Ask Question | login | Register
Notes
Question
Quiz
Tricks
Facts

22 May 2021

डीआरडीओ ने सेरो सर्वेक्षण में एंटी बॉडी का पता लगाने के लिए डिपकोवेन किट विकसित की है

रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन - डीआरडीओ ने सेरो सर्वेक्षण में एंटी बॉडी का पता लगाने के लिए डिपकोवेन किट विकसित की है। कोविड-19 महामारी और लोगों में सार्स कोव-2 संक्रमण का पता लगाने के लिए यह किट बहुत उपयोगी साबित होगी। रक्षा मंत्रालय ने कहा है कि यह किट नई दिल्‍ली की वेनगार्ड डायग्‍नॉस्‍टिक्‍स प्राइवेट लिमिटेड के सहयोग से विकसित की गई है। कंपनी इस किट की व्‍यवसायिक शुरुआत अगले महीने के पहले सप्‍ताह में करेगी। इस किट से केवल 75 मिनट में जांच की जा सकती है और इसकी कीमत प्रति जांच 75 रुपए होगी। डिपकोवेन किट को भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद ने अप्रैल में मान्‍यता दी थी। भारतीय औषधि महानियंत्रक ने भारत में किट के विनिर्माण और बिक्री की अनुमति इसी महीने प्रदान की है।

जी-7 स्वास्थ्य मंत्रियों की बैठक में भारत को वचरुअली शामिल होने का निमंत्रण

ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय में तीन और चार जून को होने जा रही जी-7 स्वास्थ्य मंत्रियों की बैठक में भारत को भी वचरुअली शामिल होने के लिए आमंत्रित किया गया है। ब्रिटिश सरकार ने कहा कि दुनिया के प्रमुख लोकतांत्रिक देशों के बीच वैश्विक स्वास्थ्य के नाजुक क्षेत्रों में जीवन रक्षक मुद्दों पर सहमति बन सकेगी। काविड-19 के खिलाफ वैश्विक संघर्ष में ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय को उसकी भूमिका के लिए चुना गया है। भाग लेने वाले एक साथ मंच पर आएंगे और वैश्विक स्वास्थ्य सुरक्षा, एंटीमाइक्रोबायल रेजिस्टेंस, क्लीनिकल ट्रायल और डिजिटल हेल्थ के मुद्दे पर चर्चा करेंगे। एक सप्ताह बाद कार्नवाल में 11 और 13 जून को होने वाली जी-7 नेताओं की शिखर बैठक में इस बैठक में हुई चर्चाओं की सूचना दी जाएगी। जी-7 के देशों की ब्रिटेन की 2021 की प्रेसिडेंसी के तहत यह शिखर बैठक हो रही है। इस समूह में ब्रिटेन, कनाडा, फ्रांस, जर्मनी, इटली, जापान, अमेरिका और यूरोपीय संघ शामिल हैं। इन देशों के स्वास्थ्य मंत्री व्यक्तिगत रूप से उपस्थित रहेंगे। ब्रिटिश सरकार ने कहा है कि दो दिनों की वार्ता में जी-7 प्रेसिडेंसी के आमंत्रित देश भारत, दक्षिण कोरिया, आस्ट्रेलिया और दक्षिण अफ्रीका वचरुअली शामिल होंगे।

कोविड-19 महामारी से लड़ाई के लिए स्‍वदेशी समाधान और नवोन्‍मेष उत्‍पादों के सहयोग के लिए केन्‍द्र ने नई पहल निधि4कोविड2.0 - NIDHI4COVID2.0 की शुरुआत की

कोविड-19 महामारी से लड़ाई के लिए स्‍वदेशी समाधान और नवोन्‍मेष उत्‍पादों के सहयोग के लिए केन्‍द्र ने नई पहल निधि4कोविड2.0 - NIDHI4COVID2.0 की शुरुआत की है। निधि4कोविड2.0 से भारत में पंजीकृत और उचित समाधान प्रस्‍तुत करने वाली उपयुक्‍त स्‍टार्टअप्‍स और कंपनियों को आर्थिक सहायता उपलब्‍ध कराई जाएगी। इसके अंतर्गत कोविड-19 से उत्‍पन्‍न चुनौतियों से निपटने के लिए ऑक्‍सीजन नवोन्‍मेष, चिकित्‍सा उपकरण और नैदानिक समाधान प्रस्‍तुत करने वाली स्‍टार्टअप्‍स और कंपनियों को वित्‍तीय सहायता प्रदान की जाएगी।

