Ask Question | login | Register
Notes
Question
Quiz
Tricks
Facts

7 March 2022

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पुणे में मेट्रो रेल परियोजना का उद्घाटन किया

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पुणे मेट्रो रेल परियोजना के 12 किलोमीटर खंड का उद्घाटन किया। लगभग 32 किलोमीटर की इस परियोजना पर 11 हजार चार सौ करोड़ रुपये से अधिक की लागत आएगी। श्री मोदी ने गरवारे मेट्रो स्टेशन पर एक प्रदर्शनी का उद्घाटन भी किया और वहां से आनंदनगर स्टेशन तक मेट्रो की सवारी की। प्रधानमंत्री ने पुणे नगर निगम के परिसर में छत्रपति शिवाजी महाराज की प्रतिमा का भी अनावरण किया। यह प्रतिमा लगभग 9.5 फीट ऊंची है। प्रधानमंत्री ने पुणे में मुला-मुथा नदी के पुनरूद्धार और प्रदूषण कम करने से संबंधित परियोजनाओं का शिलान्‍यास किया। इस नदी के 9 किलोमीटर के क्षेत्र में अमल में लाई जाने वाली पुनरूद्धार योजना पर एक हजार 80 करोड़ रुपये की लागत आएगी। परियोजना के तहत कुल 11 सीवेज उपचार संयंत्रों का निर्माण किया जाएगा, जिनकी संयुक्त क्षमता लगभग चार सौ मिलियन लीटर प्रति दिन होगी। श्री मोदी ने बानेर में एक सौ ई-बसों और ई-बस डिपो का भी शुभारंभ किया। प्रधानमंत्री ने पुणे के बालेवाड़ी में आरके लक्ष्मण आर्ट गैलरी-संग्रहालय का भी उद्घाटन किया। संग्रहालय का मुख्य आकर्षण मालगुडी गांव पर आधारित लघु मॉडल है जिसे श्रव्य-दृश्य प्रभावों के माध्यम से जीवंत किया जाएगा। इस संग्रहालय में कार्टूनिस्ट आरके लक्ष्मण द्वारा बनाए गए कार्टून भी प्रदर्शित किए जाएंगे। प्रधानमंत्री ने सिम्बायोसिस विश्वविद्यालय, पुणे के स्वर्ण जयंती समारोह का उद्घाटन किया। उन्होंने सिम्बायोसिस आरोग्य धाम का भी उद्घाटन किया। इस अवसर पर, महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी और उप मुख्यमंत्री अजीत पवार समेत कई गण्‍यमान्‍य व्‍यक्ति मौजूद थे।

रूस ने यूक्रेन में यूरोप के सबसे बड़े परमाणु केन्द्र पर कब्जा किया

यूक्रेन स्थित जपोरिजिया परमाणु संयत्र पर हमले के बाद रूस ने उसे अपने नियंत्रण में ले लिया है। यूक्रेन के अधिकारियों के अनुसार यूरोप के इस सबसे बडे परमाणु संयत्र में हमले के बाद आग लग गई, हालांकि अब यह सुरक्षित है। विकिरण का स्‍तर भी सामान्‍य बताया गया है। विश्‍व के कई नेताओं ने रूस पर पूरे महाद्वीप की सुरक्षा खतरे में डालने का आरोप लगाया है। यूक्रेन के राष्‍ट्रपति ने इसे रूस का परमाणु आतंक बताया है। इस बीच, यूक्रेन के राष्‍ट्रपति वोलोदोमीर जेलेंस्‍की ने कहा है कि रूस 1986 की चेर्नोबिल परमाणु त्रासदी को दोहराना चाहता है। उधर, रूस के रक्षा मंत्री ने कहा है कि परमाणु संयंत्र पर हमला यूक्रेन के छापामारों की भड़काऊ कार्रवाई है। यूक्रेन के परमाणु विभाग के अनुसार, 6 रिएक्‍टरों में से एक के भवन को नुकसान पहुंचा है, हालांकि रिएक्‍टर की सुरक्षा प्रभावित नहीं हुई है।

