Ask Question | login | Register
Notes
Question
Quiz
Tricks
Facts

25 March 2022

डेनिस पार्नेल सुलिवन ने जीता 2022 एबेल पुरस्कार

अमेरिकी गणितज्ञ डेनिस पार्नेल सुलिवन ने एबेल पुरस्कार 2022 जीत लिया है। इस पुरस्कार में पुरस्कार राशि भी शामिल है जो 7 मिलियन NOK (नार्वेजियन क्रोन) के बराबर है। उन्हें यह पुरस्कार टोपोलॉजी (topology), विशेष रूप से इसके ज्यामितीय, बीजीय और गतिशील पहलुओं में उनके योगदान के लिए मिला है। टोपोलॉजी गणित का एक क्षेत्र है जो अलग-अलग रूपों की दो चीजों को समान मानता है, यदि वे एक दूसरे में विकृत हो सकते हैं। टोपोलॉजी गणित का एक नया क्षेत्र है क्योंकि इसका जन्म 19वीं शताब्दी के अंत में हुआ था। नॉर्वे के राजा एबेल पुरस्कार प्रदान करते हैं और यह प्रतिवर्ष उस व्यक्ति को दिया जाता है जिसने गणित के क्षेत्र में उल्लेखनीय काम किया है। इस पुरस्कार का नाम नील्स हेनरिक एबेल (Niels Henrik Abel) के नाम पर रखा गया है जो नॉर्वे के प्रसिद्ध गणितज्ञ थे।

12वीं के नंबर पर नहीं होगा सेंट्रल यूनिवर्सिटी के कॉलेजों में दाखिला, इसी साल से कॉमन एंट्रेंस टेस्ट

Common University Entrance Test (CUET) या Central University Common Entrance Test (CUCET) एक प्रवेश परीक्षा है जो कम्प्यूटराइज्ड है। इस परीक्षा के तहत, एक उम्मीदवार के कक्षा 12 के अंक मायने नहीं रखेंगे। विश्वविद्यालय द्वारा कक्षा 12 के अंकों का उपयोग केवल पात्रता के मानदंड के रूप में किया जा सकता है। यह परीक्षा जुलाई के पहले सप्ताह में National Testing Agency (NTA) द्वारा आयोजित की जाएगी। अप्रैल के पहले सप्ताह में, इस परीक्षा के लिए आवेदन करने के लिए एप्लीकेशन विंडो खोली जाएगी। इस परीक्षा के बाद, NTA एक मेरिट लिस्ट तैयार करेगा जिसके आधार पर एडमिशन दिया जाएगा। हाल ही में, दिल्ली विश्वविद्यालय के 100% कट-ऑफ जैसे केंद्रीय विश्वविद्यालयों में बहुत ज्यादा कट-ऑफ अंक की प्रवृत्ति को समाप्त कर दिया जाएगा। क्योंकि कक्षा 12 के अंक अब केन्द्रीय विश्वविद्यालय में प्रवेश लेने के लिए एक महत्वपूर्ण नहीं होंगे।

दुनिया के 100 सबसे ज्यादा प्रदूषित शहरों में 63 शहर भारत के हैं : 2021 World Air Quality Report

2021 World Air Quality Report एक स्विस संगठनIQAir” द्वारा तैयार की गई है। इस रिपोर्ट के अनुसार लगातार चौथे वर्ष नई दिल्ली दुनिया का सबसे प्रदूषित राजधानी शहर हैं। इसके अलावा दुनिया के 100 सबसे ज्यादा प्रदूषित शहरों में 63 शहर भारत के हैं। सबसे प्रदूषित शहरों की सूची में भिवाड़ी, राजस्थान सबसे ऊपर है और उसके बाद उत्तर प्रदेश का गाजियाबाद है। उत्तर प्रदेश से 14 अन्य शहरों को भी इस सूची में शामिल किया गया है और वे गाजियाबाद, लखनऊ, मेरठ, कानपुर, अमरोहा, आगरा, वाराणसी, जौनपुर, ग्रेटर नोएडा और नोएडा हैं। ये शहर PM2.5 की 0-5 माइक्रोग्राम प्रति घन मीटर की सीमा को 10 से 15 गुना से अधिक बढ़ा चुके हैं। इस रिपोर्ट के अनुसार, दुनिया भर का एक भी देश 2021 में WHO के वायु गुणवत्ता मानक को पूरा करने में कामयाब नहीं हुआ। बांग्लादेश सबसे प्रदूषित देश था, उसके बाद चाड, पाकिस्तान और ताजिकिस्तान थे। भारत पांचवां सबसे प्रदूषित देश था। WHO के सितंबर 2021 के दिशानिर्देशों में कहा गया है कि स्वीकार्य वायु गुणवत्ता PM2.5 सांद्रता स्तर के साथ 0-5 g/m3 के बीच होनी चाहिए। लेकिन, इस रिपोर्ट के सभी शहरों में PM2.5 का स्तर स्वीकृत सीमा से कम से कम 10 गुना अधिक है। यह रिपोर्ट दुनिया भर के 117 क्षेत्रों और देशों के 6,475 शहरों से लिए गए PM2.5 वायु गुणवत्ता के आंकड़ों पर आधारित है। इस नई जारी रिपोर्ट को बनाने के लिए जिस डेटा का उपयोग किया गया था, वह हजारों नियामक वायु गुणवत्ता निगरानी स्टेशनों (regulatory air quality monitoring stations) से उत्पन्न हुआ था, जो गैर-लाभकारी संगठनों, सरकारों, शैक्षिक सुविधाओं, अनुसंधान संस्थानों, नागरिक वैज्ञानिकों और कंपनियों द्वारा संचालित हैं।

