी कॉकटेल को भारत में इमरजेंसी यूज की इजाजत

स्विस फार्मा कंपनी रोशे की कोरोना के इलाज में इस्तेमाल होने वाली एंटीबॉडी कॉकटेल को भारत में इस्तेमाल को इमरजेंसी यूज की मंजूरी मिल गई है। कंपनी ने बुधवार को यह जानकारी दी। कंपनी ने बताया कि उसके एंटीबॉडी कॉकटेल को सेंट्रल ड्रग्स स्टैंडर्ड्स कंट्रोल ऑर्गेनाइजेशन (CDSCO) से अप्रूवल मिल गया है। यह अप्रूवल अमेरिका और यूरोपियन यूनियन में इमरजेंसी यूज के लिए दिए गए डेटा के आधार पर मिला है। अब तक भारत में कोरोना से बचाव के लिए दो वैक्सीन कोवीशील्ड और कोवैक्सिन इस्तेमाल हो रही हैं। रूसी वैक्सीन स्पुतनिक-V का शिपमेंट भी भारत आ चुका है। जल्द ही इसका भी यूज होने लगेगा। कोरोना के तेजी से बढ़ते मामलों को देखते हुए भारत सरकार ने हर उस वैक्सीन को देश में इस्तेमाल करने की इजाजत दी है, जिसे अमेरिका, यूरोप, ब्रिटेन और WHO अप्रूव कर चुके हैं।

भारत और ब्रिटेन ने द्विपक्षीय संबंधों को व्यापक रणनीतिक साझेदारी तक ले जाने की महत्वाकांक्षी कार्य योजना 2030 को स्वीकृति दी

प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी और ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉन्‍सन ने द्विपक्षीय संबंधों को व्‍यापक रणनीतिक साझेदारी तक ले जाने की महत्‍वाकांक्षी कार्य योजना 2030 को मंजूरी दी है। इससे अगले दस वर्ष में दोनों देशों के लोगों के बीच सम्‍पर्क, व्‍यापार और अर्थव्‍यवस्‍था, रक्षा और सुरक्षा, जलवायु परिवर्तन और स्‍वास्‍थ्य क्षेत्र में आपसी सहयोग और मजबूत होगा। दोनों नेताओं के बीच हुई वर्चुअल शिखर बैठक मे कोविड स्थिति और महामारी से निपटने के प्रयासों में सहयोग और कोविड वैक्सीन के संबंध में सफल साझेदारी पर विचार-विमर्श हुआ। दोनों प्रधानमंत्रियों ने वर्ष 2030 तक द्विपक्षीय व्‍यापार दोगुने से भी अधिक करने के महत्‍वाकांक्षी लक्ष्‍य के साथ संवर्धित व्‍यापार साझेदारी का शुभारम्‍भ किया। इसके तहत भारत और ब्रिटेन एक व्‍यापक और संतुलित मुक्त व्‍यापार समझौते की कार्य योजना बनाने पर भी सहमत हुए। व्‍यापार साझेदारी बढने से दोनों देशों में प्रत्‍यक्ष और अप्रत्‍यक्ष रोजगार के अनेक अवसर सृजित होंगे।

कोशिकीय और आणविक जीव विज्ञान केन्‍द्र में कोविड उपचार के लिए संभवत: पहली विशिष्‍ट औषधि विकसित की है।

सीएसआईआर - कोशिकीय और आणविक जीव विज्ञान केन्‍द्र में कोविड उपचार के लिए संभवत: पहली विशिष्‍ट औषधि विकसित की है। इस औषधि में एंटीबॉडी गुण मौजूद हैं। भारतीय औषध महानियंत्रक ने मनुष्‍यों पर इसके परीक्षण की अनुमति दे दी है। विनकोव-19 के लिए पहले और दूसरे चरण के परीक्षण अगले सप्‍ताह दिल्‍ली और राजस्‍थान में शुरू होने की सम्‍भावना है। इस औषधि को सीसीएमबी, हैदराबाद विश्‍वविद्यालय और विन्‍स बायो प्रोडक्‍ट लिमिटेड ने संयुक्‍त रूप से विकसित किया है।