चिपको आंदोलन के प्रणेता और मशहूर पर्यावरणविद सुंदरलाल बहुगुणा का निधन

मशहूर पर्यावरणविद और चिपको आंदोलन के प्रणेता रहे सुंदर लाल बहुगुणा का निधन हो गया। बहुगुणा की उम्र 94 वर्ष थी। उनका जन्म 9 जनवरी, 1927 को उत्तराखंड के टिहरी में हुआ था। सुंदरलाल ने 13 वर्ष की उम्र में राजनीतिक करियर शुरू किया था। 1956 में शादी होने के बाद राजनीतिक जीवन से उन्होंने संन्यास ले लिया। उन्हें चिपको आन्दोलन में उनकी भूमिका के लिए जाना जाता है। उन्होंने हिमालयी क्षेत्र में वनों के संरक्षण के लिए कार्य किया। चिपको आन्दोलन के अलावा टिहरी बाँध के विरुद्ध आन्दोलन किया। उन्हें 1981 में भारत सरकार द्वारा पद्मश्री पुरस्कार प्रदान किया गया था, परन्तु उन्होंने पुरस्कार लेने से इंकार कर दिया था। वर्ष 1986 में उन्हें Right Livelihood Award से सम्मानित किया गया। 1986 में उन्हें जमनालाल बजाज अवार्ड और 2009 में उन्हें पद्म विभूषण पुरस्कार से सम्मानित किया गया। चिपको आन्दोलन भारत में वनों के संरक्षण के लिए शुरू हुआ था। इसकी शुरुआत 1973 उत्तराखंड में हुई थी। इस आन्दोलन का उद्देश्य वनों को नष्ट होने से बचाना था। इस आन्दोलन में सुंदरलाल बहुगुणा, सुरक्षा देवी, गौरा देवी, सुदेशा देवी, बचनी देवी, चंडी प्रसाद भट्ट, विरुष्का देवी ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। इस आन्दोलन के लिए सुन्दरलाल बहुगुणा को 2009 में पद्म विभूषण से सम्मानित किया गया था। जबकि चंडी प्रसाद भट्ट को 1982 मेंमन मैग्सेसे अवार्ड से सम्मानित किया गया था।

केंद्र सरकार ने राज्यों को म्यूकोरमायकोसिस (Mucormycosis) को अधिसूचित रोग घोषित करने के लिए कहा

केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने 20 मई, 2021 को राज्यों व केंद्र शासित प्रदेशों को म्यूकोरमायकोसिस (Mucormycosis) या ब्लैक फंगस को अधिसूचित रोग (notifiable disease) घोषित करने के लिए कहा है। इसे अधिसूचित रोग (notifiable disease) किये जाने के बाद सभी निजी व सरकार अस्पतालों और मेडिकल कॉलेजों को इसकी स्क्रीनिंग, निदान व प्रबंधन के लिए केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय और भारतीय मेडिकल अनुसन्धान परिषद् के दिशानिर्देशों का पालन करना होगा।इससे पहले ब्लैक फंगस रोग को हरियाणा और राजस्थान में अधिसूचित बीमारी (notified disease) के रूप में घोषित किया गया है। इसका मतलब है कि सरकारी अधिकारियों को ब्लैक फंगस रोग (Black Fungus Disease) के प्रत्येक मामले के बारे में सूचित करना होगा।