माउंटेन टेरेन बाइकिंग और बाइसाइकिल मोटोक्रॉस के लिए भारत का पहला साई राष्ट्रीय उत्कृष्टता केंद्र शिमला में स्थापित होगा

केंद्रीय युवा कार्यक्रम एवं खेल मंत्रालय तथा हिमाचल प्रदेश सरकार के युवा सेवा और खेल विभाग के सहयोग से शिमला में माउंटेन टेरेन बाइकिंग और बाइसाइकिल मोटोक्रॉस में एथलीटों को प्रशिक्षित करने के लिए भारत के पहले एसएआई (साई) राष्ट्रीय उत्कृष्टता केंद्र की स्थापना के लिए तैयार है। भारत के साइकिल चालकों को विश्वस्तरीय प्रशिक्षण सुविधाएं देने के लिए एनसीओई की स्थापना की जा रही है, ताकि वे एमटीबी और बीएमएक्स से जुड़े 18 ओलंपिक पदकों के लिए प्रतिस्पर्धा कर सकें। समुद्र तल से 2000 मीटर की ऊंचाई पर, दुनिया में सबसे ज्यादा ऊंचाई पर स्थित प्रशिक्षण सुविधाओं में से एक इस केंद्र में विश्वस्तरीय बुनियादी ढांचा, एक अत्याधुनिक स्पोर्ट्स साइंस हाई परफॉर्मेंस सेंटर, ओलंपिक-स्तरीय ट्रैक और अंतर्राष्ट्रीय स्तर के कोच होंगे जिससे यहां भारत के सर्वश्रेष्ठ साइकिल चालक और स्थानीय खेल प्रतिभा प्रशिक्षण ले सकेंगी।

अर्जेंटीना में भारतीय दूतावास ने अर्जेंटीना पुलिस में योग की शुरुआत की

अर्जेंटीना में भारतीय दूतावास ने अर्जेंटीना पुलिस में योग की शुरुआत की है। राजदूत दिनेश भाटिया और अर्जेंटीना के पुलिस प्रमुख जुआन सी हर्नांडेज़ ने संयुक्त रूप से पुलिस अधिकारियों के शारीरिक और मानसिक स्‍वास्‍थ्‍य के लिए योग क्षमता परियोजना का उद्घाटन किया।

टेलीकॉम लीडरशिप फोरम के 21वें संस्करण में सी-डॉट को वॉइस एंड डाटा एक्सीलेंस अवार्ड से सम्मानित किया गया

भारत सरकार के संचार मंत्रालय में दूरसंचार विभाग के प्रमुख दूरसंचार अनुसंधान एवं विकास केंद्र सेंटर फॉर डेवलपमेंट ऑफ टेलीमैटिक्स (सी-डॉट) को "सम्मिलन के युग (एरा ऑफ कन्वर्जेंस)" पर आयोजित सम्मेलन टेलीकॉम लीडरशिप फोरम के 21वें संस्करण में सम्मानित किया गया है। वॉयस एंड डेटा द्वारा वर्चुअल तरीके से इसका आयोजन आईओटी अनुप्रयोगों के लिए वनएम2एम (वन मशीन टू मशीन) मानक पर आधारित स्वदेशी रूप से डिजाइन और विकसित मानकीकृत "सी-डॉट कॉमन सर्विस प्लेटफॉर्म (सीसीएसपी)" के लिए 22 मार्च, 2022 को किया गया।

भारत ने जमीन से जमीन पर मार करने वाली सुपर सोनिक क्रूज मिसाइल-ब्रह्मोस का सफल परीक्षण किया

भारत ने सतह से सतह पर मार करने वाली सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल ब्रह्मोस का अंडमान निकोबार में सफल परीक्षण किया है। विस्तारित रेंज मिसाइल ने अपना लक्ष्य शत-प्रतिशत भेदने में सफलता प्राप्त की। एयर चीफ मार्शल वी आर चौधरी ने ब्रह्मोस मिसाइल के सफल परीक्षण पर बधाई दी है। मार्च के पहले सप्ताह में भारतीय नौसेना द्वारा ब्रह्मोस क्रूज मिसाइल के लंबी दूरी के संस्करण का सफलतापूर्वक परीक्षण किया गया था। ब्रह्मोस के इस उन्नत संस्करण ने भी सटीक सटीकता के साथ अपने लक्ष्य को नष्ट किया था। जनवरी में ब्रह्मोस के एक नए संस्करण का बालासोर में ओडिशा तट से सफलतापूर्वक परीक्षण किया गया था। यह परीक्षण मिसाइल विभिन्न नए तकनीकी विकास से लैस थी। ब्रह्मोस एक मिड-रेंज रैमजेट सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल है जिसे भारत के DRDO और रूस के NPO Mashinostroyeniya द्वारा विकसित किया गया है। इस मिसाइल का नाम रूस और भारत की दो प्रमुख नदियों के नाम पर रखा गया है। यानी ब्रह्मपुत्र और मॉस्को। इस मिसाइल को सरफेस वॉरशिप, सबमरीन, एयरक्राफ्ट और ज़मीन से भी लॉन्च किया जा सकता है। यह दुनिया की सबसे तेज सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल में से एक है।