मेघालय ने CBI की सहमति वापस ली

मेघालय राज्य में मामलों की जांच के लिए CBI से सहमति वापस लेने वाला देश का नौवां राज्य बन गया है। दिल्ली विशेष पुलिस स्थापना (DSPE) अधिनियम, 1946 CBI को नियंत्रित करता है और किसी राज्य में किसी अपराध की जांच शुरू करने से पहले संबंधित राज्य सरकार की सहमति प्राप्त करना अनिवार्य है। राज्य आमतौर पर अपने राज्यों में केंद्र सरकार के कर्मियों से जुड़े भ्रष्टाचार के मामलों की निर्बाध जांच करने में सीबीआई की सहायता करने के लिए आम सहमति देते हैं। यह डिफ़ॉल्ट रूप से सहमति है अन्यथा सीबीआई को हर मामले में राज्य सरकार से अनुमति लेनी होगी, यहां तक ​​कि छोटे कार्यों के लिए भी। इसका मतलब है कि सीबीआई राज्य सरकार की अनुमति के बिना राज्य में केंद्र सरकार के अधिकारियों या निजी व्यक्तियों से जुड़े कोई भी नए मामले दर्ज नहीं कर पाएगी। राज्य में प्रवेश करने वाले CBI अधिकारी राज्य में प्रवेश करते ही एक पुलिस अधिकारी की सभी शक्तियों को खो देंगे, यदि उन्हें राज्य की सरकार से अनुमति नहीं मिली हो। मेघालय से पहले, आठ अन्य राज्य जिन्होंने CBI से सहमति वापस ले ली थी, वे हैं : पंजाब, महाराष्ट्र, पश्चिम बंगाल, राजस्थान, छत्तीसगढ़, झारखंड, मिजोरम और केरल। सहमति वापस लेने वाला पहला राज्य मिजोरम था जिसने 2015 में ऐसा किया था।

यूक्रेन ने रूस पर थर्मोबैरिक हथियारों का उपयोग करने का आरोप लगाया

मानवाधिकार समूहों एमनेस्टी इंटरनेशनल और ह्यूमन राइट्स वॉच और अमेरिका में यूक्रेन के राजदूत ने रूस पर यूक्रेन के खिलाफ चल रहे युद्ध में थर्मोबैरिक हथियारों का उपयोग करने का आरोप लगाया है। थर्मोबैरिक हथियार सबसे विनाशकारी हथियारों में से एक है क्योंकि वे पारंपरिक बम की तुलना में काफी अधिक विनाश करते हैं। यह उच्च तापमान विस्फोट उत्पन्न करने के लिए आसपास की हवा से ऑक्सीजन का उपयोग करता है। इसे एरोसोल बम, fuel-air explosive (FAE), या वैक्यूम बम (vacuum bomb) के रूप में भी जाना जाता है। Fuel-air explosive थर्मोबैरिक हथियारों के सबसे प्रसिद्ध प्रकारों में से एक है। इसमें विभिन्न ईंधनों का उपयोग किया जा सकता है, जिसमें जहरीली पाउडर धातु और ऑक्सीडेंट युक्त कार्बनिक पदार्थ शामिल हैं। इसे हैंड-हेल्ड लॉन्चर में फिट किया जा सकता है, टैंक-माउंटेड लॉन्चर से रॉकेट के रूप में दागा जा सकता है, या विमान से गिराया जा सकता है। ये हथियार आम तौर पर दो चरणों में काम करते हैं। जैसे ही हथियार लक्ष्य को गिरते हैं, पहला विस्फोट होता है और यह बम के ईंधन कंटेनर को खोलेगा, जिससे ईंधन और धातु के कणों का एक बादल निकलेगा जो एक बड़े क्षेत्र में फैल जाता है। फिर दूसरा विस्फोट एयरोसोल बादल को आग के विशाल गोले में प्रज्वलित करने के लिए होता है और तीव्र विस्फोट तरंगें भेजता है जो भारी विनाश का कारण बन सकती हैं। सैन्य लक्ष्यों के खिलाफ उपयोग के लिए थर्मोबैरिक युद्धपोतों को स्पष्ट रूप से प्रतिबंधित नहीं किया गया है। हालांकि निर्मित क्षेत्रों, स्कूलों या अस्पतालों में नागरिक आबादी के खिलाफ उनके उपयोग के विरुद्ध, 1899 और 1907 के हेग सम्मेलनों के तहत कार्रवाई की जा सकती है।

