Ask Question |
Notes
Question
Quiz
Tricks
Facts

6 May 2019

भारतीय मुक्केबाज गौरव सोलंकी और मनीष कौशिक ने जीते स्वर्ण पदक

भारतीय मुक्केबाजों गौरव सोलंकी और मनीष कौशिक ने शानदार प्रदर्शन करते हुए स्वर्ण पदक जीते, जिससे भारतीय खिलाड़ी पोलैंड के वारसा में 26वें फेलिक्स स्टेम अंतरराष्ट्रीय टूर्नामेंट में छह पदक जीतने में सफल रहे। भारतीय मुक्केबाजों ने दो स्वर्ण के अलावा एक रजत और तीन कांस्य पदक के साथ टूर्नामेंट में अच्छा प्रदर्शन किया।

निर्मला सीतारमण ने किर्गिस्तान के रक्षा मंत्री से मुलाकात की

भारत की वर्तमान रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने चीन के रक्षा मंत्री जनरल वेई फ़ेंगहे के साथ द्विपक्षीय बैठक की। जिसमें उन्होंने क्षेत्रीय और द्विपक्षीय सुरक्षा मुद्दों पर चर्चा की। बैठक किर्गिस्तान के बिश्केक में शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) के रक्षा मंत्रियों की बैठक के मौके पर आयोजित की गई थी।

ग्रेव्ड: सीपरी ने हिंसक मौतों की ग्लोबल रजिस्ट्री लॉन्च की

स्टॉकहोम इंटरनेशनल पीस रिसर्च इंस्टीट्यूट (सीपरी) ने दुनिया भर में हिंसक मौतों की वार्षिक संख्या को स्थापित करने के लिए ग्लोबल रजिस्ट्री ऑफ़ वायलेंट डेथ्स (ग्रेव्ड) नाम से एक नई पहल शुरू की है। ग्रेव्ड हिंसा के सभी रूपों की वजह से होने वाली मौतों को गिनेंगा और इन्हें एक ओपन सोर्स डेटाबेस में प्रदर्शित करेगा और सतत विकास लक्ष्यों (एसडीजी)-16 में निर्धारित किए गए के अनुसार 2030 तक दुनिया की हर तरह की हिंसा और संबंधित मौतों के सभी प्रकारों को कम करने की प्रतिबद्धता पर प्रगति की निगरानी को सक्षम करेंगा। स्टॉकहोम इंटरनेशनल पीस रिसर्च इंस्टीट्यूट क मुख्यालय का सोलना नगर पालिका, स्वीडन है।

प्रशांत महासागर में पाए गए सांस लेने वाले रोगाणु

प्रशांत महासागर के कम ऑक्सीजन वाले भागों में वैज्ञानिकों ने सांस लेने वाले माइक्रोब्स ‘आर्सेनिक’ का पता लगाया है। ये जीव ज्यादातर जीवित प्राणियों के लिए घातक जहर माने जाते हैं। अमेरिका के वाशिंगटन विश्वविद्यालय के शोधार्थियों ने प्रशांत महासागर के ऐसे क्षेत्रों के पानी का विश्लेषण किया, जहां ऑक्सीजन की मात्र बिल्कुल नहीं के बराबर है और जीव-जतुओं को जीवित रहने के लिए अन्य तरीके तलाशने पड़ते हैं। नेशनल एकेडमी ऑफ साइंस की पत्रिका में छपे एक अध्ययन में कहा गया है कि शायद जलवायु परिवर्तन के कारण ऐसे क्षेत्रों का विस्तार हो रहा है।

आतंकवाद विरोध पर भारत-ऑस्ट्रेलिया संयुक्त कार्यसमूह की 11 वीं बैठक आयोजित हुई

भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच आतंकवाद के खिलाफ संयुक्त कार्य समूह की 11 वीं बैठक 2 मई, 2019 को कैनबरा, ऑस्ट्रेलिया में आयोजित की गई। महावीर सिंघवी,संयुक्त सचिव (आतंकवाद-विरोधी) ने भारतीय प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व किया जबकि आतंकवाद विरोध के लिए ऑस्ट्रेलिया के राजदूत पॉल फोले ने बैठक के लिए ऑस्ट्रेलियाई प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व किया।