केरल बना कार्बन-तटस्थ खेती के तरीकों को पेश करने वाला पहला राज्य

केरल देश का पहला राज्य बनने जा रहा है, जिसने चयनित स्थानों में कार्बन-तटस्थ कृषि पद्धतियों (carbon-neutral farming methods) को पेश किया है। राज्य सरकार ने इस परियोजना के लिए 2022-23 के बजट में 6 करोड़ रुपये आवंटित किए हैं। पहले चरण में 13 फार्मों में कार्बन न्यूट्रल खेती लागू की जाएगी। राज्य अलुवा स्थित राज्य बीज फार्म को कार्बन न्यूट्रल फार्म में परिवर्तित करेगा। दूसरे चरण में सभी 140 विधानसभा क्षेत्रों में मॉडल कार्बन-न्यूट्रल फार्म विकसित किए जाएंगे।

वित्त मंत्री सीतारमन ने कहा- जम्मू-कश्मीर में अनुच्छेद 370 हटाए जाने के बाद आतंकवाद की घटनाओं में कमी आई

केन्‍द्रीय वित्‍त मंत्री निर्मला सीतारामन ने कहा है कि संविधान का अनुच्‍छेद 370 समाप्‍त कर दिए जाने के बाद जम्‍मू-कश्‍मीर में आतंकी घटनाओं पर कार्रवाई हो रही है तथा लोकतंत्र और आर्थिक अवसर लोगों तक पहुंच रहे हैं। केन्‍द्र शासित प्रदेश के बजट पर चर्चा का जवाब देते हुए वित्‍त मंत्री ने कहा कि जम्‍मू-कश्‍मीर में आतंक की घटनाओं में बहुत कमी आई है और निवेश तथा रोजगार के अवसर बढे़ हैं।

सरकार का देश भर में एक हजार खेलो इंडिया सेंटर खोलने का लक्ष्य

सरकार ने देश भर में खेलों को बढ़ावा देने के लिए एक हजार खेलो इंडिया सेंटर खोलने का लक्ष्य रखा है। खेल और युवा मामलों के राज्य मंत्री निसिथ प्रमाणिक ने राज्यसभा में पूरक प्रश्नों का उत्तर देते हुए बताया कि सरकार इस लक्ष्‍य को 2024 तक पूरा करना चाहती है। उन्होंने कहा कि खेल के बुनियादी ढांचे के निर्माण के लिए दो हजार करोड़ रुपये से अधिक की परियोजनाएं शुरू की गई हैं। लक्ष्य ओलंपिक पोडियम योजना की सराहना करते हुए श्री प्रमाणिक ने कहा कि इस योजना के अंतर्गत अंतरराष्ट्रीय खेल आयोजनों के लिए खिलाड़ियों को बेहतर ढंग से प्रशिक्षित करने के उद्देश्‍य से स्वास्थ्य सुविधाओं, खेल उपकरणों और कोच संबंधी सहायता प्रदान की गई है।

विंग्‍स इंडिया 2022 हैदराबाद के बेगमपेट हवाई अड्डे पर शुरू

सुप्रसिद्ध एयर शो यानी नागरिक उड्डयन आयोजन विंग्स इंडिया 2022 हैदराबाद के बेगमपेट हवाई अड्डे पर शुरू हो चुका है। केंद्रीय नागर विमानन मंत्रालय और उद्योग परिसंघ फिक्की संयुक्त रूप से देश की आजादी के 75 वर्ष पूरे होने पर आयोजित समारोहों के तहत इस द्विवार्षिक एयरशो का आयोजन किया। इसका विषय है - विमानन उद्योग का नया क्षितिज। विंग्स इंडिया नीति निर्माण में तालमेल करने और नागरिक उड्डयन क्षेत्र के हितधारकों की चिंताओं को दूर करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभायेगा।

तमिलनाडु के नरसिंगपेट्टई नागस्वर्म को भौगोलिक पहचान टैग मिला

नरसिंगपेट्टई नागस्वर्म (Narasingapettai Nagaswaram) को कक्षा 15 के संगीत वाद्ययंत्रों की श्रेणी के तहत भौगोलिक संकेत टैग प्रदान किया गया है। नरसिंहपेट्टई नागस्वर्म एक शास्त्रीय पवन संगीत वाद्ययंत्र है जो पारंपरिक रूप से तमिलनाडु के कुंभकोणम के पास एक गाँव में बनाया जाता है। तंजावुर म्यूजिकल इंस्ट्रूमेंट्स वर्कर्स को-ऑपरेटिव कॉटेज इंडस्ट्रियल सोसाइटी लिमिटेड की ओर से, उत्पादों के जीआई पंजीकरण के लिए तमिलनाडु के नोडल अधिकारी द्वारा जीआई टैग प्राप्त करने के लिए आवेदन दायर किया गया था।

परीक्षा पे चर्चा का 5वां संस्करण पहली अप्रैल को नई दिल्ली के तालकटोरा स्टेडियम में आयोजित किया जायेगा

परीक्षा पे चर्चा का पांचवां संस्करण इस साल एक अप्रैल को नई दिल्ली के तालकटोरा स्टेडियम में आयोजित किया जायेगा। शिक्षा मंत्रालय ने बताया कि इस दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी छात्रों के साथ बातचीत करेंगे और परीक्षा के तनाव को दूर करने के बारे में अपने विचार साझा करेंगे। परीक्षा पे चर्चा आपसी संवाद का कार्यक्रम है। इसमें भारत और विदेशों में रह रहे छात्र, अभिभावक और शिक्षक जीवन को उत्सव के रूप में मनाने के लिए परीक्षाओं से उत्पन्न तनाव और उसे दूर करने के लिए प्रधानमंत्री के साथ बातचीत करते हैं। कार्यक्रम में भाग लेने के लिए एक ऑनलाइन प्रतियोगिता के माध्यम से कक्षा 9 से 12 तक के स्कूली छात्रों, शिक्षकों और अभिभावकों का चयन किया जाएगा।