भारत का पहला FSRU Höegh Giant जयगढ़ टर्मिनल पर पहुंचा

महाराष्ट्र में एच-जयगढ़ एनर्जी के टर्मिनल को भारत की पहली फ्लोटिंग स्टोरेज और रीगैसिफिकेशन यूनिट (floating storage and regasification unit - FSRU) प्राप्त हुई है। 12 अप्रैल, 2021 को FSRU Höegh Giant सिंगापुर के केपेल शिपयार्ड से रवाना होकर महाराष्ट्र के जयगढ़ टर्मिनल पर पहुंचा। यह भारत का पहला एफएसआरयू-आधारित एलएनजी प्राप्त करने वाला टर्मिनल होगा, साथ ही साथ महाराष्ट्र की पहली एलएनजी सुविधा भी होगी। होएग जायंट, जिसे 2017 में बनाया गया था, की भंडारण क्षमता 1,70,000 क्यूबिक मीटर है और प्रति दिन 750 मिलियन क्यूबिक फीट (लगभग छह मिलियन टीपीए के बराबर) की पुनर्गैसीकरण क्षमता है। एफएसआरयू को एच-एनर्जी द्वारा 10 साल की अवधि के लिए चार्टर्ड किया गया है। Höegh Giant LNG टर्मिनल को 56 किलोमीटर की जयगढ़-दाभोल प्राकृतिक गैस पाइपलाइन के माध्यम से राष्ट्रीय गैस ग्रिड से जोड़ा जाएगा। यह सुविधा ट्रक लोडिंग सुविधाओं के माध्यम से तटवर्ती वितरण के लिए एलएनजी भी वितरित करेगी। संयंत्र में बंकरिंग सेवाओं के लिए एलएनजी को छोटे पैमाने के एलएनजी जहाजों में फिर से लोड करना भी संभव है एच-एनर्जी की योजना क्षेत्र के छोटे पैमाने के एलएनजी बाजार को बढ़ावा देने की है, एलएनजी भंडारण के लिए एफएसआरयू का उपयोग करना और छोटी नावों में पुनः लोड करना। एलएनजी टर्मिनल एच-एनर्जी द्वारा विश्व स्तरीय तकनीकी और सुरक्षा मानकों के लिए बनाया गया था। एलएनजी टर्मिनल महाराष्ट्र के रत्नागिरी जिले में जेएसडब्ल्यू जयगढ़ पोर्ट में स्थित है। यह बंदरगाह महाराष्ट्र का पहला गहरे पानी वाला निजी बंदरगाह है जो सप्ताह के सातों दिन 24 घंटे खुला रहता है।

जम्मू-कश्मीर सरकार ने Village Defence Groups के लिए मंज़ूरी दी

जम्मू-कश्मीर की परिसीमन प्रक्रिया शुरू होने से पहले जम्मू और कश्मीर के गांवों के निवासियों को स्थानीय सुरक्षा के लिए नामांकित किया जाएगा। सरकार ने village defence groups (VDG) के गठन को मंजूरी दे दी है। VDG इसलिए बनाए जाएंगे ताकि वे उन क्षेत्रों में खतरों का जवाब दे सकें जहां स्थानीय पुलिस की उपस्थिति कम है। प्रत्येक VDG में समान रैंक और वेतन वाले 8 से 10 सदस्य होंगे। 1 या 2 विशेष पुलिस अधिकारियों को VDG में शामिल करने की मौजूदा व्यवस्था को बंद कर दिया जाएगा। VDG कश्मीर घाटी के कुछ हिस्सों में भी काम करेंगे। जम्मू और कश्मीर में VDG काफी समय से काम कर रहे हैं। परन्तु उन्हें काफी समय से पैसे न दिया जाने के कारण लोगों ने VDG को छोड़ दिया। VDG से मिली खुफिया जानकारी की मदद से सुरक्षा बल बड़ी संख्या में आतंकियों का सफाया करने में सफल रहे हैं। 1990 के दशक में जब जम्मू-कश्मीर में हिंसा और आतंकवाद अपने चरम पर था, तब VDG ने दूरदराज के इलाकों में लोगों की मदद की और उन्हें आतंकवादी हमलों से बचाया। VDG की मदद से सशस्त्र बल उस क्षेत्र में होने वाली सभी आतंकवादी गतिविधियों को खत्म करने की कोशिश करेंगे।