भारतीय नौसेना का पहला विध्वंसक पोत आइएनएस राजपूत रिटायर

दिनांक 21 मई को भारतीय नौसेना के पहले विध्वंसक आईएनएस राजपूत के कार्यमुक्त होने के साथ ही एक गौरवशाली युग की समाप्ति हो गयी। तत्कालीन यूएसएसआर द्वारा निर्मित कशीन श्रेणी के विध्वंसक पोत आईएनएस राजपूत को दिनांक 04 मई 1980 को नौसेना में कमीशन किया गया था और इसने 41 वर्षों से अधिक समय तक भारतीय नौसेना में महती योगदान प्रदान किया। आईएनएस राजपूत का निर्माण निकोलेव (वर्तमान यूक्रेन) में 61 कम्यूनर्ड शिपयार्ड में उनके मूल रूसी नाम 'नादेझनी' के तौर पर किया गया था जिसका अर्थ 'आशा' होता है। इस जहाज को दिनांक 04 मई 1980 को पोटी, जॉर्जिया में महामहिम श्री आईके गुजराल, सोवियत संघ में भारत के राजदूत थे, ने आईएनएस राजपूत के रूप में कमीशन किया था। कैप्टन गुलाब मोहनलाल हीरानंदानी आईएनएस राजपूत के पहले कमांडिंग ऑफिसर बने थे। राष्ट्र की गौरवशाली सेवा के अपने चार दशकों में इस पोत को पश्चिमी और पूर्वी दोनों बेड़ों में सेवाएं प्रदान करने का गौरव प्राप्त है। अपने मन एवं दृढ़ता की अदम्य भावना में अंकित 'राज करेगा राजपूत' के आदर्श वाक्य के साथ आईएनएस राजपूत का वीर चालक दल देश की संप्रभुता तथा सामुद्रिक हितों की रक्षा करने में हमेशा सतर्क एवं तैयार रहा है। इस जहाज ने राष्ट्र को सुरक्षित रखने के उद्देश्य से कई अभियानों में भाग लिया है। इनमें से कुछ- आईपीकेएफ की सहायता के लिए श्रीलंका से ऑपरेशन अमन, श्रीलंका के तट पर गश्ती संबंधी ड्यूटी के लिए ऑपरेशन पवन, मालदीव से बंधक स्थिति को सुलझाने के लिए ऑपरेशन कैक्टस और लक्षद्वीप से ऑपरेशन क्रोज़नेस्ट- शामिल हैं। इसके अलावा पोत ने कई द्विपक्षीय और बहुराष्ट्रीय अभ्यासों में भाग लिया। यह पोत भारतीय सेना की एक रेजिमेंट-राजपूत रेजिमेंट से संबद्ध भारतीय नौसेना का पहला पोत भी था।

अमरीकी राष्‍ट्रपति जो बाइडेन ने एशियाई नस्‍ली हिंसा विरोधी कानून पर हस्‍ताक्षर किए

अमरीकी राष्ट्रपति जो बाइडन ने नस्लीय हिंसा कानून पर हस्ताक्षर किए हैं। कोरोना महामारी के दौरान अमरीका में रहने वाले एशियाई मूल और प्रशांत क्षेत्र के लोगों के खिलाफ हिंसा के बढ़ते मामलों से निपटने के लिए यह कानून जो कार्यान्वयन एजेंसियों को निर्देश देता है।राष्ट्रपति बाइडन ने कहा कि यहां साधारण मूल्यों और विश्वासों की परंपरा है जो यहां रहने वाले सभी अमरीकी निवासियों को एकसूत्र में बांधती है। वे व्‍हाइट हाउस में एक कार्यक्रम में डेमोक्रेट सदस्यों और अधिकारियों को संबोधित कर रहे थे।नए कानून से न्‍याय विभाग को एशियाई लोगों के विरुद्ध रंगभेद अपराधों के मामलों को तेजी से निपटाने में मदद मिलेगी।नया कानून कांग्रेस के दोनों सदनों में भारी बहुमत से पास किया। यह कानून, अमरीकी न्याय विभाग को एशियाई अमरीकियों और प्रशांत द्वीप के लोगों के विरुद्ध होने वाले हिंसक अपराधों के मामलों में तेजी से सुनवाई करने का निर्देश देता है।अमरीकी पुलिस ने पिछले वर्ष अमरीका में रहने वाले एशियाई मूल और प्रशांत द्वीप के लोगों के खिलाफ रंगभेद से जुड़े हिंसक मामलों में तेजी दर्ज की। इसमें जॉर्जिया में मार्च में गोलीबारी की घटना शामिल है, जिसमें एशियाई मूल की छह महिलाओं की मौत हो गई थी।

गाजा पट्टी में संघर्ष विराम लागू होने के साथ ही इस्राइल और हमास के बीच संघर्ष समाप्‍त

