Ask Question | login | Register
Notes
Question
Quiz
Tricks
Facts

2 October 2021

भारत और अमरीका का रक्षा औद्योगिक सुरक्षा में संयुक्‍त कार्यदल गठित करने का निर्णय

भारत और अमरीका ने रक्षा औद्योगिक सुरक्षा में संयुक्‍त कार्यदल गठित करने का निर्णय लिया है। ये दल आधुनिक रक्षा प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में रक्षा उद्योगों के बीच सहभागिता के लिए एक दूसरे देशों की नी‍तियों और कार्य प्रणाली के तालमेल के लिए समय-समय पर बैठकें करेगा। रक्षा मंत्रालय ने बताया है कि भारत और अमरीका के बीच नई दिल्‍ली में पिछले महीने की 27 तारीख को औद्योगिक सुरक्षा समझौता शिखर बैठक शुरू हुई, जो सम्पन्न हो गई। ये बैठक, दोनों देशों के रक्षा उद्योगों के बीच विशेष प्रकार की सूचनाओं के आदान-प्रदान के तौर-तरीके तय करने के लिए बुलायी गई थी। औद्योगिक सुरक्षा समझौते पर दिसम्‍बर 2019 में हस्‍ताक्षर किये गये थे।

जयपुर में केंद्रीय पेट्रो केमिकल्‍स इंजीनियरिंग एवं तकनीकी संस्‍थान का उद्घाटन

हाल ही में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से जयपुर में ‘केंद्रीय पेट्रो केमिकल्‍स इंजीनियरिंग एवं तकनीकी संस्‍थान’ (सिपेट) का उद्घाटन किया है। इस संस्थान का उद्घाटन ऐसे समय में किया गया है, जब भारत व्यापक स्तर पर पेट्रोकेमिकल्स की कमी से जूझ रहा है और पेट्रोकेमिकल्स क्षेत्र में कीमतें लगातार बढ़ रही हैं। यह एक आत्मनिर्भर इंजीनियरिंग एवं तकनीकी संस्‍थान है, जो समर्पित रूप से पेट्रोकेमिकल एवं संबद्ध उद्योगों की ज़रूरतों को पूरा करेगा। पेट्रोकेमिकल विभिन्न रासायनिक यौगिकों के हाइड्रोकार्बन से प्राप्त किये जाते हैं। ये हाइड्रोकार्बन कच्चे तेल और प्राकृतिक गैस से व्युत्पन्न होते हैं। पेट्रोकेमिकल उद्योग आर्थिक विकास और विनिर्माण क्षेत्र के विकास में एक महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाता है। पेट्रोकेमिकल उद्योग में मूल्यवर्द्धन अन्य उद्योग क्षेत्रों की तुलना में अधिक है। गौरतलब है कि भारत अपनी पेट्रोकेमिकल क्षमता को बढ़ावा देने हेतु एशिया में एक प्रमुख रिफाइनिंग हब के रूप में अपनी स्थिति को मज़बूत करने का प्रयास कर रहा है। भारत में वर्तमान में 23 रिफाइनरियाँ कार्यरत हैं और भारत वर्ष 2025 तक अपनी शोधन क्षमता को 400 मिलियन टन प्रतिवर्ष तक बढ़ाने की योजना बना रहा है। वर्तमान में देश में 249.36 मिलियन टन प्रतिवर्ष से अधिक स्थापित क्षमता है।

नीति आयोग ने आईएफपीआरआई, आईआईपीएस, यूनिसेफ और आईईजी के साथ मिलकर पोषण ब्‍योरा प्रस्‍तुत किया

नीति आयोग ने अंतर्राष्ट्रीय खाद्य नीति अनुसंधान संस्थान (आईएफपीआरआई), भारतीय जनसंख्या विज्ञान संस्थान (आईआईपीएस), यूनिसेफ और आर्थिक विकास संस्थान (आईईजी) के साथ मिलकर 19 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों का राज्यवार पोषण ब्‍योरा प्रस्‍तुत किया है। इससे राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वेक्षण तीसरे, चौथे और पांचवें दौर के आधार पर पोषण परिणामों, तत्काल और अंतर्निहित निर्धारकों के बारे में जानकारी मिलती है। पोषण ब्‍योरा महत्वपूर्ण आंकडों का एक व्यापक संकलन है जो नीतिगत फैसलों पर सकारात्मक प्रभाव डाल सकता है और इससे पोषण के क्षेत्र में अनुसंधान करने में मदद मिलेगी।

एयर मार्शल बी.आर. कृष्णा ने सीआईएससी के एकीकृत रक्षा स्टाफ के प्रमुख का पदभार ग्रहण किया।

एयर मार्शल बीआर कृष्णा ने एक अक्टूबर, 2021 को चीफ ऑफ स्टाफ कमेटी के अध्यक्ष के हवाले से चीफ ऑफ इंटीग्रेटेड डिफेंस स्टाफ (सीआईएससी) का कार्यभार संभाल लिया। 1983 में लड़ाकू पायलट के रूप में कमीशन प्राप्त, एयर मार्शल कृष्णा का 38 वर्ष से अधिक का विशिष्ट करियर रहा है। प्रशिक्षित फ्लाइंग इंस्ट्रक्टर और टेस्‍ट पायलट एयर मार्शल कृष्‍णा को भारतीय वायु सेना के कई तरह के लड़ाकू विमान, परिवहन विमान और हेलीकॉप्टर उड़ाने का अनुभव प्राप्त है। उनके पास पांच हजार घंटे से अधिक की उडान का अनुभव है। एयर मार्शल कृष्‍णा राष्ट्रीय रक्षा अकादमी, रक्षा सेवा स्टाफ कॉलेज और राष्ट्रीय रक्षा कॉलेज के पूर्व छात्र हैं।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने स्‍वच्‍छ भारत मिशन शहरी और शहरों के बदलाव के लिए अटल मिशन अमृत के दूसरे चरण का शुभारंभ किया