यूक्रेन ने पश्चिमी देशों से नो-फ्लाई ज़ोन स्थापित करने पर विचार करने के लिए कहा

यूक्रेन के ज़ापोरिज़्ज़िया परमाणु ऊर्जा संयंत्र (Zaporizhzhia nuclear power plant) पर रूसी सेना द्वारा हमले के मद्देनजर, यूक्रेन के राष्ट्रपति वलोदिमिर ज़ेलेंस्की ने पश्चिमी देशों से नो-फ्लाई ज़ोन स्थापित करने पर विचार करने के लिए कहा था। यह नागरिकों की सुरक्षा और परमाणु दुर्घटना को रोकने के लिए है। हालांकि, युद्ध के बढ़ने के खतरों के कारण, नाटो देशों ने नो-फ्लाई ज़ोन लगाने की मांग को खारिज कर दिया। नो-फ्लाई ज़ोन एक सैन्य शक्ति द्वारा स्थापित एक क्षेत्र है, जिस पर अनधिकृत विमानों को उड़ान भरने की अनुमति नहीं होती है। इसे नो-फ्लाइट ज़ोन (NFZ) या एयर एक्सक्लूज़न ज़ोन (AEZ) आम तौर पर एक राष्ट्र द्वारा किसी दुश्मन देश के क्षेत्र में संघर्ष या युद्ध के दौरान स्थापित किए जाते हैं। नो-फ्लाई ज़ोन का उद्देश्य इस क्षेत्र में दुश्मन देश के विमानों के संचालन को रोकना है। किसी देश द्वारा नो-फ्लाई ज़ोन लागू करने के बाद, आम तौर पर इसे लागू करने के लिए और निगरानी उद्देश्यों के लिए भी सैन्य कर्मियों को तैनात किया जाता है। उल्लंघनों को रोकने के लिए, एक देश हवाई जहाजों पर प्रीमेप्टिव हमलों का सहारा भी ले सकता है। नो-फ्लाई ज़ोन पहले 1991 में इराक में खाड़ी युद्ध, बोस्निया और हर्जेगोविना में गृह युद्ध (1993-95) और 2011 में लीबिया में गृह युद्ध के दौरान स्थापित किया गया था। हालाँकि, नो-फ्लाई ज़ोन की अनुमति केवल सैन्य संदर्भ में नहीं है। उन्हें नागरिक उद्देश्यों के लिए भी स्थापित किया जा सकता है।उदाहरण के लिए, इसे 2012 में लंदन में आयोजित ओलंपिक खेलों के दौरान स्थापित किया गया था।

प्लास्टिक कचरे के मुद्दे से निपटने के लिए ‘संभव’ और ‘स्वावलंबन’ पहल शुरू की गई

भारत में प्लास्टिक कचरे के मुद्दे से निपटने के लिए ‘संभव’ और ‘स्वावलंबन’ पहल शुरू की गई हैं। प्लास्टिक रीसाइक्लिंग और अपशिष्ट प्रबंधन पर अंतर्राष्ट्रीय शिखर सम्मेलन में केंद्रीय सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम राज्य मंत्री, भानु प्रताप सिंह वर्मा द्वारा ‘संभव’ और ‘स्ववलंबन’ पहल शुरू की गई। इन पहलों का उद्देश्य विशेष रूप से भारत के आकांक्षी जिलों के युवा उद्यमियों को प्रोत्साहित करना है। प्लास्टिक पुनर्चक्रण और अपशिष्ट प्रबंधन पर अंतर्राष्ट्रीय शिखर सम्मेलन 2 दिवसीय शिखर सम्मेलन (4- 5 मार्च, 2022) है, जिसका उद्घाटन केंद्रीय सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम राज्य मंत्री भानु प्रताप सिंह वर्मा ने किया। इस शिखर सम्मेलन का आयोजन नई दिल्ली में MSME मंत्रालय द्वारा अखिल भारतीय प्लास्टिक निर्माता संघ (AIPMA) के सहयोग से किया गया। इस शिखर सम्मेलन का यह आदर्श वाक्य है “Know your Waste and how Recycling is the right thing to do, which is to be done in a right way”। इस शिखर सम्मेलन में लगभग 1350 MSMEs ने भाग लिया, यह सम्मेलन हाइब्रिड मोड में आयोजित किया गया। यह शिखर सम्मेलन उद्यमियों, विशेषज्ञों, व्यापारियों और अन्य हितधारकों को एमएसएमई क्षेत्र और प्लास्टिक क्षेत्रों में चुनौतियों और समाधानों पर विचार-विमर्श करने के लिए एक मंच प्रदान करता है। यह प्लास्टिक क्षेत्र में आजीविका और व्यापार के नए अवसर भी पैदा करेगा, साथ ही भारत को प्लास्टिक प्रदूषण के मुद्दे से निपटने और पर्यावरणीय लक्ष्यों को पूरा करने में मदद करेगा।