गाजा में इस्राइल और हमास के बीच 11 दिन से जारी लडाई समाप्त हो गयी। इस्राइल के सुरक्षा मंत्रिमंडल ने गाजा पट्टी में युद्ध विराम को मंजूरी दे दी है। इसके साथ ही वहां दशकों में अब तक के सर्वाधिक भीषण संघर्ष की समाप्ति हो रही है। इस्राइल के सुरक्षा मंत्रिमंडल ने कहा कि मध्यस्थ मिस्र की पहल पर सर्वसम्मति से द्विपक्षीय और बिना शर्त के युद्धविराम के पक्ष में सहमति हुई है। अमरीका के राष्ट्रपति जो बाइडेन के इस्राइल के प्रधानमंत्री बेन्जामिन नेतनयाहू से लड़ाई समाप्त करने के अनुरोध और मिस्र, कतर और संयुक्त राष्ट्र की मध्यस्थता के एक दिन बाद यह प्रगति हुई है। हमास के अधिकारी ने मीडिया को बताया कि युद्धविराम विराम का अंत आपसी सहमति से हो रहा है।

देशव्‍यापी आयुष कोविड-19 कांउसिलिंग हेल्‍पलाइन शुरू

देशभर में आयुष कोविड-19 परामर्श हेल्पलाइन शुरू की गई है। प्रत्येक दिन सुबह छह से आधी रात को 12 बजे तक यह हेल्पलाइन काम करेगी। इसका टोल फ्री नम्बर है 1 4 4 4 3 लोग इस हेल्पलाइन के माध्यम से आयुर्वेद, होम्योपैथी, नैचुरलपैथी, युनानी और सिद्धा विशेषज्ञों से सवाल पूछ सकते हैं। ये विशेषज्ञ न केवल परामर्श और उपचार के बरे में बतायेंगे बल्कि उन्हें करीब की आयुष सुविधाओं की उपलब्धता के बारे में बतायेंगे। हेल्पलाइन आईवीआर (इंटरएक्टिव वॉयस रिस्पांस) से युक्‍त है और वर्तमान में हिंदी और अंग्रेजी भाषाओं में उपलब्ध है। हेल्पलाइन शुरू में एक साथ एक सौ कॉल उठाएगी और भविष्य में आवश्यकतानुसार इसकी क्षमता बढ़ाई जाएगी।

भारतीय रिजर्व बैंक 99 हजार 122 करोड रुपये की अधिशेष राशि केन्‍द्र सरकार को अंतरित करेगा

भारतीय रिजर्व बैंक 99 हजार 122 करोड रुपये की अधिशेष राशि केन्‍द्र सरकार को अंतरित करेगा। रिजर्व बैंक के निदेशकों के केन्‍द्रीय बोर्ड की बैठक बैंक के गवर्नर शक्तिकांत दास की अध्‍यक्षता में हुई। बोर्ड ने अधिशेष राशि केन्‍द्र सरकार के खाते में अंतरित करने का अनुमोदन किया। 99 हजार 122 करोड रुपये की अधि‍शेष राशि 31 मार्च 2021 को समाप्‍त हुए नौ महीने की अवधि से संबंधित है। केन्‍द्रीय बैंक ने आपात जोखिम सुरक्षित राशि पांच दशमलव पांच प्रतिशत रखने का निर्णय किया।

झारखंड ने अस्पताल के बेड की ऑनलाइन बुकिंग के लिए लॉन्च किया 'अमृत वाहिनी' ऐप

झारखंड ने अस्पताल के बेड की ऑनलाइन बुकिंग के लिए 'अमृत वाहिनी (Amrit Vahini)' ऐप लॉन्च किया है। झारखंड में कोरोना के मरीज सीएम हेमंत सोरेन (Hemant Soren) द्वारा लॉन्च किए गए 'अमृत वाहिनी' ऐप के जरिए अस्पताल के बेड ऑनलाइन बुक कर सकते हैं। 'अमृत वाहिनी' ऐप से राज्य सरकार कोरोना वायरस से संक्रमित लोगों को बेहतर सुविधा मुहैया करा सकेगी। ​हालांकि 'अमृत वाहिनी' ऐप या वेबसाइट से कोई भी अस्पताल के बेड की उपलब्धता के बारे में सभी जानकारी प्राप्त कर सकता है और यहां तक कि अपने लिए या किसी और के लिए ऑनलाइन बुक कर सकता है। व्यक्ति द्वारा बुक किया गया बेड अगले दो घंटे के लिए उसके लिए आरक्षित रखा जाएगा.