भारतीय तैराकों को इस वर्ष विभिन्न प्रतियोगिताओं में भाग लेने के लिए वित्तीय सहायता की स्‍वीकृति दी गई है

केंद्रीय खेल मंत्रालय की लक्ष्य ओलंपिक पोडियम योजना (टीओपीएस) और प्रशिक्षण एवं प्रतियोगिता वार्षिक कैलेंडर (एसीटीसी) योजना के माध्यम से भारतीय तैराकों को इस साल विभिन्न प्रतियोगिताओं में भाग लेने के लिए वित्तीय सहायता को मंजूरी दी गई है। मिशन ओलिंपिक प्रकोष्ठ (एमओसी) से मंजूरी के बाद यह सहायता साजन प्रकाश, श्रीहरि नटराज, माना पटेल और केनिशा गुप्ता को भेज दी गई है। साजन और श्रीहरि वर्तमान में टीओपीएस कोर ग्रुप का हिस्सा हैं, जबकि माना और केनिशा टीओपीएस डेवलपमेंट ग्रुप से हैं।

भारत के प्रणव प्रशांत देसाई ने विश्‍व पैरा-एथलेटिक्‍स ग्रां प्री मुकाबले में स्‍वर्ण पदक जीता

प्रणव प्रशांत देसाई ने दुबई में आयोजित 2022 विश्‍व पैरा-थलेटिक्‍स ग्रांड प्री मुकाबले में भारत के लिए पहला स्‍वर्ण पदक जीता। उन्‍होंने टी-64 फाइनल मुकाबले में पुरुषों की दो सौ मीटर दौड़ जीती। फ़जा चैम्पियनशिप के पूर्व स्‍वर्ण पदक विजेता प्रणव देसाई ने 24 दशमलव चार-दो सैकेंड में यह दौड़ पूरी की।

राष्‍ट्रपति राम नाथ कोविंद ने गांधीनगर में गुजरात विधानसभा को सम्‍बोधित किया

राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने गुजरात विधानसभा को संबोधित किया और देश की प्रगति में राज्य के लोगों और नेताओं के योगदान की प्रशंसा की। राज्य विधानसभा को पहली बार किसी राष्ट्रपति ने संबोधित किया। यह कार्यक्रम देश की आजादी के 75 साल पूरे होने का जश्न मनाने के लिए 'आज़ादी का अमृत महोत्सव' का हिस्सा था। गुजरात विधानसभा की अध्यक्ष निमाबेन आचार्य ने कहा कि हमें गर्व है कि राष्ट्रपति कोविंद ने 'आजादी का अमृत महोत्सव' के समारोह के दौरान सदन को संबोधित करने के निमंत्रण को स्वीकार किया। राष्ट्रपति जामनगर में एक समारोह में भारतीय नौसेना के जहाज आईएनएस के 'वलसुरा' को राष्ट्रपति ध्वज प्रदान करेंगे।

थोकचोम सत्यब्रत मणिपुर विधानसभा के लिए ध्वनिमत से अध्यक्ष चुन लिए गए

मणिपुर में भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता और याईस्कुल विधानसभा क्षेत्र के विधायक श्री थोकचोम सत्यब्रत 12वीं विधानसभा के लिए ध्वनिमत से अध्यक्ष चुन लिए गए हैं। 12वीं विधानसभा का तीन दिन का सत्र शुरु हुआ। श्री सत्यब्रत राज्य में पिछली भाजपा सरकार के दौरान राजस्व सहित कई मंत्रालयों में मंत्री थे। मणिपुर के मुख्यमंत्री एन. वीरेन सिंह और विपक्षी नेताओं ने श्री सत्यब्रत को ध्वनिमत से अध्यक्ष चुने जाने पर बधाई दी है।

सड़क किनारे (वे-साइड) सुविधाएं विकसित करने के लिए एनएचएआई/एनएचएलएमएल, एनएचआईडीसीएल और पर्यटन मंत्रालय के बीच समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर

केंद्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री श्री नितिन गडकरी के साथ केंद्रीय मंत्री श्री जी किशन रेड्डी और केंद्रीय राज्य मंत्री श्री श्रीपद नाइक एनएचएआई/एनएचएलएमएल, सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय के एनएचआईडीसीएल और पर्यटन मंत्रालय के बीच समझौता ज्ञापन पर किए गए हस्ताक्षर के साक्षी बने। यह एक महत्वपूर्ण समझौता ज्ञापन है। इसके जरिए पर्यटन स्थलों पर वे-साइड एमिनिटीज (डब्ल्यूएसए) यानी सड़क किनारे सुविधाएं और व्यू-पॉइंट (नजारा लेने की जगह) विकसित करने में पर्यटन मंत्रालय और भारतीय पर्यटन विकास कार्पोरेशन (आईटीडीसी) की विशेषज्ञता का लाभ उठाया जाएगा। यह राष्ट्रीय राजमार्ग लॉजिस्टिक प्रबंधन लिमिटेड (एनएचएलएमएल) को सभी पूर्वोत्तर राज्यों के पर्यटन स्थलों पर विश्व स्तरीय वे-साइड एमिनिटीज (डब्ल्यूएसए) बनाने में सक्षम बनाएगा।