वीज़ा और मास्‍टरकार्ड ने यूक्रेन मुद्दे को लेकर रूस में अपना प्रचालन स्‍थगित किया

भुगतान के लिए कार्ड जारी करने वाली अमरीकी कंपनियों - वीज़ा और मास्‍टरकार्ड ने यूक्रेन मुद्दे को लेकर रूस में अपना प्रचालन स्‍थगित कर दिया है। दोनों कंपनियों ने कहा कि फिलहाल रूस में वीज़ा और मास्‍टरकार्ड से कोई लेन-देन नहीं हो सकेगा। वीज़ा के मुख्‍य कार्यकारी अधिकारी एल केली ने एक बयान में कहा कि यूक्रेन के विरुद्ध रूस की अकारण कार्रवाई के कारण कंपनी यह फैसला लेने के लिए बाध्‍य है। मास्‍टर कार्ड ने भी कहा है कि रूसी बैंकों द्वारा जारी मास्‍टरकार्ड अब उनकी कंपनी के नेटवर्क से जुड़े नहीं रह गए हैं। कंपनी ने यह भी कहा कि रूस के बाहर जारी मास्‍टरकार्ड का उपयोग रूस के एटीएम और कारोबारी लेन-देन लिए नहीं किया जा सकेगा।

15वां अंतरराष्ट्रीय बाल फिल्म महोत्सव ढाका में शुरू हुआ

15वां अंतरराष्ट्रीय बाल फिल्म महोत्सव ढाका में शुरू हुआ। इसकी शुरूआत डेनिस गंसेल के निर्देशन में बनी जर्मन फिल्म जिम बटन एंड द वाइल्ड-13 के प्रदर्शन से हुई। महोत्सव में 38 देशों की एक सौ 17 फिल्में दिखाई जायेंगी। ज्यूरी सदस्यों में बांग्लादेश फिल्म जगत की जानी-मानी हस्तियां - ग्यासुद्दीन सलीम, अमिताभ राजा चौधरी और शबनम फ‍िरदौसी शामिल हैं। युवा बांग्लादेशी प्रतिभा वर्ग में 19 से 25 वर्ष की आयु के फिल्म निर्माताओं की फिल्में प्रतिस्पर्धा में शामिल की गई हैं। महोत्सव में बांग्लादेश की नौ फिल्में दिखाई जायेंगी। सप्ताह भर चलने वाला यह महोत्सव इस महीने की 11 तारीख तक चलेगा। बांग्लादेश की बाल फिल्म सोसायटी 2008 से ही इस महोत्सव का आयोजन कर रही है।

यूक्रेन संकट के कारण इंटर्नशिप अधूरी छोड़कर लौटने वाले मेडिकल स्नातक विद्यार्थी अपनी इंटर्नशिप भारत में पूरी कर सकते हैं

मौजूदा यूक्रेन संकट के कारण अपनी इंटर्नशिप अधूरी छोड़कर देश लौटने वाले मेडिकल स्नातक विद्यार्थी अपनी इंटर्नशिप भारत में पूरी कर सकते हैंराष्ट्रीय चिकित्सा आयोग - एनएमसी ने इस आशय की अधिसूचना जारी कर दी है। एन एम सी ने अधिसूचना में कहा है कि युक्रेन से भारतीयों की निकासी और कोविड महामारी के बीच विदेशी मेडिकल विद्या‍र्थियों को कुछ राज्य चिकित्सा परिषदों में अपना पंजीकरण कराने में दिक्कतों का सामना करना पड रहा है इसलिए ऐसे विद्या‍र्थियों के तनाव को देखते हुए उनकी इंटर्नशिप भारत में पूरी करने का निर्णय लिया गया है।अधिसूचना में कहा गया है कि विद्या‍र्थियों के आवेदन पर प्रक्रिया शुरू करने का काम राज्य चिकित्सा परिषद द्वारा किया जा सकता है बशर्ते कि ये छात्र विदेशी चिकित्सा शिक्षा परीक्षा में उत्तीर्ण घोषित किये गये हों।

केन्द्रीय मंत्री सर्बानंद सोनोवाल ने कार्गो पोत एमवी लालबहादुर शास्त्री की अगवानी की