बिस्वजीत डेमरी को असम विधानसभा का निर्विरोध अध्यक्ष चुन लिया गया है

बिस्वजीत डेमरी को असम विधानसभा का निर्विरोध अध्यक्ष चुन लिया गया है। विधानसभा अध्यक्ष के लिए विरोधी दलों ने अपना कोई उम्मीदवार नहीं उतारा था। इसलिए, भारतीय जनता पार्टी के उम्मीदवार श्री डेमरी निर्विरोध चुने गए। बोडोलैंड पीपल्स फ्रंट के पूर्व नेता श्री डेमरी पिछले वर्ष भारतीय जनता पार्टी में शामिल हुए थे। मुख्यमंत्री हेमंता बिस्व सरमा और अन्य नेताओं ने विधानसभा अध्यक्ष बनने पर उन्हें बधाई दी है।

गुजरात सरकार ने म्यूक्रोमाइकोसिस की बीमारी को महामारी घोषित किया

गुजरात सरकार ने म्यूक्रोमाइकोसिस की बीमारी को महामारी घोषित किया है। मुख्यमंत्री विजय रुपाणी की अध्यक्षता में हुई कोर समूह की बैठक में यह निर्णय लिया गया। म्यूक्रोमाइकोसिस को महामारी अधिनियम 1857 के तहत ब्लैक फंगस के नाम से भी जाना जाता है। ओडिसा सरकार ने भी म्यूक्रोमाइकोसिस यानी ब्लैक फंगस को महामारी रोग अधिनियम 1897 के तहत वर्गीकृत बीमारी के रूप में शामिल करने का निर्णय लिया है। यह फैसला वर्तमान में कोविड रोगियों में ब्लैक फंगस की घटनाओं में वृद्धि को देखते हुए लिया गया है।

मध्य प्रदेश सरकार कोविड की दूसरी लहर के दौरान मरने वालों के परिवारों को एक लाख रुपये की वित्तीय सहायता प्रदान करेगी

मध्य प्रदेश सरकार कोविड की दूसरी लहर के दौरान मरने वालों के परिवारों को एक लाख रुपये की वित्तीय सहायता प्रदान करेगी।

विश्व मधुमक्खी दिवस पर शहद परीक्षण प्रयोगशाला परियोजना का कृषि मंत्री द्वारा शुभारंभ

विश्व मधुमक्खी दिवस पर एवं भारत की आजादी के अमृत महोत्सव के शुभ संदर्भ में, कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री श्री नरेंद्र सिंह तोमर ने भारतीय कृषि अनुसंधान संस्थान, पूसा, नई दिल्ली में शहद परीक्षण प्रयोगशाला स्थापित करने की परियोजना का शुभारंभ किया। राष्ट्रीय मधुमक्खीपालन व शहद मिशन (NBHM) में समग्र संवर्धन तथा वैज्ञानिक मधुमक्खी पालन के विकास व “मीठी क्रांति“ का लक्ष्य प्राप्त करने के लिए 300 करोड़ रू. की मंजूरी दी गई है। साथ ही, NBHM को आत्मनिर्भर भारत अभियान में केंद्र सरकार द्वारा 500 करोड़ रू. आवंटित किए गए है। इसमें राष्ट्रीय डेयरी विकास बोर्ड (NDDB), आणंद में 5 करोड़ रू. की सहायता से विश्वस्तरीय स्टेट आफ द आर्ट हनी टेस्टिंग लैब स्थापित की जा चुकी है। इसके अलावा, दो अन्य क्षेत्रीय/ बड़ी शहद व मधुमक्खी पालन के अन्य उत्पादों की परीक्षण प्रयोगशालाएं आठ-आठ करोड़ रू. की राशि सहित मंजूर की गई है। शहद और अन्य मधुमक्खी उत्पादों के स्रोत का पता लगाने संबंधी ऑनलाइन पंजीकरण व ट्रेसिबिलिटी सिस्टम के लिए मधु क्रांति पोर्टल का शुभारंभ भी दो महीने पूर्व किया जा चुका है।

पूर्व कप्‍तान राहुल द्रविड जुलाई में श्रीलंका के साथ सीमित ओवर क्रिकेट श्रृंखला में भारतीय टीम के कोच होंगे