डॉ. जितेन्‍द्र सिंह ने विश्व टीबी दिवस के अवसर पर जैव प्रौद्योगिकी विभाग, विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्रालय द्वारा टीबी को समाप्‍त करने के लिए-“डेयरटूऐराडी टीबी (Dare2eraD TB)” डेटा-संचालित अनुसंधान शुरू करने की घोषणा की

केन्‍द्रीय विज्ञान मंत्री डॉ. जितेन्‍द्र सिंह ने विश्व टीबी दिवस के अवसर पर पर जैव प्रौद्योगिकी विभाग, विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्रालय द्वारा टीबी को खत्म करने के लिए -“डेयरटूऐराडीटीबी” डेटा-संचालित अनुसंधान शुरू करने की घोषणा की। जैव प्रौद्योगिकी विभाग, विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्रालय ने भी टीबी अनुसंधान के लिए अंतरराष्ट्रीय भागीदारी की है। भारत में तपेदिक (टीबी) अनुसंधान को आगे बढ़ाने के लिए भारत-अमेरिका वैक्सीन एक्‍शन प्रोग्राम (वीएपी) के तत्वावधान में एक द्विपक्षीय सहयोगात्मक प्रयास तपेदिक (आरईपीओआरटी) भारत पहल, में क्षेत्रीय संभावित अवलोकन अनुसंधानका समर्थन किया जा रहा है। विभाग ने 8 राज्यों और 14 अन्य संस्थानों के 22 एनईआर संस्थानों को शामिल करते हुए "पूर्वोत्तर भारत में एमडीआर-टीबी: एक जीनोमिक संचालित दृष्टिकोण" पर एक प्रमुख नेटवर्क कार्यक्रम शुरू किया है।

इंडो-जर्मन साइंस एंड टेक्नोलॉजी सेंटर (आईजीएसटीसी) ने टाटा स्टील के साथ समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए

औद्योगिक अनुसंधान साझेदारी सहित भारत-जर्मनी अनुसन्धान एवं विकास नेटवर्किंग (इंडो-जर्मन आर एंड डी नेटवर्किंग) के माध्यम से विज्ञान और प्रौद्योगिकी के नेतृत्व वाले नवाचारों को बढ़ावा देने के लिए सार्वजनिक–निजी भागीदारी (पीपीपी) प्रारूप में एक नए समझौता ज्ञापन और आशय पत्र (एलओआई) पर हस्ताक्षर किए गए हैं । टाटा स्टील लिमिटेड के साथ समझौता ज्ञापन के माध्यम से द्विपक्षीय इंडो-जर्मन साइंस एंड टेक्नोलॉजी सेंटर (आईजीएसटीसी) के बीच साझेदारी स्थापित की गई है जो नई प्रौद्योगिकियों के विकास की सुविधा के लिए एक संयुक्त सहयोगी अनुसंधान और नवाचार (आर एंड आई) ढांचा स्थापित करेगी तथा विचार नेतृत्व कार्यशालाएं आयोजित करने के साथ ही मानव पूंजी विकास का समर्थन भी करेगी। आईजीएसटीसी की स्थापना विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग (डीएसटी), भारत सरकार तथा जर्मन संघीय शिक्षा और अनुसंधान मंत्रालय (बीएमबीएफ) द्वारा की गई है। टाटा स्टील लिमिटेड के साथ सहयोग वैश्विक रूप से प्रासंगिक प्रौद्योगिकी और जलवायु परिवर्तन के नवाचार क्षेत्रों, औद्योगिक क्षेत्र की हरियाली, नई सामग्रियों में उभरती प्रौद्योगिकियों, उभरती प्रौद्योगिकियों के लिए संयुक्त अनुसंधान और नवाचार, और स्केलिंग-अप के लिए प्रौद्योगिकी विकास पर ध्यान केंद्रित करेगा।

सेना प्रमुख ने डोगरा रेजीमेंट की टुकड़ियों को राष्ट्रपति द्वारा प्रदत्त ध्वज भेंट किए

भारतीय थल सेनाध्यक्ष जनरल एम. एम. नरवणे ने 24 मार्च 2022 को उत्तर प्रदेश में फैजाबाद के डोगरा रेजिमेंटल सेंटर में आयोजित एक पारम्परिक ध्वज प्रस्तुति परेड के दौरान डोगरा रेजिमेंट की दो बटालियनों यानी कि 20 डोगरा और 21 डोगरा को प्रतिष्ठित 'राष्ट्रपति द्वारा प्रदत्त ध्वज' भेंट किए।

शिक्षा मंत्रालय सीखने के बुनियादी स्तर पर सीखने की स्थिति के बारे में सीधी जानकारी हासिल करने के लिए ‘आधारभूत शिक्षण अध्ययन’ (फाउंडेशनल लर्निंग स्टडी) करायेगा