1 अक्टूबर, 2021 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कायाकल्प और शहरी परिवर्तन के लिए अटल मिशन 2.0 (Atal Mission for Rejuvenation and Urban Transformation – AMRUT 2.0) के साथ स्वच्छ भारत मिशन-शहरी 2.0 (SBM-U 2.0) का शुभारंभ किया। इन योजनाओं को नई दिल्ली में डॉ. अम्बेडकर इंटरनेशनल सेंटर में लॉन्च किया गया। दोनों योजनाएं, SBM-U 2.0 और अमृत 2.0, पीएम नरेंद्र मोदी के विजन के अनुरूप हैं। इन योजनाओं को सभी शहरों को कचरा मुक्त और पानी सुरक्षित बनाने की आकांक्षा को साकार करने के लिए डिज़ाइन किया गया है। यह सतत विकास लक्ष्यों 2030 लक्ष्यों को प्राप्त करने में मदद करेंगे। पिछले 6-7 वर्षों में स्वच्छ भारत और अमृत मिशन लोगों के जीवन में परिवर्तनकारी परिवर्तन लाए हैं। इन दोनों मिशनों ने वैज्ञानिक दृष्टिकोण अपनाकर भारत में शहरी परिदृश्य में सुधार किया है। अमृत ​​2.0 मिशन से शहरों को आत्मनिर्भर बनाने में मदद मिलेगी, यह शहरों में जल सुरक्षा सुनिश्चित करेगा। यह मिशन 4,700 शहरी स्थानीय निकायों के सभी घरों में पानी की आपूर्ति का 100% कवरेज प्रदान करने के उद्देश्य से शुरू किया गया है। 500 अमृत शहरों में 2.68 करोड़ नल कनेक्शन और सीवरेज की 100% कवरेज प्रदान करके इस लक्ष्य को प्राप्त किया जाएगा। इस मिशन के लिए 2.87 लाख करोड़ रुपये का परिव्यय स्वीकृत किया गया है। SBM-U 2.0 मिशन सभी शहरों को ‘कचरा मुक्त’ बनाना चाहता है। यह मिशन 3R के सिद्धांतों का उपयोग करके ठोस कचरे के स्रोत पृथक्करण पर ध्यान केंद्रित करेगा। SBM-U 2.0 के लिए 1.41 लाख करोड़ रुपये के परिव्यय को मंजूरी दी गई है।

UNCTAD Digital Economy Report 2021 जारी की गयी

व्यापार और विकास पर संयुक्त राष्ट्र सम्मेलन (UNCTAD) ने हाल ही में अपनी “UNCTAD Digital Economy Report 2021” प्रकाशित की । अपनी रिपोर्ट में, UNCTAD ने फिलीपींस को उन 6 देशों में से एक के रूप में नोट किया जो सीमाओं के पार डेटा के मुक्त प्रवाह की अनुमति देता है। डिजिटल अर्थव्यवस्था को बढ़ावा देने के लिए डेटा के मुक्त प्रवाह की आवश्यकता है। सीमा पार डेटा के मुक्त प्रवाह की अनुमति देने वाले अन्य पांच देशों में शामिल हैं- कनाडा, ऑस्ट्रेलिया, मैक्सिको, सिंगापुर और अमेरिका। ये देश डेटा प्रवाह के लिए “लाइट-टच अप्रोच” का उपयोग करते हैं। घरेलू कानूनों के अनुपालन की निगरानी के लिए मजबूत नियामक वातावरण और पर्याप्त नियामक संसाधनों वाले देशों द्वारा लाइट-टच अप्रोच का समर्थन किया जाता है। इस रिपोर्ट के अनुसार, फिलीपींस का लाइट-टच अप्रोच का उपयोग आउटसोर्सिंग उद्योग पर अपनी “निर्भरता” की ओर है, जो देश में प्रमुख आर्थिक विकास चालक है। सीमा पार डेटा प्रवाह के लिए “प्रतिबंधात्मक” या “संरक्षित” दृष्टिकोण का पालन भारत, चीन, इंडोनेशिया, नाइजीरिया, पाकिस्तान, कजाकिस्तान, रवांडा, रूसी संघ, तुर्की, सऊदी अरब और वियतनाम जैसे देशों द्वारा किया जाता है। UNCTAD ने सिफारिश की है कि वैश्विक समुदाय को सीमाओं के पार डिजिटल डेटा के मुक्त प्रवाह को सक्षम बनाना चाहिए। यह ऐसी गतिविधियों की अनुमति देने के लिए एक अंतर्राष्ट्रीय फ्रेमवर्क बनाने का सुझाव दिया है। UNCTAD के अनुसार, किसी भी वैश्विक ढांचे का मतलब निजी क्षेत्र के साथ-साथ डेटा के सरकारी उपयोग के लिए गोपनीयता की रक्षा में अतिरिक्त बोझ नहीं होगा।