पूर्व भारतीय कप्तान राहुल द्रविड़ श्रीलंका के खिलाफ जुलाई में सीमित ओवरों की छह मैचों की श्रृंखला के लिए भारतीय टीम के कोच होंगे। 2014 में इंग्लैंड दौरे पर गई भारतीय टीम के लिए बल्लेबाजी कोच के तौर पर सेवा देने के बाद यह टीम के लिए उनका दूसरा प्रशिक्षण कार्यक्रम होगा।तीन एकदिवसीय मैच 13, 16 और 19 जुलाई को खेले जाएंगे, जबकि टी-ट्वेंटी मैच 22 और 27 जुलाई को होंगे।

जुवेंटस ने जीता कोपा इटालिया खिताब

अनुभवी गोलकीपर जियांलुइगी बुफोन ने जुवेंटस के लिए अपने शानदार करियर की आखिरी ट्रॉफी जीती जब उनकी टीम ने कोपा इटालिया फुटबॉल टूर्नामेंट के फाइनल में अटलांटा को 2-1 से हराकर खिताब जीत लिया। एक साल में पहली बार दर्शकों को स्टेडियम के अंदर जश्न मनाने का मौका मिला। करीब 4300 समर्थक यह मैच देखने के लिए स्टेडियम में मौजूद थे। अटलांटा ने आखिरी बार 1963 में कोपा इटालिया कप जीता था।

खेल मंत्रालय ने वर्ष 2011 की अर्जुन पुरस्कार विजेता वी तेजस्विनी बाई को 2 लाख रुपये की वित्तीय सहायता को मंजूरी दी

युवा कार्यक्रम और खेल मंत्रालय (एमवाईएएस) ने कर्नाटक की वी तेजस्विनी बाई के लिए 2 लाख रुपये की सहायता राशि को मंजूरी दी है, उन्होंने साल 2011 में अर्जुन पुरस्कार जीता था। तेजस्विनी वर्ष 2010 तथा 2014 के एशियाई खेलों में स्वर्ण पदक जीतने वाली महिला कबड्डी टीम की सदस्य थीं। भारतीय खेल प्राधिकरण, भारतीय ओलंपिक संघ तथा युवा कार्यक्रम और खेल मंत्रालय द्वारा खिलाड़ियों के लिए संयुक्त रूप से चलाई जा रही पहल के तहत मौजूदा कोविड-19 को ध्यान में रखते हुए पूर्व अंतर्राष्ट्रीय एथलीटों एवं कोचों की मदद करने के लिए पंडित दीनदयाल उपाध्याय राष्ट्रीय कल्याण कोष से इस वित्तीय सहायता को मंजूरी दी गई है। 1 मई को तेजस्विनी और उनके पति के कोविड संक्रमित होने का पता चला था। तेजस्विनी को थोड़ी खांसी है, लेकिन वह घर पर रह कर ही स्वास्थ्य लाभ प्राप्त कर रही हैं, जबकि उनके पति नवीन ने 11 मई को इस महामारी से दम तोड़ दिया था।

संवाद और विकास के लिए विश्व सांस्कृतिक विविधता दिवस

संवाद और विकास के लिए विश्व सांस्कृतिक विविधता दिवस (World Day for Cultural Diversity for Dialogue and Development) हर साल 21 मई को विश्व स्तर पर मनाया जाता है। इस दिन का उद्देश्य दुनिया की संस्कृतियों की समृद्धि का जश्न मनाना तथा शांति और सतत विकास को प्राप्त करने के लिए समावेश और सकारात्मक परिवर्तन के एजेंट के रूप में इसकी विविधता के महत्व को उजागर करना है। वर्ष 2001 में, संयुक्त राष्ट्र शैक्षिक, वैज्ञानिक और सांस्कृतिक संगठन (UNESCO) ने 2001 में अफगानिस्तान में बामियान की बुद्ध प्रतिमाओं के विनाश के परिणामस्वरूप 'सांस्कृतिक विविधता पर सार्वभौमिक घोषणा' को अपनाया। ​फिर दिसंबर 2002 में, संयुक्त राष्ट्र महासभा (UNGA) ने अपने प्रस्ताव 57/249 में, 21 मई को संवाद और विकास के लिए सांस्कृतिक विविधता के लिए विश्व दिवस घोषित किया।