शिक्षा मंत्रालय सीखने के बुनियादी स्तर (कक्षा-3 के अंत होने) पर छात्रों के सीखने की स्थिति के बारे में सीधी जानकारी हासिल करने के लिए एक ‘आधारभूत शिक्षण अध्ययन’ (फाउंडेशनल लर्निंग स्टडी) करायेगा। यह अध्ययन दुनिया में अपनी तरह का पहला अध्ययन होगा क्योंकि इसका उद्देश्य 22 भारतीय भाषाओं में समझ के साथ पढ़ने से संबंधित मानक स्थापित करना है। एनसीईआरटी द्वारा सभी राज्यों और केन्द्र- शासित प्रदेशों में चार दिनों यानी 23 मार्च से 26 मार्च, 2022 के दौरान सैंपल किए गए स्कूलों में ‘आधारभूत शिक्षण अध्ययन’(फाउंडेशनल लर्निंग स्टडी)कराया जाएगा। इस अध्ययन में लगभग 10000 स्कूलों और एक लाख छात्रों के भाग लेने की उम्मीद है। आधारभूत शिक्षण अध्ययन के विशिष्ट उद्देश्य इस प्रकार हैं:

  • निपुण भारत मिशन के लिए एक आधार तैयार करने के लिए कक्षा-3 के छात्रों की बुनियादी शिक्षा का व्यापक पैमाने पर मूल्यांकन करना
  • इस अध्ययन के तहत मूल्यांकन की जा रही प्रत्येक भाषा के लिए समझ के साथ धाराप्रवाह पठन में प्रवीणता संबंधी मानक स्थापित करना
  • सतत विकास लक्ष्य (एसडीजी) 4.1.1 के लिए डेटा प्रदान करना (बुनियादी साक्षरता और संख्यात्मकता के पहलुओं को शामिल करते हुए)
‘आधारभूत शिक्षण अध्ययन’ (फाउंडेशनल लर्निंग स्टडी) कक्षा-3 के स्तर पर बच्चों के लिए विभिन्न भारतीय भाषाओं में समझ के साथ पढ़ने से संबंधित मानक स्थापित करने में समर्थ होगा। यह अध्ययन उम्र के हिसाब से ज्ञात और अज्ञात पाठ को एक निश्चित गति से, सटीक रूप सेऔर समझ के साथ एवं मूलभूत संख्यात्मक कौशल को पढ़ने की क्षमता का आकलन करेगा और निपुण भारत लक्ष्यों के लिए आधार तैयार करेगा।

कुवैत बना धरती का सबसे गर्म स्थान, रिकॉर्ड 53.2 डिग्री सेल्सियस

कुवैत 53.2 डिग्री सेल्सियस (127.7 डिग्री फ़ारेनहाइट) के गर्म तापमान पर पहुंच गया, जिससे यह पृथ्वी पर सबसे गर्म स्थानों में से एक बन गया। कुवैत में पिछली गर्मियों में इतनी गर्मी थी कि पक्षी आसमान में ही मर गए। समुद्र के घोड़े खाड़ी में उबल कर मर गए। मृत क्लैम ने चट्टानों को लेपित किया, उनके शेल्स ऐसे खुले थे जैसे वे उबले हुए हों। विश्व संसाधन संस्थान के अनुसार, देश बिजली के लिए तेल जलाना जारी रखता है और प्रति व्यक्ति शीर्ष वैश्विक कार्बन उत्सर्जक में शुमार है। अक्षय ऊर्जा की मांग 1 प्रतिशत से भी कम है - जो कुवैत के 2030 तक 15 प्रतिशत के लक्ष्य से बहुत कम है।

हरियाणा का धर्मांतरण विरोधी विधेयक

हरियाणा विधानसभा ने “हरियाणा धर्मांतरण रोकथाम विधेयक, 2022” पारित किया है। हरियाणा सरकार के अनुसार, इस विधेयक का उद्देश्य बल के माध्यम से धर्मांतरण को रोकना है। यह विधेयक बल, कपटपूर्ण तरीकों, प्रलोभन या शादी की आड़ में किसी व्यक्ति के धर्म परिवर्तन को रोकने के लिए लाया गया है। इसी तरह के विधेयक उत्तर प्रदेश और हिमाचल प्रदेश में भी पारित किए गए हैं। बिल पहली बार 4 मार्च को पेश किया गया था। राज्य सरकार ने कहा है कि स्वतंत्र रूप से धर्म परिवर्तन करने वाले व्यक्ति को इस नए विधेयक के तहत दंडित नहीं किया जाएगा, लेकिन यह बिल किसी व्यक्ति को जबरन धर्मांतरण से बचाने के लिए प्रयास करेगा। इस विधेयक के अनुसार यदि धर्म परिवर्तन बल, प्रलोभन या कपटपूर्ण तरीकों से किया जाता है तो ऐसे कृत्यों के लिए जिम्मेदार व्यक्ति को एक से पांच साल तक की जेल हो सकती है और उस पर न्यूनतम 1 लाख रुपये का जुर्माना लगाया जा सकता है।

नासा ने 5000 बाह्यग्रहों की पुष्टि की

नासा ने पृथ्वी के सौर मंडल के बाहर 65 नए ग्रहों की खोज की है। इस नई खोज के बाद अब तक खोजे गए बाह्यग्रहों की कुल संख्या 5000 से अधिक हो गई है। इनमें से कुछ खोजे गए ग्रह पृथ्वी जैसे हैं। इन नए खोजे गए 65 ग्रहों ने अंतरिक्ष अन्वेषण (space exploration) में एक मील का पत्थर चिह्नित किया है। इन 65 नए खोजे गए ग्रहों का अध्ययन ग्रह की सतह पर रोगाणुओं, पानी, गैसों या यहां तक ​​कि जीवन की उपस्थिति का पता लगाने के लिए किया जाएगा। खगोलविदों के अनुसार मिल्की वे गैलेक्सी ऐसे अरबों ग्रहों का घर है और अंतरिक्ष में इतनी सारी आकाशगंगाएँ मौजूद हैं। जेम्स वेब स्पेस टेलीस्कोप (James Webb Space Telescope) ने एक ऐसा चित्र लिया है, जिसमें हजारों आकाशगंगाएँ दिखाई दे रही थीं और इस बात की संभावना है कि उनमें से प्रत्येक में पृथ्वी जैसा ग्रह हो सकता है, जिसके जानकारी हमें अभी तक शायद न हो।