SAIL 100 सबसे मूल्यवान भारतीय फर्मों की सूची में शामिल हुआ

बीएसई पर सेल का स्टॉक नौ साल के उच्च स्तर 135.60 रुपये पर पहुंच गया है। पिछले छह हफ्तों में सेल के शेयरों में 85% की वृद्धि हुई है। इसने 100 सबसे मूल्यवान भारतीय फर्मों की सूची में प्रवेश किया है। यह इस्पात मंत्रालय के अधीन काम करता है। SAIL का वार्षिक टर्न ओवर लगभग 10 बिलियन अमरीकी डालर है। इसमें पांच बड़े एकीकृत स्टील प्लांट हैं। वे राउरकेला स्टील प्लांट, भिलाई स्टील प्लांट, दुर्गापुर स्टील प्लांट, IISCO और बोकारो स्टील प्लांट हैं। ये प्लांट चार राज्यों अर्थात् ओडिशा, छत्तीसगढ़, पश्चिम बंगाल और झारखंड में फैले हुए हैं। इसके अलावा, इसमें तीन विशेष स्टील प्लांट हैं, जैसे विश्वेशरैय्या आयरन एंड स्टील प्लांट, सलेम स्टील प्लांट, अलॉय स्टील प्लांट और चंद्रपुर में फेर्री एलॉय प्लांट।

कोरोनावायरस का N प्रोटीन और संचरण (transmission) में इसकी भूमिका

इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ साइंस एजुकेशन एंड रिसर्च (Indian Institute of Science Education and Research) के शोधकर्ताओं ने हाल ही में बताया कि स्पाइक प्रोटीन के अलावा, COVID -19 वायरस में अन्य प्रोटीन जैसे कि न्यूक्लियोकैस्पिड प्रोटीन (Nucleocaspid protein) या एन प्रोटीन (N protein) भी वायरस के संचरण (या संक्रामकता) में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। इस प्रकार, यह केवल स्पाइक प्रोटीन के आधार पर एंटीबॉडी, चिकित्सीय दवाओं और प्रवेश अवरोधकों को विकसित करना पर्याप्त नहीं है। COVID-19 में एक RNA जीनोम होता है जो एक गोलाकार संरचना से घिरा होता है। इस संरचना में विभिन्न प्रकार के प्रोटीन शामिल हैं। उनमें से एक स्पाइक प्रोटीन है। शोधकर्ताओं के अनुसार, एन प्रोटीन या न्यूक्लियोकैप्सिड प्रोटीन में अन्य प्रोटीन की तुलना में अधिक संक्रामकता होती है।शोधकर्ताओं ने यह भी पाया है कि स्पाइक छद्म प्रकार को बेअसर करने वाले एंटीबॉडी एन प्रोटीन के खिलाफ कम प्रभावी थे।

मेघालय में सॉरोपोड्स की 100 मिलियन वर्ष पुरानी हड्डियों की खोज की गयी

भारतीय भूवैज्ञानिक सर्वेक्षण (Geological Survey of India) के शोधकर्ताओं ने हाल ही में सॉरोपोड डायनासोर (Sauropod dinosaurs) के जीवाश्म हड्डी के टुकड़े पाए। वे 100 मिलियन वर्ष के थे। ये डायनासोर की हड्डियाँ मेघालय के पश्चिम खासी पहाड़ियों (West Khasi Hills) में पाई गई थीं। यह इस क्षेत्र में सॉरोपोड की खोज की पहली घटना है। उनकी गर्दन लंबी, छोटे सिर, लंबी पूंछ और स्तंभ की तरह 4 पैर होते थे। मेघालय ऐसा 5वां राज्य बन गया है जहाँ सॉरोपोड्स के साक्ष्य मिले हैं, इससे पहले गुजरात, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र और तमिलनाडु में इस तरह के साक्ष्य पहले ही मिल हैं। इसके अलावा, मेघालय उत्तर-पूर्व में एकमात्र राज्य है जहाँ सॉरोपोड की हड्डियाँ मिली हैं। पहली डायनासोर की हड्डी की खोज जबलपुर छावनी के बड़ा सिमला हिल (Bara Simla Hill) में की गई थी।

Parker Solar Probe: शुक्र ग्रह से रेडियो संकेत मिले

नासा के अंतरिक्ष यान पार्कर सोलर प्रोब (Parker Solar Probe) ने शुक्र ग्रह से एक प्राकृतिक रेडियो सिग्नल की खोज की है। इन संकेतों का पता तब चला जब इस स्पेस प्रोब ने शुक्र के ऊपरी वायुमंडल पर उड़ान भरी। पार्कर सोलर प्रोब ने शुक्र के वायुमंडल को मापा है। यह 30 वर्षों में शुक्र ग्रह के वायुमंडल का पहला प्रत्यक्ष माप है। पार्कर सोलर प्रोब के निष्कर्षों के अनुसार, पृथ्वी की ही तरह, शुक्र ग्रह के भी ऊपरी वायुमंडल में गैस की एक विद्युत आवेशित परत होती है जिसे आयनमंडल (ionosphere) कहते हैं। इस परत में आवेशित कणों से इस प्रोब के द्वारा रेडियो सिग्नल को पकड़ा गया था। इसके अलावा, स्पेस प्रोब ने पुष्टि की है कि ऊपरी शुक्र वायुमंडल एक सौर चक्र में परिवर्तन से गुजरता है।