21 मई को विश्व स्तर पर मनाया जाता है अंतर्राष्ट्रीय चाय दिवस

भारत की सिफारिश पर 21 मई को विश्व स्तर पर अंतर्राष्ट्रीय चाय दिवस (International Tea Day) मनाया जाता है. अंतर्राष्ट्रीय चाय दिवस का उद्देश्य चाय उत्पादकों और चाय श्रमिकों की स्थिति को सुधारने का प्रयास करना है। संयुक्त राष्ट्र ने दुनिया भर में चाय के गहरे सांस्कृतिक और आर्थिक महत्व के बारे में जागरूकता बढ़ाने तथा भूख और गरीबी से लड़ने में इसके महत्व को बढ़ावा देने के लिए संयुक्त राष्ट्र के खाद्य और कृषि संगठन (Food and Agriculture Organization FAO) द्वारा अंतर्राष्ट्रीय चाय दिवस को मान्यता दी। संयुक्त राष्ट्र महासभा ने अक्टूबर 2015 में चाय पर FAO अंतर सरकारी समूह (IGG) में भारत द्वारा पेश किए गए एक प्रस्ताव के आधार पर 21 मई को अंतर्राष्ट्रीय चाय दिवस के रूप में नामित किया है। ​2019 से पहले, 15 दिसंबर को चाय उत्पादक देशों जैसे बांग्लादेश, श्रीलंका, नेपाल, वियतनाम, इंडोनेशिया, केन्या, मलावी, मलेशिया, युगांडा, भारत और तंजानिया में अंतर्राष्ट्रीय चाय दिवस के रूप में मनाया जाता था।

राष्ट्रीय आतंकवाद विरोधी दिवस: 21 मई

भारत हर साल 21 मई को राष्ट्रीय आतंकवाद विरोधी दिवस (National Anti-Terrorism Day) मनाता है। यह दिन पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी (Rajiv Gandhi) की पुण्यतिथि के रूप में मनाया जाता है। राजीव गांधी भारत के छठे प्रधानमंत्री थे। उन्होंने 1984 और 1989 के बीच देश के प्रधानमंत्री के रूप में कार्य किया। मई 1991 में तमिलनाडु के श्रीपेरंबुदूर में उनकी हत्या कर दी गई थी।राष्ट्रीय आतंकवाद विरोधी दिवस आतंकवाद और मानव समाज पर इसके प्रभाव के बारे में जागरूकता बढ़ाने के लिए मनाया जाता है। यह दिन शांति और मानवता का संदेश भी फैलाता है। राजीव गांधी ने अपनी मां और भारत की पूर्व पीएम इंदिरा गांधी की हत्या के बाद प्रधानमंत्री का पद संभाला था। राजीव गांधी की हत्या उस समय की गई जब वे श्रीपेरंबदूर में लोकसभा उम्मीदवार के लिए प्रचार कर रहे थे। वह एक बम विस्फोट में मारे गये थे। सुप्रीम कोर्ट ने पुष्टि की कि श्री गांधी को लिट्टे संगठन द्वारा मारा गया था। भारत लिट्टे की गतिविधियों को रोकने के लिए श्रीलंका में एक भारतीय शांति सेना भेजने जा रहा था।

राजस्थान के पूर्व सीएम जगन्नाथ पहाड़िया का कोरोना से निधन

राजस्थान के पूर्व राज्यपाल और पूर्व मुख्यमंत्री जगन्नाथ पहाडिय़ा का 93 वर्ष की उम्र में कोरोना के कारण निधन हो गया। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने दिग्गज कांग्रेसी नेता जगन्नाथ पहाडिय़ा के निधन पर दुख जताया है। पहाड़िया राजस्थान के पहले दलित मुख्यमंत्री थे। वे बाद में बिहार और हरियाणा के राज्यपाल भी रहे। उन्होंने प्रदेश में संपूर्ण शराबबंदी लागू की थी। वे 1957, 1967, 1971 और 1980 में चार बार सांसद रहे। वहीं 1980, 1985, 1990 और 2003 में विधायक चुने गए थे। जगन्नाथ पहाड़िया का जन्म राजस्थान के भरतपुर में 15 जनवरी, 1932 को हुआ था।

NSG के पूर्व प्रमुख जेके दत्त का निधन, जिन्होंने 26/11 काउंटर-टेरर ऑप्स का किया था नेतृत्व