कोयला आधारित बिजली सयंत्रों में बायोमास ईंधन का उपयोग किया जायेगा

बायोमास पेलेट्स के सम्मिश्रण (blending) को विद्युत मंत्रालय द्वारा अनिवार्य कर दिया गया है। 8 अक्टूबर 2021 को जारी “Revised Policy for Biomass Utilization for power generation Through Co-firing in Coal-based Power Plants” के तहत, बायोमास पेलेट्स को मुख्य रूप से कोयले के साथ कृषि अवशेषों से बनाया जायेगा। देश में ताप विद्युत संयंत्रों (thermal power plants) को बायोमास पेलेट्स के 5% मिश्रण का उपयोग करने का निर्देश दिया गया है जो मुख्य रूप से कोयले के साथ कृषि अवशेषों से बने होते हैं। इस आदेश जारी होने के दो साल से और उसके बाद ब्लेंडिंग का प्रतिशत बढ़ाकर 7% कर दिया जाएगा। बायोमास पेलेट एक प्रकार का बायोमास ईंधन है जो बहुत लोकप्रिय है। इन पेलेट्स को ज्यादातर कृषि बायोमास, लकड़ी के कचरे, वानिकी के अवशेषों, वाणिज्यिक घासों आदि से बनाया जाता है। ये पेलेट्स न केवल भंडारण और परिवहन की लागत को बचाने में मदद करते हैं, बल्कि बायोमास पेलेट्स लागत प्रभावी संचालन की सुविधा में भी मदद करते हैं।

विश्व क्षय रोग दिवस

प्रत्येक वर्ष 24 मार्च को दुनिया भर में विश्व क्षयरोग दिवस का आयोजन किया जाता है। इस दिवस का प्राथमिक उद्देश्य क्षयरोग/तपेदिक से स्वास्थ्य, समाज और अर्थव्यवस्था को होने वाले नुकसान के प्रति जागरूकता बढ़ाना तथा इस वैश्विक महामारी की रोकथाम हेतु किये जा रहे प्रयासों में तेज़ी लाना है। गौरतलब है कि वर्ष 1882 में क्षय रोग (TB) के जीवाणु की खोज करने वाले डॉ. रॉबर्ट कोच की स्मृति में प्रत्येक वर्ष 24 मार्च को विश्व क्षयरोग दिवस मनाया जाता है, 24 मार्च 1882 में ही डॉ. रॉबर्ट कोच ने टीबी बैक्टीरिया की खोज की थी। क्षयरोग विश्व में सबसे घातक संचारी रोगों में से एक है। टीबी या क्षय रोग बैक्टीरिया (माइकोबैक्टीरियम ट्यूबरकुलोसिस) के कारण होता है जो फेफड़ों को सबसे अधिक प्रभावित करता है। विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के आँकड़ों के अनुसार अकेले वर्ष 2019 में दुनिया भर में क्षयरोग (टीबी) के कारण कुल 1.4 मिलियन लोगों की मृत्यु हुई थी। इस तरह क्षयरोग विश्व भर में होने वाली मौतों के प्रमुख 10 कारणों में से एक है। ‘इनवेस्ट टू एंड टीबी. सेव लाइव्स’ (Invest to End TB. Save Lives) वर्ष 2022 में विश्‍व क्षयरोग दिवस की थीम है।

24 मार्च : असम राइफल्स का स्थापना दिवस

24 मार्च असम राइफल्स स्थापना दिवस मनाया जाता है। इस बार असम राइफल्स का 187वां स्थापना दिवस मनाया जा रहा है। असम राइफल्स भारत का सबसे पुराना अर्धसैनिक बल है। इसकी शुरुआत ब्रिटिश राज के तहत 1835 में हुई थी। यह दोहरी नियंत्रण संरचना वाला एकमात्र अर्धसैनिक बल असम राइफल्स है। इसका मतलब है कि इसका नियंत्रण भारतीय सेना के पास है, जबकि इसका वेतन और बुनियादी ढांचा गृह मंत्रालय द्वारा प्रदान किया जाता है। वर्तमान में, 65,143 कर्मियों की स्वीकृत संख्या के साथ असम राइफल्स की 46 बटालियन हैं। असम राइफल्स ने प्रथम विश्व युद्ध सहित कई संघर्षों में काम किया है, जहां असम राइफल्स ने मध्य पूर्व और यूरोप में सेवाएं दीं। जबकि द्वितीय विश्व युद्ध में असम राइफल्स ने मुख्य रूप से बर्मा में सेवाएं दीं। यह देश का सबसे पुराना अर्द्धसैनिक बल है, इसकी शुरुआत 1835 में हुई थी। असम राइफल्स का आदर्श वाक्य Sentinels of the North East है।