अंतरिक्ष में चीनी राकेट बेकाबू, धरती पर चिंता

बेकाबू हो चुके चीनी राकेट लांगमार्च 5बी पृथ्वी पर पुन: प्रवेश के दौरान तबाही मचा सकता है। इसे लेकर विश्व में चिंता जताई जा रही है। अमेरिकी सरकार ने चेतावनी जारी करते हुए कहा कि 21 टन का यह राकेट आठ मई के आसपास कभी भी पृथ्वी के वायुमंडल में प्रवेश कर सकता है। अमेरिकी रक्षा मंत्रलय के प्रवक्ता ने इस राकेट के वायुमंडल में पुन: प्रवेश की संभावित तारीख बताते हुए कहा कि फिलहाल यह बता पाना मुश्किल है कि यह पृथ्वी के वायुमंडल में किस क्षेत्र से प्रवेश करेगा। स्पेस ट्रैक पर इस राकेट की स्थिति के बारे में नियमित जानकारी दी जा रही है। इसे 2021-035बी नाम दिया गया है। यह प्रति सेकंड चार मील की गति से चल रहा है। पिछले सप्ताह अंतरिक्ष में चीन के आगामी स्पेस स्टेशन के पहले बिल्डिंग ब्लाक तिआनहे को भेजने के लिए लांगमार्च 5बी का इस्तेमाल किया गया था। तिआनहे को चीन के हैनान प्रांत स्थित सेंटर से लांग मार्च 5बी के जरिये 29 अप्रैल को लांच किया गया था।

पेप्सीको फाउंडेशन COVID केयर सेंटर स्थापित करने के लिए SEEDS के साथ की साझेदारी

पेप्सीको की परोपकारी शाखा, पेप्सीको फाउंडेशन (PepsiCo Foundation) ने कहा कि उसने सामुदायिक COVID-19 टीकाकरण अभियान शुरू करने और COVID केयर सेंटर स्थापित करने के लिए नॉट-फॉर-प्रॉफिट ऑर्गनाइजेशन, सस्टेनेबल एनवायरनमेंट एंड इकोलॉजिकल डेवलपमेंट सोसाइटी (SEEDS) के साथ साझेदारी की है। ​महाराष्ट्र, पंजाब, पश्चिम बंगाल, उत्तर प्रदेश और तेलंगाना पर ध्यान केंद्रित करने के लिए। साझेदारी के हिस्से के रूप में, SEEDS बड़े पैमाने पर समुदाय के लिए कोविड-19 टीकाकरण चलाएंगे, बेड और चिकित्सा सुविधाओं से लैस कोविड केयर सेंटर स्थापित करेंगे, जिनमें ऑक्सीजन सिलेंडर शामिल हैं। पेप्सीको इंडिया ने एक बयान में कहा कि 1 लाख से अधिक वैक्सीन की खुराक समुदायों को प्रदान की जाएगी, जिन्हें स्थानीय स्वास्थ्य प्रणाली के माध्यम से प्रशासित किया जाएगा, जबकि तीन महीने में पांच COVID केयर सेंटर स्थापित किए जाएंगे, जिनमें ऑक्सीजन सिलिंडर सहित बेड और मेडिकल सुविधाएं होंगी। इसके अलावा, राज्यों में विभिन्न सरकारी अस्पतालों में वितरण के लिए केंद्र सरकार को 100 से अधिक ऑक्सीजन सांद्रता प्रदान की जाएगी।

गोल्डमैन सैक्स ने FY22 में भारत की जीडीपी की वृद्धि का अनुमान 11.1% तक घटाया

वाल स्ट्रीट ब्रोकरेज, गोल्डमैन सैक्स (Goldman Sachs) ने कोरोनोवायरस संक्रमण के प्रसार की जाँच करने के लिए राज्यों में लॉकडाउन की बढ़ती तीव्रता के कारण भारतीय अर्थव्यवस्था के लिए FY22 (01 अप्रैल, 2021 से 31 मार्च, 2022) में जीडीपी की वृद्धि दर के अनुमान में 11.1% तक कटौती की है। गोल्डमैन सैक्स ने 2021 कैलेंडर ईयर ग्रोथ के पूर्वानुमान को भी पिछले अनुमान 10.5 प्रतिशत से संशोधित कर 9.7 प्रतिशत कर दिया गया है।

ICC के भ्रष्टाचार-रोधी कोड के उल्लंघन के लिए नुवान जोयसा पर लगा 6 साल का प्रतिबंध