डिजी सक्षम कार्यक्रम लांच किया गया

केंद्रीय श्रम एवं रोजगार मंत्री भूपेंद्र यादव ने 30 सितंबर, 2021 को डिजी सक्षम कार्यक्रम लांच किया। यह डिजिटल कौशल कार्यक्रम युवाओं के डिजिटल कौशल में सुधार करके उनकी रोजगार क्षमता को बढ़ाने के उद्देश्य से शुरू किया गया है। डिजी सक्षम माइक्रोसॉफ्ट इंडिया और श्रम एवं रोजगार मंत्रालय की संयुक्त पहल है। यह ग्रामीण और अर्ध-शहरी क्षेत्रों के युवाओं को समर्थन देने के सरकार के चल रहे कार्यक्रमों का विस्तार है।यह कार्यक्रम “Aga Khan Rural Support Programme India (AKRSP-I)” द्वारा क्षेत्र में लागू किया जाएगा। डिजी सक्षम पहल के तहत पहले वर्ष में 3 लाख से अधिक युवाओं को बुनियादी कौशल और एडवांस कंप्यूटिंग सहित डिजिटल कौशल में मुफ्त प्रशिक्षण प्रदान किया जाएगा। इस प्रशिक्षण कार्यक्रम को राष्ट्रीय करियर सेवा (NCS) पोर्टल के माध्यम से एक्सेस किया जा सकता है। यह पहल अर्ध शहरी क्षेत्रों के नौकरी चाहने वालों को प्राथमिकता देती है जो वंचित समुदायों के साथ-साथ कोविड-19 महामारी के बीच अपनी नौकरी खो चुके हैं।

भारत की डॉ. रुक्मिणी बनर्जी को 2021 यिदान पुरस्कार

भारत की डॉ. रुक्मिणी बनर्जी (Dr. Rukmini Banerji) को 28 सितंबर, 2021 को 2021 यिदान पुरस्कार (Yidan Prize) से सम्मानित किया गया। उन्हें यिदान पुरस्कार फाउंडेशन द्वारा यह पुरस्कार प्रदान किया गया है। उनके अलावा, अमेरिका बेस्ड प्रोफेसर एरिक हनुशेक को भी प्रतिष्ठित यिदान पुरस्कार 2021 से सम्मानित किया गया है। दोनों को उनके अभूतपूर्व कार्य के लिए यिदान पुरस्कार से सम्मानित किया गया है। ये दोनों 9 पुरस्कार विजेताओं में शामिल होंगे जिन्हें 2016 से यिदान पुरस्कार से सम्मानित किया गया है। दोनों व्यक्तियों को HK$30 मिलियन प्राप्त होंगे जो लगभग $3.9 मिलियन के बराबर है। इस धनराशी में फाउंडेशन की ओर से HK$15 मिलियन नकद पुरस्कार और HK$15 मिलियन का एक प्रोजेक्ट फंड शामिल है। डॉ. रुक्मिणी बनर्जी ‘प्रथम एजुकेशन फाउंडेशन’ की मुख्य कार्यकारी अधिकारी हैं। उन्हें शिक्षा विकास के लिए 2021 के यिदान पुरस्कार से सम्मानित किया गया है। यह पुरस्कार सीखने के परिणामों को बेहतर बनाने में उनके काम को मान्यता देता है। उन्होंने भारत में बच्चों के बीच साक्षरता और संख्यात्मक अंतराल का खुलासा किया और इन अंतरालों को पाटने के लिए, उन्होंने “Teaching at the Right Level” (TaRL) कार्यक्रम शुरू किया, जो बुनियादी पढ़ने और अंकगणितीय कौशल प्रदान करने के लिए स्कूलों और स्थानीय समुदायों के साथ काम करता है। यह कार्यक्रम सुनिश्चित करता है कि कोई भी बच्चा पीछे न रहे। यिदान पुरस्कार 2016 में यिदान पुरस्कार फाउंडेशन द्वारा स्थापित किया गया था। यिदान पुरस्कार फाउंडेशन एक वैश्विक परोपकारी शिक्षा फाउंडेशन है, जो शिक्षा में प्रगति और परिवर्तन को प्रेरित करती है। यह एक शिक्षा पुरस्कार है, जो व्यक्तियों, या तीन सदस्यीय टीमों को मान्यता देता है, जिन्होंने शिक्षा अनुसंधान और विकास में योगदान दिया है।

नाबार्ड ने याक पालन के लिए ऋण योजना को मंजूरी दी

NABARD (National Bank for Agriculture and Rural Development) ने 28 सितंबर, 2021 को अरुणाचल प्रदेश में याक पालन के लिए एक क्रेडिट योजना को मंजूरी दी। याक पालन के लिए यह क्रेडिट योजना चरवाहों को उनकी आजीविका को मजबूत करने के लिए ऋण हासिल करने में मदद करेगी। यह योजना अरुणाचल प्रदेश के पश्चिम कामेंग जिले के दिरांग में स्थित “National Research Centre on Yak (NRCY)” द्वारा विकसित की गई थी। NRCY भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद के तहत काम करता है। नाबार्ड द्वारा क्रेडिट योजना को अरुणाचल प्रदेश के तवांग, पश्चिम कामेंग और शी योमी जिलों की संभावित लिंक्ड क्रेडिट योजनाओं में शामिल किया गया है। इस क्रेडिट योजना से राज्य में चरवाहों की आजीविका को बढ़ावा मिलेगा।