केन्द्रीय बंदरगाह, जहाजरानी तथा जलमार्ग और आयुष मंत्री श्री सर्बानंद सोनोवाल ने कार्गो पोत एमवी लालबहादुर शास्त्री की अगवानी की। यह कार्गो पटना से अनाज लेकर बांग्लादेश होते हुए गुवाहाटी के पांडु बंदरगाह रवाना हुआ। इस ऐतिहासिक अवसर पर केन्द्रीय मंत्री सर्बानंद सोनोवाल ने कहा कि यह कार्य असम में अंतर्देशीय जल परिवहन के एक नए युग को चिन्हित करता है। निर्बाध कार्गो परिवहन असम की जनता की अधूरी इच्छाओं और आकांक्षाओं की एक यात्रा है। एक महीने के लिए पश्चिम बंगाल और बांग्लादेश की दो हजार तीन सौ पचास किलोमीटर की यात्रा करने वाले इस पोत को पांच फरवरी को केन्द्रीय बंदरगाह, जहाजरानी तथा जलमार्ग मंत्री ने पटना के अंतर्देशीय जल टर्मिनल गाई घाट से झंडी दिखाकर रवाना किया। इस जहाज पर भारतीय खाद्य निगम के लिए दो सौ मीट्रिक टन चावल है। एमवी पोत ने पूर्वोत्तर क्षेत्र में जलमार्ग के जरिये कनेक्टिविटी के लिए एक नया द्वार खोला है।

देश के पहले स्वदेशी प्रशिक्षण विमान हंस-एनजी के समुद्री स्तर के परीक्षण सफलतापूर्वक पूरे

बेंगलुरू की राष्ट्रीय एयरोस्पेस प्रयोगशालाओं में विकसित और डिजाइन किए गए पहले स्वदेशी उडान प्रशिक्षक हंस-एनजी ने पुदुच्चेरी में समु्द्र स्तरीय परीक्षण सफलतापूर्वक पूरे कर लिए हैं। ये परीक्षण पिछले महीने की 19 तारीख से शुरू हुए थे । पहले दिन यह विमान एक सौ 55 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से डेढ घंटे में एक सौ चालीस समुद्री मील की दूरी तय करते हुए पुदुच्चेरी पहुंचा। वहां 18 घंटे की उडान पूरी करने के बाद बेंगलुरू लौट आया।

UAE को FATF की ग्रे लिस्ट में शामिल किया गया

4 मार्च, 2022 को फाइनेंशियल एक्शन टास्क फोर्स (FATF) ने संयुक्त अरब अमीरात (UAE) को अपनी ग्रे लिस्ट में शामिल किया है। FATF 1989 में G7 देशों द्वारा स्थापित एक अंतर-सरकारी निकाय है। यह मुख्य रूप से एक नीति-निर्माण निकाय है और इसका कार्य धन-शोधन और आतंकवाद के वित्तपोषण से निपटने के लिए देश की वित्तीय प्रणाली में सुधारों को बढ़ावा देना है। FATF की ग्रे सूची को आधिकारिक तौर पर “अन्य निगरानी वाले क्षेत्राधिकारों” (Other monitored jurisdictions) की सूची के रूप में जाना जाता है। यदि किसी देश को FATF की ग्रे सूची में रखा जाता है, तो FATF द्वारा “मनी लॉन्ड्रिंग, आतंकवादी वित्तपोषण और प्रसार वित्तपोषण” का मुकाबला करने में किसी भी कमी या खामियों के लिए इसकी बारीकी से निगरानी और जांच की जाएगी। ऐसे देश निर्धारित समय सीमा के भीतर वित्तीय अनियमितताओं को दूर करने और वित्तीय प्रणाली की अखंडता को बनाए रखने के लिए FATF के साथ सहयोग करने के लिए भी सहमत होंगे। FATF वित्तीय व्यवस्था को सुधारने और मजबूत करने के लिए देशों को एक कार्य योजना भी प्रदान करेगा। FATF देशों द्वारा की गई प्रतिबद्धताओं की प्रगति की लगातार निगरानी करेगा और समय-समय पर समीक्षा के माध्यम से सूची को अपडेट करेगा।