श्रीलंका के पूर्व खिलाड़ी और कोच, नुवान जोयसा (Nuwan Zoysa) को ICC के भ्रष्टाचार निरोधक न्यायाधिकरण ने ICC भ्रष्टाचार-विरोधी संहिता को भंग करने का दोषी पाए जाने के बाद सभी क्रिकेट पर छह साल के लिए प्रतिबंध लगा दिया है। जोयसा के लिए प्रतिबंध 31 अक्टूबर 2018 के लिए पूर्व-दिनांकित किया गया, जब उन्हें अस्थायी रूप से निलंबित कर दिया गया था। जोयसा "एक समझौते के पक्ष में या मैच फिक्स करने के लिए या एक अंतरराष्ट्रीय मैच के परिणाम, प्रगति, आचरण या किसी अन्य पहलू (ओं) को अनुचित तरीके से प्रभावित करने के लिए" दोषी है। अन्य आरोप "प्रत्यक्षा या अप्रत्यक्ष रूप से याचना, उत्प्रेरण, मोहक, निर्देशन, अनुनय, प्रोत्साहन या जानबूझकर किसी भी प्रतिभागी को संहिता अनुच्छेद 2.1 को सुगम बनाने के बारे में है।"

इंटरनेशनल डे ऑफ़ द मिडवाइव्स: 05 मई

1992 के बाद से हर साल 5 मई को इंटरनेशनल डे ऑफ़ द मिडवाइव्स (International Day of the Midwife) मनाया जाता है। यह दिन मिडवाइव्स के काम को समर्पित है और माताओं एवं उनके नवजात शिशुओं को प्रदान की जाने वाली आवश्यक देखभाल के लिए मिडवाइव्स की स्थिति के बारे में जागरूकता बढ़ाने के लिए मनाया जाता है। इंटरनेशनल डे ऑफ़ द मिडवाइव्स 2021 के लिए थीम फॉलो द डेटा: इन्वेस्ट इन मिडवाइव्स (Follow the Data: Invest in Midwives) है। इस दिवस का विचार मिडवाइव्स को पहचानने और उन्हें सम्मानित करने के लिए 1987 में नीदरलैंड में मिडवाइव्स सम्मेलन के अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन में किया गया। इंटरनेशनल मिडवाइव्स डे पहली बार 5 मई 1991 को मनाया गया था, और दुनिया भर के 50 से अधिक देशों में मनाया जाता है।

विश्व हाथ स्वच्छता दिवस: 05 मई

विश्व हाथ स्वच्छता दिवस (World Hand Hygiene Day) हर साल 5 मई को मनाया जाता है। विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) द्वारा विश्व भर में लोगों के बीच जागरूकता बढ़ाने के लिए कई गंभीर संक्रमणों को दूर करने में हाथों की स्वच्छता के महत्व के बारे में जागरूकता बढ़ाने के लिए इस दिवस का आयोजन किया जाता है। 2021 के लिए विषय है 'सेकंड सेव लाइव्स: क्लीन योर हैंड्स (Seconds Save Lives: Clean Your Hands)’। यह दिन हाथ धोने को सबसे प्रभावी क्रियाओं में से एक के रूप में पहचानता है, जिसे COVID-19 वायरस सहित संक्रमणों की एक विशाल श्रृंखला से बचने के लिए लिया जा सकता है।

देश में सबसे लंबे समय त‍क बिशप रहे 103 वर्षीय क्रिसॉस्‍टोम का निधन

प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी ने मालनकारा मारथोमा सीरियन चर्च के पूर्व अध्‍यक्ष डॉ.फिलीपोस मार क्रिसॉस्‍टोम के निधन पर शोक व्‍यक्‍त किया है। अपने शोक संदेश में उन्‍होंने कहा कि मार क्रिसॉस्‍टोम धर्म संबंधी अपने ज्ञान के लिए हमेशा याद किए जाएंगे। उन्‍होंने हमेशा ही लोगों के कष्‍ट दूर करने का प्रयास किया। 103 वर्षीय क्रिसॉस्‍टोम का निधन हुआ। वे देश में सबसे लंबे समय त‍क बिशप रहे।

Start Quiz! PRINT PDF

« Previous Next Affairs »

Notes

Notes on many subjects with example and facts.

Notes

QUESTION

Find Question on this Topic and many other subjects

Learn More

Test Series

Here You can find previous year question paper and mock test for practice.

Test Series

Download

Here you can download Current Affairs Question PDF.

Download

Join

Join a family of Rajasthangyan on


Contact Us Contribute About Write Us Privacy Policy About Copyright

© 2021 RajasthanGyan All Rights Reserved.