शांति स्वरूप भटनागर पुरस्कार 2021 की घोषणा की गयी

वैज्ञानिक और औद्योगिक अनुसंधान परिषद (CSIR) के 80वें स्थापना दिवस के अवसर पर 11 वैज्ञानिकों को “शांति स्वरूप भटनागर पुरस्कार 2021” नामक भारत का सर्वोच्च विज्ञान पुरस्कार प्रदान किया गया। शांति स्वरूप भटनागर पुरस्कार का नाम CSIR के संस्थापक और निदेशक स्वर्गीय डॉ. शांति स्वरूप भटनागर के नाम पर रखा गया है। इस पुरस्कार को ‘विज्ञान और प्रौद्योगिकी के लिए शांति स्वरूप भटनागर पुरस्कार’ (Shanti Swarup Bhatnagar (SSB) Prize for Science and Technology) नाम दिया गया है। यह हर साल वैज्ञानिकों को विज्ञान और प्रौद्योगिकी में उनके उत्कृष्ट योगदान के लिए दिया जाता है। वर्ष 2021 में, विज्ञान और प्रौद्योगिकी के लिए शांति स्वरूप भटनागर (SSB) पुरस्कार के प्राप्तकर्ता हैं:

  1. भारतीय विज्ञान संस्थान, बेंगलुरु से जैविक विज्ञान श्रेणी में अमित सिंह।
  2. भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान कानपुर से जैविक विज्ञान वर्ग में अरुण कुमार शुक्ला।
  3. रसायन विज्ञान श्रेणी में डॉ. कनिष्क विश्वास। वह बेंगलुरु में जवाहरलाल नेहरू सेंटर फॉर एडवांस साइंटिफिक रिसर्च में कार्यरत्त हैं।
  4. रसायन विज्ञान की श्रेणी में जवाहरलाल नेहरू सेंटर फॉर एडवांस्ड साइंटिफिक रिसर्च, बेंगलुरु से डॉ. टी. गोविंदराजू।
  5. पृथ्वी, वायुमंडल, महासागर और ग्रह विज्ञान में डॉ. बिनॉय कुमार।
  6. इंजीनियरिंग विज्ञान में डॉ. देबदीप मुखोपाध्याय।
  7. गणित विज्ञान में डॉ. अनीश घोष और डॉ. साकेत सौरभ।
  8. चिकित्सा विज्ञान में डॉ. जीमन पन्नियमकल।
  9. डॉ. रोहित श्रीवास्तव।
  10. भौतिक विज्ञान में डॉ कनक साहा।

मणिपुर में नृत्य और संगीत का उत्सव “नट संकीर्तन” शुरू हुआ

जवाहरलाल नेहरू मणिपुर नृत्य अकादमी (JNMDA), इम्फाल के मंडप में 30 सितंबर, 2021 से “नट-संकीर्तन” उत्सव शुरू किया गया। यह उत्सव नृत्य और संगीत का तीन दिवसीय उत्सव है। यह अकादमी की गतिविधियों की वार्षिक विशेषताएं हैं। मणिपुर अपनी समृद्ध संस्कृति और विरासत में मिली परंपरा के लिए जाना जाता है। सरकार बेरोजगार युवाओं के लिए आय सृजन और रोजगार सृजन की निगरानी भी कर रही है और ‘स्टार्ट अप’ जैसी कई योजनाएं चला रही है। शास्त्रीय रागों में, नट संकीर्तन भगवान कृष्ण का एक भजन है जो सीवरल स्वदेशी लय को संश्लेषित करता है। संकीर्तन अपने प्रदर्शन में लय पैटर्न और वेशभूषा के साथ एक सख्त कोड का पालन करता है जो विशिष्ट नियमों और विनियमों द्वारा निर्धारित किया जाता है। संकीर्तन व्यक्ति के जीवन में महत्वपूर्ण अवसरों जैसे जन्म से मृत्यु तक को चिह्नित करने के लिए किया जाता है। यूनेस्को ने 2013 में मणिपुर नट संकीर्तन को मान्यता दी थी।

राजस्थान : AU SFB और NABARD ग्रामीण विकास परियोजनाओं को बढ़ावा देंगे

निजी क्षेत्र के एयू स्मॉल फाइनेंस बैंक (SFB) ने राजस्थान राज्य में चल रही ग्रामीण विकास पहल को बढ़ावा देने के लिए 29 सितंबर, 2021 को राष्ट्रीय ग्रामीण और विकास बैंक (नाबार्ड) के साथ एक समझौते पर हस्ताक्षर किए। एयू स्मॉल फाइनेंस बैंक के अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक की उपस्थिति में एक समझौता ज्ञापन (MoU) पर हस्ताक्षर किए गए। यह समझौता ज्ञापन राजस्थान में किसानों, स्वयं सहायता समूहों (SHG), ग्रामीण कारीगरों, किसान उत्पादक संगठनों (FPO), कृषि-उद्यमियों और कृषि-स्टार्ट-अप को लाभान्वित करने के लिए एक संयुक्त पहल की परिकल्पना करता है। यह राजस्थान में चल रही विकास योजनाओं को संस्थागत ऋण सहायता प्रदान करेगा, जिससे ग्रामीण क्षेत्रों में और समृद्धि आएगी। यह ऋण देने की प्रक्रिया को भी बढ़ावा देगा, खासकर कृषि और ग्रामीण विकास के क्षेत्रों में।