26/11 के मुंबई आतंकी हमले के दौरान बल का नेतृत्व करने वाले राष्ट्रीय सुरक्षा गार्ड (NSG) के पूर्व महानिदेशक, जे.के. दत्त (J.K. Dutt) का COVID-19 संबंधित जटिलताओं के कारण निधन हो गया। जेके दत्त ने 26/11 के मुंबई आतंकी हमले में ऑपरेशन ब्लैक टॉरनेडो (Black Tornado) के दौरान आतंकवाद विरोधी और बचाव प्रयासों को देखा। NSG ने पश्चिम बंगाल कैडर के 1971 बैच के IPS अधिकारी की मृत्यु पर शोक व्यक्त किया, जिन्होंने अगस्त 2006 से फरवरी 2009 तक बल की सेवा की। उन्होंने CBI और केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल में विभिन्न पदों पर भी कार्य किया।

महाराष्ट्र से ब्रिटेन के लिए जीआई प्रमाणित घोलवड सपोटा (चीकू) का निर्यात प्रारंभ

भौगोलिक संकेत (जीआई) प्रमाणित उत्पादों के निर्यात को प्रमुखता से बढ़ावा देते हुए, महाराष्ट्र के पालघर जिले से दहानु घोलवड सपोटा की एक खेप को यूनाइटेड किंगडम भेज दिया गया। घोलवड सपोटा का जीआई प्रमाणीकरण महाराष्ट्र राज्य चीकू उत्पादक संघ के पास है और यह फल अपने मीठे और बेहतरीन स्वाद के लिए जाना जाता है। ऐसा माना जाता है कि घोलवड गांव की कैल्शियम समृद्ध मिट्टी से इसमें अद्वितीय स्वाद उत्पन्न होता है। वर्तमान में पालघर जिले में लगभग 5000 हेक्टेयर भूमि में सपोटा या वृक्षारोपण किया जाता है। सपोटा उगाने वाले 5000 किसानों में से 147 किसान अधिकृत जीआई उपयोगकर्ता हैं। अधिकृत जीआई उपयोगकर्ताओं से प्राप्त दहानु घोलवड सपोटा को मैसर्स के बी एग्रो इंटरनेशनल प्राइवेट लिमिटेड, तापी (गुजरात) से सहायता प्राप्त और पंजीकृत पैक हाउस सुविधा एपीईडीए से क्रमबद्ध और वर्गीकृत किया गया और मैसर्स के बी एक्सपोर्टस के द्वारा निर्यात किया गया।

त्रिपुरा का कटहल लंदन निर्यात किया गया

उत्तर-पूर्वी क्षेत्र से कृषि और प्रसंस्कृत खाद्य उत्पादों की निर्यात क्षमता को बढ़ाने की दिशा में बड़ी पहल करते हुए, 1.2 मीट्रिक टन (एमटी) ताजा कटहल की खेप त्रिपुरा से लंदन निर्यात की गई। निर्यात किए गए कटहल, त्रिपुरा स्थित कृषि संयोगा एग्रो प्रोड्यूसर कंपनी लिमिटेड से खरीदे गए थे। खेप को एपीडा सहायता प्राप्त सॉल्ट रेंज सप्लाई चेन सॉल्यूशन लिमिटेड की पैक-हाउस सुविधा में पैक किया गया और काइगा एक्जिम प्राइवेट लिमिटेड द्वारा निर्यात किया गया। यह यूरोपीय संघ को निर्यात के लिए पहला एपीडा सहायता प्राप्त पैक हाउस था। जिसे मई 2021 में अनुमोदित किया गया था। एपीडा नियमित रूप से उत्तर-पूर्वी राज्यों को भारत के निर्यात मानचित्र पर लाने के लिए निर्यात को बढ़ावा देने की गतिविधियों को अंजाम देता है।

Start Quiz! PRINT PDF

« Previous Next Affairs »

Notes

Notes on many subjects with example and facts.

Notes

QUESTION

Find Question on this Topic and many other subjects

Learn More

Test Series

Here You can find previous year question paper and mock test for practice.

Test Series

Download

Here you can download Current Affairs Question PDF.

Download

Join

Join a family of Rajasthangyan on


Contact Us Contribute About Write Us Privacy Policy About Copyright

© 2021 RajasthanGyan All Rights Reserved.