फाइनेंशियल एक्‍शन टास्‍क फोर्स ने पाकिस्‍तान को ग्रे लिस्‍ट में बरकरार रखा

फाइनेंशियल एक्‍शन टास्‍क फोर्स- एफ.ए.टी.एफ. ने एक बार फिर पाकिस्‍तान को अपनी ग्रे लिस्‍ट में बनाए रखा है। फ्रांस की राजधानी पेरिस से संचालित इस संस्‍था ने पाकिस्‍तान से कहा है कि वह धन के अवैध कारोबार से जुड़े जटिल मामलों और मुकदमों को गम्‍भीरता से ले। एफ.ए.टी.एफ. ने चार मार्च को अपने पूर्ण सत्र के समापन पर यह निर्णय लिया। आतंकवाद रोकने के मद में धन कम करने और धन के अवैध कारोबार को लेकर पाकिस्‍तान जून-2018 से ही एफ.ए.टी.एफ. की ग्रे लिस्‍ट में है। इसके कारण पाकिस्‍तान के आयात-निर्यात, नकदी जमा और अंतरराष्‍ट्रीय ऋण प्राप्‍त करने पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ा है। इस वर्ष एफ.ए.टी.एफ. के पूर्ण सत्र की अध्‍यक्षता जर्मनी ने की। इसमें दुनियाभर के दो सौ से ज्‍यादा सदस्‍यों और पर्यवेक्षक संगठनों ने हिस्‍सा लिया। इनमें अंतरराष्‍ट्रीय मुद्रा कोष, संयुक्‍त राष्‍ट्र और एगमोंट ग्रुप ऑफ फाइनेंशियल इंटेलिजेंस इकाइयां शामिल थीं।

जन औषधि बाल मित्र कार्यक्रम

जन औषधि दिवस सप्ताह के तीसरे दिन देश भर में 75 स्थानों पर जन औषधि बाल मित्र कार्यक्रम आयोजित किया गया। इस कार्यक्रम का आयोजन जन औषधि योजना के साथ बाल मित्र के रूप में बच्चों को शामिल करने के लिए किया गया। इसके तहत बच्चों को परियोजना, बचत, जन औषधि सेवा भी रोजगार भी, जन औषधि दवाओं और ब्रांडेड दवाओं के बीच मूल्य अंतर आदि के बारे में शिक्षित किया जायेगा।

हिमाचल: MLALAD फंड में वृद्धि की गई

हिमाचल प्रदेश की राज्य विधानसभा में बजट 2022-23 पेश करते हुए, मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने घोषणा की कि विधान सभा सदस्य स्थानीय क्षेत्र विकास (Member of Legislative Assembly Local Area Development – MLALAD) निधि को 1.80 करोड़ रुपये से बढ़ाकर 2 करोड़ रुपये किया जाएगा। MLALAD फंड में 20,00,000 रुपये की बढ़ोतरी की गई है। सीएम ने अपना पांचवां और आखिरी बजट पेश करते हुए कहा कि उनके कार्यकाल में MLALAD में कुल 90 लाख रुपये की बढ़ोतरी की गई है। विधायक विवेकाधीन कोष को भी 10 लाख रुपये से बढ़ाकर 12 लाख रुपये कर दिया गया है। राज्य के स्वास्थ्य क्षेत्र को ध्यान में रखते हुए डॉक्टरों के 500 नए पद भी सृजित किए जाएंगे। मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने कहा कि विभिन्न प्रकार की बीमारियों के लिए मुफ्त स्वास्थ्य सेवाएं प्रदान करने वाले हिमकेयर कार्ड को हर साल के बजाय हर तीन साल में रिन्यू कराना होगा। नगर निगमों में मेयर, डिप्टी मेयर और पार्षदों का मानदेय भी क्रमश: 12000 रुपये, 8500 रुपये और 5050 रुपये से बढ़ाकर 15,000 रुपये, 10000 रुपये और 6,050 रुपये प्रति माह कर दिया गया है। अप्रैल से मंडी जिले में सरदार पटेल विश्वविद्यालय भी काम करना शुरू कर देगा। प्रदेश में 1000 नए आंगनबाड़ी भवन भी खोले जाएंगे।

नासा ने यूरोपा क्लिपर अंतरिक्ष यान (Europa Clipper Spacecraft) को असेम्बल करना शुरू किया