फेसबुक ने भारत में ‘Creator Education Programme’ लॉन्च किया

फेसबुक ने 30 सितंबर, 2021 को भारत में सबसे बड़ा “निर्माता शिक्षा और सक्षमता कार्यक्रम” लॉन्च किया। यह प्रोग्राम कंटेंट क्रिएटर्स को अपने प्लेटफॉर्म और इंस्टाग्राम पर अपने समुदायों को सीखने, कमाने का अवसर प्रदान करेगा। ‘Creator Day India’ के 2021 संस्करण को संबोधित करते हुए, इंस्टाग्राम प्रमुख एडम मोसेरी ने कहा कि भारत फोटो शेयरिंग और लघु वीडियो प्लेटफॉर्म के लिए सबसे तेजी से बढ़ते बाजारों में से एक है। भारत रचनाकारों के विकास और जीविकोपार्जन के लिए सबसे अच्छी जगह बन गया है। इसलिए, फेसबुक ने अभिव्यक्ति को लोकतांत्रिक बनाने के लिए रचनात्मक उपकरणों की एक श्रृंखला विकसित करके ऐसा करने की योजना बनाई है। उदाहरण के लिए, रील्स लोकतांत्रिक रचनात्मकता का एक बेहतरीन उदाहरण है। भारत में प्रतिदिन औसतन 6 मिलियन से अधिक रीलों का उत्पादन होता है। सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म क्रिएटर्स को कंटेंट के जरिए कमाई करने में मदद करने के लिए मुद्रीकरण (monetisation) टूल भी पेश कर रहा है। यह ‘Born on Instagram’ का अगला चरण है। यह कार्यक्रम भारत में रचनाकारों को एक ऑनलाइन शिक्षण पाठ्यक्रम के माध्यम से सीखने का मौका देगा। यह प्रोग्राम विशेषज्ञों, उत्पाद अपडेट, रुझानों की नवीनतम जानकारी और चुनौतियों के साथ लाइव मास्टर क्लासेस प्रदान करेगा।

बृहस्पति के ट्रोजन क्षुद्रग्रहों का अध्ययन करने के लिए नासा का लुसी मिशन

अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा बृहस्पति के ट्रोजन क्षुद्रग्रहों का अध्ययन करने के लिए अपना पहला अंतरिक्ष यान भेजने जा रही है। इस अंतरिक्ष यान को 16 अक्टूबर, 2021 को “केप कैनावेरल स्पेस फोर्स स्टेशन, फ्लोरिडा” से लॉन्च किया जाएगा। यह अंतरिक्ष यान 4.5 अरब साल पहले सौर मंडल के निर्माण के बारे में नई अंतर्दृष्टि (insights) प्राप्त करेगा। इस अंतरिक्ष यान का नाम लुसी (Lucy) रखा गया है। इसका नाम एक प्राचीन जीवाश्म के नाम पर रखा गया था जिसने मानव प्रजातियों के विकास में अंतर्दृष्टि प्रदान की थी। मिशन लूसी को चट्टानी पिंडों के समूह की जांच के उद्देश्य से लॉन्च किया जाएगा जो दो समूहों में सूर्य की परिक्रमा कर रहे हैं। पृथ्वी के गुरुत्वाकर्षण से बूस्ट प्राप्त करने के बाद मिशन लूसी 12 साल की यात्रा पर जाएगा। मंगल और बृहस्पति के बीच मुख्य बेल्ट में 8 अलग-अलग क्षुद्रग्रहों में 12 साल की यात्रा पूरी की जाएगी। यह अंतरिक्ष यान अपनी सतह के 400 किलोमीटर के दायरे में लक्षित पिंडों के पास से उड़ान भरेगा। यह लक्ष्य पिंडों के भूविज्ञान की जांच के लिए ऑनबोर्ड उपकरणों और बड़े एंटीना का उपयोग करेगा। इस मिशन की कुल लागत 981 मिलियन डॉलर है। ट्रोजन छोटे खगोलीय पिंड या क्षुद्रग्रह होते हैं, जो बड़े क्षुद्रग्रहों की कक्षा को साझा करते हैं। वे मुख्य पिंड से लगभग 60° आगे या पीछे स्थिर कक्षा में रहते हैं। वे ग्रहों या बड़े चंद्रमाओं की कक्षाओं को साझा कर सकते हैं। ट्रोजन एक प्रकार की सह-कक्षीय पिंड (co-orbital object) है। सौर मंडल के अधिकांश ज्ञात ट्रोजन बृहस्पति की कक्षा को साझा करते हैं।

नजला बौडेन रोमधाने बनीं ट्यूनीशिया की पहली महिला प्रधानमंत्री

नजला बौडेन रोमधाने (Najla Bouden Romdhane) 29 सितंबर, 2021 को ट्यूनीशिया की पहली महिला प्रधानमंत्री बनी हैं। राष्ट्रपति कैस सैयद (Kais Saied) के पदभार ग्रहण करने के दो महीने बाद, पूर्व प्रधानमंत्री को बर्खास्त करने और संसद को निलंबित करने के दो महीने बाद उन्हें प्रधानमंत्री के रूप में नामित किया गया है। 2014 के संविधान के तहत पूर्व प्रधानमंत्रियों की तुलना में रोमधाने के पास कम प्रत्यक्ष शक्ति होने की उम्मीद है। ऐसा इसलिए है क्योंकि राष्ट्रपति सईद ने आपातकाल के दौरान घोषणा की थी कि नई सरकार राष्ट्रपति के प्रति जिम्मेदार होगी।