24 मार्च : International Day for Achievers

अचीवर्स के लिए अंतर्राष्ट्रीय दिवस (International Day for Achievers) हर साल 24 मार्च को अचीवर्स और उनके उद्देश्य और आत्मविश्वास की मजबूत भावना का जश्न मनाने के लिए मनाया जाता है। अचीवर्स वे लोग होते हैं जो लक्ष्य बनाते हैं और निर्धारित लक्ष्यों तक पहुंचने के लिए हर संभव प्रयास करते हैं। अचीवर्स किसी भी क्षेत्र से संबंधित हो सकते हैं चाहे वह कला, विज्ञान, खेल, शिक्षा, स्वास्थ्य या सामाजिक कार्य हो। अचीवर्स 2022 के लिए अंतर्राष्ट्रीय दिवस का उद्देश्य सभी को एक उपलब्धि हासिल करने के लिए प्रोत्साहित करना है, कोई ऐसा व्यक्ति जो अपने लक्ष्यों और सपनों को प्राप्त करने तक लगातार बना रहता है।

सत्य के अधिकार और पीड़ितों की गरिमा के लिए अंतर्राष्ट्रीय दिवस : 24 मार्च

संयुक्त राष्ट्र ने 24 मार्च को सकल मानवाधिकार उल्लंघनों से संबंधित सत्य के अधिकार और पीड़ितों की गरिमा (International Day for the Right to the Truth concerning Gross Human Rights Violations and for the Dignity of Victims) के लिए हर साल अंतर्राष्ट्रीय दिवस के रूप में मनाया जाने के लिए मान्यता दी है। इस दिन का उद्देश्य उन लोगों को श्रद्धांजलि देना है जिन्होंने सभी के लिए मानवाधिकारों को बढ़ावा देने और उनकी रक्षा करने के संघर्ष में अपना जीवन समर्पित कर दिया है या अपनी जान गंवा दी है। यह दिन हर साल 24 मार्च को "मॉन्सिग्नर ऑस्कर अर्नुल्फो रोमेरो" (“Monsignor Óscar Arnulfo Romero”) को श्रद्धांजलि देने के लिए मनाया जाता है, क्योंकि 24 मार्च 1980 को उनकी हत्या कर दी गई थी। वह अल सल्वाडोर में सबसे कमजोर या हीन माने जाने वाले व्यक्तियों के मानवाधिकारों के उल्लंघन की आलोचना करने में सक्रिय रूप से लगे हुए थे।

पूर्व प्रधान न्यायाधीश आर सी लाहोती का निधन

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने भारत के पूर्व प्रधान न्यायाधीश आर सी लाहोती के निधन पर शोक व्यक्त किया है। एक ट्वीट में श्री मोदी ने कहा कि न्यायपालिका और उपेक्षित वर्गों को शीघ्र न्याय सुनिश्चित करने में उनका योगदान हमेशा याद किया जाएगा। न्यायमूर्ति लाहोटी को एक जून 2004 को भारत के 35वें प्रधान न्यायाधीश के तौर पर नियुक्त किया गया था। वह एक नवंबर 2005 को सेवानिवृत्त हुए थे। लाहोटी का जन्म एक नवंबर 1940 को हुआ था। उन्हें अप्रैल 1977 में बार से राज्य उच्च न्यायिक सेवा में सीधे भर्ती करते हुए जिला और सत्र न्यायाधीश के रूप में नियुक्त किया गया था। एक वर्ष तक पद पर रहने के बाद, न्यायमूर्ति लाहोटी ने मई 1978 में इस्तीफा दे दिया और मुख्य रूप से उच्च न्यायालय में वकालत करने के लिए बार में लौट आए। उन्हें तीन मई 1988 को मध्य प्रदेश उच्च न्यायालय का अतिरिक्त न्यायाधीश नियुक्त किया गया और अगले वर्ष चार अगस्त को स्थायी न्यायाधीश बना दिया गया। उन्हें सात फरवरी, 1994 को दिल्ली उच्च न्यायालय में स्थानांतरित कर दिया गया, और बाद में नौ दिसंबर, 1998 को उच्चतम न्यायालय के न्यायाधीश के रूप में नियुक्त किया गया था। न्यायमूर्ति लाहोटी प्रेस ट्रस्ट ऑफ इंडिया (पीटीआई) के निदेशक मंडल में पूर्व स्वतंत्र निदेशक भी थे।

बांग्लादेश के पूर्व राष्ट्रपति शहाबुद्दीन अहमद का निधन

बांग्लादेश के पूर्व राष्ट्रपति शहाबुद्दीन अहमद का 92 वर्ष की आयु में बांग्लादेश के ढाका में निधन हो गया है। 1990 में पूर्व सैन्य तानाशाह एचएम इरशाद (HM Ershad) को गिराने के लिए बड़े पैमाने पर विद्रोह के बीच सभी दलों के सर्वसम्मति के उम्मीदवार के रूप में वह राज्य के अंतरिम प्रमुख थे। शहाबुद्दीन अहमद ने 1996 से 2001 तक बांग्लादेश के राष्ट्रपति के रूप में भी कार्य किया। वह फरवरी 1991 में देश में "स्वतंत्र और विश्वसनीय" चुनाव कराने के लिए जिम्मेदार थे।

Start Quiz! PRINT PDF

« Previous Next Affairs »

Notes

Notes on many subjects with example and facts.

Notes

QUESTION

Find Question on this Topic and many other subjects

Learn More

Test Series

Here You can find previous year question paper and mock test for practice.

Test Series

Download

Here you can download Current Affairs Question PDF.

Download

Join

Join a family of Rajasthangyan on


Contact Us Contribute About Write Us Privacy Policy About Copyright

© 2022 RajasthanGyan All Rights Reserved.