यूरोपा क्लिपर जिसे पहले यूरोपा मल्टीपल फ्लाईबाई मिशन (Europa Multiple Flyby Mission) के रूप में जाना जाता था, नासा द्वारा विकसित किया जा रहा एक इंटरप्लेनेटरी मिशन है और इसमें एक ऑर्बिटर भी शामिल है। अक्टूबर 2024 में लॉन्च होने वाले इस अंतरिक्ष यान को बृहस्पति की कक्षा में रहते हुए फ्लाईबाई की एक श्रृंखला के माध्यम से चंद्रमा यूरोपा का अध्ययन करने के लिए डिज़ाइन किया जा रहा है। गैलीलियो अंतरिक्ष यान (Galileo spacecraft) द्वारा बृहस्पति के चारों ओर आठ साल के दौरान किए गए अनुवर्ती अध्ययन यूरोपा क्लिपर द्वारा किए जाएंगे। गैलीलियो ने यूरोपा की बर्फ की परत के नीचे एक उपसतह महासागर के अस्तित्व का खुलासा किया था। यह परियोजना एप्लाइड फिजिक्स लेबोरेटरी (APL) और जेट प्रोपल्शन लेबोरेटरी (JPL) के बीच एक संयुक्त मिशन के रूप में शुरू हुई और इसे APL, JPL, ऑस्टिन में टेक्सास विश्वविद्यालय, साउथवेस्ट रिसर्च इंस्टीट्यूट, कोलोराडो बोल्डर विश्वविद्यालय, और एरिज़ोना स्टेट यूनिवर्सिटी द्वारा आपूर्ति किए गए नौ उपकरणों के वैज्ञानिक पेलोड के साथ विकसित किया जाएगा। ESA का जुपिटर आइसी मून्स एक्सप्लोरर (Jupiter Icy Moons Explorer), जिसे 2022 में लॉन्च किया जाएगा, इस मिशन का पूरक होगा। गैनीमेड की कक्षा में जाने से पहले जुपिटर आइसी मून्स एक्सप्लोरर यूरोपा से दो बार और कैलिस्टो से कई बार फ्लाईबाई करेगा। अक्टूबर, 2024 में 21-दिवसीय लॉन्च विंडो के दौरान, इस मिशन को फाल्कन हेवी पर लॉन्च किया जाएगा। मंगल ग्रह से गुरुत्वाकर्षण सहायता इस अंतरिक्ष यान द्वारा फरवरी 2025 में प्राप्त की जाएगी।

पूर्व प्रधानमंत्री वाजपेयी के सहयोगी रहे शिव कुमार पारीक का निधन

प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी ने पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के लंबे समय तक सहयोगी रहे शिव कुमार पारीक के निधन पर गहरा दु:ख व्‍यक्‍त किया है। पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के निजी सचिव रहे शिवकुमार पारीक का निधन हो गया है। राजस्थान के रहने वाले शिवकुमार पारीक 83 वर्ष के थे। वह लंबे समय से बीमार चल रहे थे। पारीक ने 60 साल से अटल बिहारी का हाथ थामे रखा, वे दिल्ली एम्स में भी अंत तक उनकी सेवा में जुटे रहे।

पाकिस्‍तान के पेशावर की मस्जिद में हुए बम धमाके में 56 नमाज़ियों की मौत, 194 घायल

पाकिस्‍तान के उत्‍तरी शहर पेशावर की एक शिया मस्जिद में हुए जबरदस्‍त बम धमाके में कम से कम 56 नमाजी मारे गए हैं जबकि 194 घायल हुए हैं। स्‍थानीय पुलिस अधिकारी ने बताया कि पेशावर के पुराने हिस्‍से में मौजूद कूचा रिसालदार मस्जिद में यह धमाका ऐसे समय हुआ जब नमाजी जुम्‍मे की नमाज के लिए वहां इकट्ठा थे। घायलों को संकरी गलियों के रास्‍ते एम्‍बुलेंस में नजदीकी अस्‍पताल तक पहुंचाया गया। हिंसा तब शुरू हुई जब मस्जिद के बाहर तैनात पुलिस कर्मियों को दो हथियारबंद हमलावरों ने निशाना बनाया। एक हमलावर और एक पुलिसकर्मी की गोलीबारी में मौत हुई जबकि एक पुलिस अधिकारी घायल हो गया। इसके बाद दूसरे हमलावर ने दौडते हुए मस्‍जिद में प्रवेश किया और बम धमाका कर दिया।

Start Quiz! PRINT PDF

« Previous Next Affairs »

Notes

Notes on many subjects with example and facts.

Notes

QUESTION

Find Question on this Topic and many other subjects

Learn More

Test Series

Here You can find previous year question paper and mock test for practice.

Test Series

Download

Here you can download Current Affairs Question PDF.

Download

Join

Join a family of Rajasthangyan on


Contact Us Contribute About Write Us Privacy Policy About Copyright

© 2022 RajasthanGyan All Rights Reserved.