मोटर वाहन (वाहन स्क्रैपिंग सुविधा का पंजीकरण और कार्य) नियम, 2021

सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय ने “वाहन स्क्रैपिंग नीति” के तहत “Registered Vehicle Scrapping Facility (RVSF)” स्थापित करने की विस्तृत प्रक्रिया की घोषणा की। वाहन स्क्रैपिंग नीति पिछले महीने अगस्त, 2021 में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा लांच की गई थी। केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने 2021 के बजट में इसकी घोषणा की थी। मोटर वाहन (वाहन स्क्रैपिंग सुविधा का पंजीकरण और कार्य) नियम, 2021 सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय द्वारा 15 मार्च, 2021 को जारी किया किये गये थे। इन नियमों के तहत प्रावधान पंजीकृत वाहन स्क्रैपिंग सुविधा (RVSF) की स्थापना की प्रक्रिया निर्धारित करते हैं। यह प्रावधान सभी वाहनों और उनके अंतिम पंजीकृत मालिकों, पुनर्चक्रणकर्ताओं, मोटर वाहन निराकरण, ऑटोमोबाइल संग्रह केंद्रों और स्क्रैपिंग और पुनर्चक्रण सुविधाओं पर लागू होंगे। इन नियमों के अनुसार, RVSF को पासवर्ड से सुरक्षित यूजर आईडी के साथ वाहन पंजीकरण के वाहन डेटाबेस की कनेक्टिविटी और एक्सेस प्रदान की जाएगी। RVSF को वाहन को स्क्रैप करने और जमा प्रमाणपत्र और स्क्रैपिंग प्रमाणपत्र जारी करने के लिए उपयुक्त प्रविष्टियां करने के लिए अधिकृत किया जाएगा। किसी भी RVSF को प्राधिकरण प्रदान करते समय राज्य सरकार या केंद्र शासित प्रदेश सरकारें पात्रता मानदंड को ध्यान में रखेंगी। मंत्रालय ऐसी सुविधाओं के पंजीकरण या नवीनीकरण के लिए “एकल निकासी पोर्टल” स्थापित करेगा। पूरी प्रक्रिया 60 दिनों के भीतर पूरी कर ली जाएगी। RVSF का पंजीकरण 10 वर्षों के लिए वैध होगा और इसे एक बार में 10 और वर्षों के लिए नवीनीकृत किया जा सकता है। RVSF को राष्ट्रीय अपराध रिकॉर्ड ब्यूरो (NCRB) की पहुंच भी मिलेगी, ताकि चोरी के किसी भी वाहन को पहचाना जा सके। किसी भी राज्य में पंजीकृत वाहन को अन्य राज्यों में किसी भी पंजीकृत सुविधा में स्क्रैप किया जा सकता है।

राइट लाइवलीहुड अवार्ड 2021 की घोषणा की गयी

राइट लाइवलीहुड अवार्ड (Right Livelihood Award) 2021 दिल्ली बेस्ड पर्यावरण संगठन “Legal Initiative for Forest and Environment (LIFE)” को प्रदान किया गया। इस पुरस्कार को “स्वीडन के वैकल्पिक नोबेल पुरस्कार” (Sweden’s alternative Nobel Prize) के रूप में भी जाना जाता है। LIFE को “कमजोर समुदायों को उनकी आजीविका की रक्षा करने और स्वच्छ वातावरण के लिए उनके अधिकार का दावा करने के लिए जमीनी स्तर पर दृष्टिकोण” के लिए पुरस्कार मिला है।
अन्य पुरस्कार विजेताओं में शामिल हैं:

  1. कैमरून की महिला अधिकार कार्यकर्ता मार्थे वांडौ (Marthe Wandou)
  2. रूस के पर्यावरण कार्यकर्ता, व्लादिमीर स्लीव्याक (Vladimir Slivyak)
  3. कनाडा के स्वदेशी अधिकार रक्षक फ़्रेडा ह्यूसन (Freda Huson)
राइट लाइवलीहुड अवार्ड की स्थापना ओले वॉन उएक्सकुल (Ole von Uexkull) ने की थी, जो राइट लाइवलीहुड के कार्यकारी निदेशक हैं। यह पुरस्कार वैश्विक समस्याओं को हल करने में लोगों का सम्मान और समर्थन करता है। इसमें 1 मिलियन स्वीडिश क्राउन का नकद पुरस्कार और एक दीर्घकालिक समर्थन शामिल है जो पुरस्कार विजेताओं के काम को उजागर और विस्तारित करता है।

भारत में लॉन्च किया गया अमेज़न फ्यूचर इंजीनियर प्रोग्राम

अमेज़न इंडिया ने 27 सितंबर, 2021 को भारत में “अमेज़न फ्यूचर इंजीनियर” (Amazon Future Engineer Programme) लॉन्च करने की घोषणा की। Amazon Future इसका वैश्विक कंप्यूटर विज्ञान शिक्षा कार्यक्रम है। कंपनी के अनुसार, Amazon Future Programme गुणवत्तापूर्ण कंप्यूटर विज्ञान शिक्षा के साथ-साथ कम प्रतिनिधित्व वाले और पिछड़े समुदायों के छात्रों के लिए करियर के अवसरों तक पहुंच को सक्षम करेगा। अपने लॉन्च के पहले वर्ष के दौरान, अमेज़न का लक्ष्य भारत के 7 राज्यों में 900 सरकारी और सहायता प्राप्त स्कूलों के लगभग 1 लाख छात्रों को सीखने के अवसर प्रदान करना है। अमेज़न फ्यूचर इंजीनियर प्रोग्राम को इन-पर्सन, ऑनलाइन और मिश्रित शिक्षण प्रारूपों के माध्यम से छात्रों को कंप्यूटर विज्ञान की शिक्षा के लिए प्रारंभिक प्रदर्शन और पहुंच प्रदान करने के लिए लांच किया गया है। Amazon अपने ग्लोबल नॉलेज पार्टनर Code.org के सहयोग से काम कर रहा है, जो कंप्यूटर साइंस की शिक्षा के लिए समर्पित एक वैश्विक गैर-लाभकारी संगठन है।

फ्रांस और ग्रीस ने रक्षा समझौते पर हस्ताक्षर किए

फ्रांस और ग्रीस ने रक्षा क्षमताओं को बढ़ावा देने के लिए 27 सितंबर, 2021 को एक रक्षा सौदे पर हस्ताक्षर किए। रक्षा सौदे में तुर्की के साथ बार-बार तनाव के बीच पूर्वी भूमध्य सागर में अपनी रक्षा क्षमताओं को बढ़ाने की रणनीति के तहत तीन फ्रांसीसी युद्धपोतों को खरीदने का ग्रीन का निर्णय शामिल है। फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रॉन और ग्रीस के प्रधानमंत्री क्यारीकोस मित्सोटाकिस ने पेरिस में एक संयुक्त समाचार सम्मेलन में रक्षा और सुरक्षा रणनीतिक साझेदारी की घोषणा की। दोनों देशों के बीच रक्षा साझेदारी आपसी हितों के आधार पर रक्षा और सुरक्षा क्षेत्र में उनके बीच सहयोग को बढ़ाएगी। यह दोनों देशों में संप्रभुता, स्वतंत्रता, क्षेत्रीय अखंडता की रक्षा करने में भी मदद करेगा। रक्षा सौदे के तहत ग्रीस तीन फ्रांसीसी युद्धपोत खरीदेगा। इस सौदे में चौथे युद्धपोत के अधिग्रहण का विकल्प भी शामिल है। हाल ही में ऑस्ट्रेलिया को डीजल-इलेक्ट्रिक पनडुब्बियां बेचने का 66 अरब डॉलर का सौदा गंवाने के बाद फ्रांस के लिए यह घोषणा महत्वपूर्ण समय पर की गई है। फ्रांस की पनडुब्बियों के बजाय, ऑस्ट्रेलिया ने अमेरिका से परमाणु ऊर्जा से चलने वाली पनडुब्बियों को हासिल करने का विकल्प चुना।

Ease of Logistics Portal लांच किया गया

केंद्रीय वाणिज्य और उद्योग मंत्री पीयूष गोयल ने 27 सितंबर, 2021 को “ईज ऑफ लॉजिस्टिक्स पोर्टल” (Ease of Logistics Portal) लॉन्च किया। इस पोर्टल का लांच करते हुए मंत्री ने कहा कि ‘व्यापार के नियम’ सभी हितधारकों के लिए समान होने चाहिए। यह पोर्टल ‘वाणिज्य सप्ताह सम्मान समारोह’ के दौरान लॉन्च किया गया था, जिसे फेडरेशन ऑफ इंडियन एक्सपोर्ट ऑर्गनाइजेशन (FIEO) द्वारा आयोजित किया गया था। इस कार्यक्रम को संबोधित करते हुए, श्री पीयूष गोयल ने कहा कि सरकार हर किसी को अपने व्यवसायों के लिए समान अवसर प्रदान करेगी, भले ही वे बड़े या छोटे व्यवसाय हों। ईजी ऑफ लॉजिस्टिक्स पोर्टल पारदर्शिता लाने के लिए लांच किया गया है।

कोविड-19 से मरने वालों लोगों के परिजनों हेतु 50,000 रुपए की अनुग्रह राशि

हाल ही में गृह मंत्रालय ने कोविड-19 से मरने वालों लोगों के परिजनों हेतु 50,000 रुपए की अनुग्रह राशि देने के लिये आदेश जारी किये हैं। राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (National Disaster Management Authority- NDMA) द्वारा इस प्रकार की राशि की सिफारिश की गई। यह राशि राज्य आपदा प्रतिक्रिया कोष (SDRF) से वितरित की जाएगी। पिछले वर्ष मंत्रालय द्वारा कोविड-19 को आपदा के रूप में अधिसूचित किया गया था। मृत्यु के कारण को कोविड-19 के रूप में प्रमाणित होने पर मृतक के लिये अनुग्रह राशि लागू होती है। जिसमें राहत कार्यों में शामिल या राहत गतिविधियों में कार्यरत लोग शामिल होते हैं। यह सहायता देश में कोविड-19 के पहले मामले की तारीख से लागू होगी और आपदा के रूप में कोविड-19 की अधिसूचना या अगले आदेश तक, जो भी पहले हो, तक जारी रहेगी। SDRF का गठन आपदा प्रबंधन अधिनियम, 2005 की धारा 48 (1) (a) के तहत किया गया है। इसका गठन 13वें वित्त आयोग की सिफारिशों के आधार पर किया गया था।

01 अक्टूबर : अंतर्राष्ट्रीय कॉफी दिवस

कॉफी के उपयोग का जश्न मनाने और बढ़ावा देने के लिए हर साल 1 अक्टूबर को अंतर्राष्ट्रीय कॉफी दिवस (International Coffee Day) मनाया जाता है। बहुत से लोग मानते हैं कि कॉफी उनके स्वास्थ्य पर बुरा प्रभाव डाल सकती है, इसलिए इस दिन लोगों को इस पेय के विभिन्न लाभों के बारे में शिक्षित किया जाता है। अंतर्राष्ट्रीय कॉफी दिवस पर इन श्रमिकों और कॉफी उद्योग से जुड़े लोगों की कड़ी मेहनत और प्रयासों को भी पहचाना जाता है। इसमें शामिल क्षेत्रों और श्रमिकों की संख्या को ध्यान में रखते हुए, यह दिन न केवल पेय को संजोने के लिए मनाया जाता है, बल्कि इस क्षेत्र और इससे जुड़े लोगों के साथ हुए अन्याय के लिए आवाज उठाने के लिए भी मनाया जाता है। इस दिन का उद्देश्य कॉफी के निष्पक्ष व्यापार को बढ़ावा देना और दुनिया भर में कॉफी उत्पादकों की स्थिति को सुर्खियों में लाना है। पहली बार अंतर्राष्ट्रीय कॉफी दिवस 2015 में मनाया गया था।

विश्व शाकाहारी दिवस: 01 अक्टूबर

एक शाकाहारी जीवन शैली के नैतिक, पर्यावरण, स्वास्थ्य और मानवीय लाभों के बारे में जागरूकता बढ़ाने के लिए विश्व स्तर पर विश्व शाकाहारी दिवस (World Vegetarian Day) प्रतिवर्ष 1 अक्टूबर को मनाया जाता है। विश्व शाकाहारी दिवस लोगों को पशु उत्पादों को छोड़ने के लिए प्रोत्साहित करने के लिए पर्यावरण संबंधी विचारों, पशु कल्याण और अधिकारों के मुद्दों और व्यक्तिगत स्वास्थ्य लाभों पर जोर देने के लिए मनाया जाता है। 1-7 अक्टूबर के बीच का पूरा सप्ताह अंतर्राष्ट्रीय शाकाहारी सप्ताह (International Vegetarian Week - IVW) के रूप में मनाया जाता है। 1800 के दशक के मध्य में 'शाकाहारी' शब्द के लोकप्रिय होने से पहले शाकाहार को अक्सर पाइथागोरस आहार (Pythagorean Diet) के रूप में जाना जाता था। प्राचीन यूनानी दार्शनिक और गणितज्ञ पाइथागोरस आहार के शुरुआती समर्थक थे, इसलिए इसका नाम उनके नाम पर रखा गया। 1977 में नॉर्थ अमेरिकन वेजिटेरियन सोसाइटी (North American Vegetarian Society) द्वारा स्थापित और 1978 में इंटरनेशनल वेजिटेरियन यूनियन (International Vegetarian Union) द्वारा समर्थित, विश्व शाकाहारी दिवस 1 अक्टूबर को दुनिया भर में प्रतिवर्ष मनाया जाता है।

01 अक्टूबर : अंतर्राष्ट्रीय वृद्धजन दिवस

वृद्ध व्यक्तियों का अंतर्राष्ट्रीय दिवस (International Day of Older Persons) हर साल 1 अक्टूबर को विश्व स्तर पर मनाया जाता है। इस दिन का उद्देश्य बुजुर्गों को प्रभावित करने वाले मुद्दों, जैसे कि बुढ़ापा और बड़े दुर्व्यवहार के बारे में जागरूकता बढ़ाना और समाज में वृद्ध लोगों द्वारा किए गए योगदान की सराहना करना है। अंतर्राष्ट्रीय वृद्धजन दिवस 2021 का विषय: सभी उम्र के लिए डिजिटल इक्विटी (Digital Equity for All Ages) है। 14 दिसंबर 1990 को, संयुक्त राष्ट्र महासभा ने 1 अक्टूबर को वृद्ध व्यक्तियों के अंतर्राष्ट्रीय दिवस (संकल्प 45/106) के रूप में नामित किया। यह उम्र बढ़ने पर वियना इंटरनेशनल प्लान ऑफ एक्शन (Vienna International Plan of Action on Ageing) जैसी पहल से पहले था, जिसे 1982 की विश्व सभा ने एजिंग पर अपनाया था और उस वर्ष बाद में संयुक्त राष्ट्र महासभा द्वारा अनुमोदित किया गया था।

Start Quiz! PRINT PDF

« Previous Next Affairs »

Notes

Notes on many subjects with example and facts.

Notes

QUESTION

Find Question on this Topic and many other subjects

Learn More

Test Series

Here You can find previous year question paper and mock test for practice.

Test Series

Download

Here you can download Current Affairs Question PDF.

Download

Join

Join a family of Rajasthangyan on


Contact Us Contribute About Write Us Privacy Policy About Copyright

© 2021 RajasthanGyan All Rights Reserved.