एडीबी की रिपोर्ट के अनुसार, 2019 में एशिया-प्रशांत का 5.7% से बढ़ने का अनुमान

एशियाई विकास बैंक (एडीबी) के अध्यक्ष टेकहिको नाकाओ के अनुसार, 2019 में एशिया-प्रशांत क्षेत्र 5.7% की दर से बढ़ने वाला है, लेकिन बढ़ते व्यापार तनाव इसकी वृद्धि में बाधा बन सकते हैं। अप्रैल में जारी एडीबी की एशियन डेवलपमेंट आउटलुक 2019 की रिपोर्ट में कहा गया है कि विकासशील एशिया में 45 देशों का विकास का 2019 में 5.7% बढ़ने का अनुमान है (जो कि नाकाओ द्वारा इंगित किया गया है)। हालाँकि, विकासशील एशिया के लिए विकास दृष्टिकोण अनुमानित रूप से 2020 में 5.6% पर आ जाएगा। एडीबी (एशियाई विकास बैंक) का मुख्यालय मेट्रो मनीला, फिलिपींस के शहर मांडालयुंग में स्थित ओर्टिगस सेंटर में है।

पेटीएम के अध्यक्ष भूषण पाटिल ने इस्तीफा दिया

भारत के मोबाइल भुगतान और वाणिज्य मंच के अध्यक्ष भूषण पाटिल ने पेटीएम कंपनी छोड़ दी है। पेटीएम के संस्थापक: विजय शेखर शर्मा, मुख्यालय नोएडा और मूल संगठन वन97 कम्युनिकेशंस है।

सेस्मिक वेब बताएगी रेलवे ट्रैक पर है कौन सा वन्यजीव

जिन तरंगों को मनुष्य सुन नहीं सकता वही अब रेलवे ट्रैक पर होने वाले हादसों से वन्यजीवों को बचाएंगी। सेस्मिक वेब पर आधारित इस तकनीक पर देश में पहली बार उत्तराखंड के राजाजी टाइगर रिजर्व में काम हो रहा है। इससे मिलने वाले सेस्मिक सिग्नेचर से यह पता लग जाएगा कि रेलवे ट्रैक के पास कौन से जानवर की मौजूदगी है। इसके बाद तुरंत ही इसकी सूचना रिजर्व प्रशासन के साथ ही रेलवे अधिकारियों को दी जाएगी। यह ‘एडवांस एनिमल डिटेक्शन सिस्टम’ करीब डेढ़ माह में आकार ले लेगा। राजाजी रिजर्व में इसका इस्तेमाल मुख्य रूप से कांसरो-मोतीचूर-हरिद्वार के बीच होगा, जहां वन्यजीवों के ट्रेन की चपेट में आने की घटनाएं अक्सर सुर्खियां बनती हैं। सेस्मिक वेब आधारित ‘एडवांस एनिमल डिटेक्शन सिस्टम’ विकसित करने का निश्चय किया गया। केंद्र सरकार के उपक्रम सेंट्रल साइंटिफिक इन्स्ट्रूमेंटेशन आर्गनाइजेशन चंडीगढ़, भारतीय वन्यजीव संस्थान, विश्व प्रकृति निधि और राजाजी टाइगर रिजर्व इस पहल को मुकाम तक पहुंचाने में जुटे हैं। इसके तहत कांसरो-मोतीचूर के बीच रेलवे ट्रैक के दोनों ओर करीब 200 मीटर के दायरे में सेंसर लगाए गए हैं। इनसे किसी भी जानवर के वहां आने पर भूमि में होने वाली हलचल की तरंगें सिस्टम को मिलेंगी। तरंगों के घनत्व के आधार पर पता चलेगा कि वहां कौन सा जानवर है। इस कड़ी में पालतू हाथी को चलाकर इसका मापन करा लिया गया है। साथ ही अन्य छोटे जीवों को लेकर आने वाली तरंगों का भी आकलन कर लिया गया है। इन्हें नाम दिया गया है सेस्मिक सिग्नेचर।

सीबीडीटी और जीएसटीएन ने काले धन को कम करने के लिए चोरों को गिरफ्तार करने के लिए एक समझौते पर हस्ताक्षर किए

आयकर (आई-टी) विभाग और माल और सेवा कर नेटवर्क (जीएसटीएन) ने दोनों फर्मों के बीच सूचना विनिमय को बढ़ाने और कर चोरों को गिरफ्तार करने और काले धन की उत्पत्ति को कम करने के लिए एक संयुक्त समझौते पर हस्ताक्षर किए।

कोलगेट पर लेख ने एशियन कॉलेज ऑफ जर्नलिज्म अवार्ड फॉर इन्वेस्टिगेटिव जर्नलिज्म, 2018 जीता

नीलेना एमएस द्वारा लिखे गए ‘कोलगेट 2.0′ शीर्षक वाले लेख ने एशियन कॉलेज ऑफ़ जर्नलिज़्म अवार्ड फॉर इन्वेस्टिगेटिव जर्नलिज्म, 2018 जीता है। यह लेख ‘द कारवां मैगज़ीन’ में मार्च 2018 में प्रकाशित हुआ था। अंतिम जूरी में गोपालकृष्ण गांधी, निलिता वचनाणी और डॉ ए.आर.वेंकटचलपति ने सर्वसम्मति से विजेता के रूप में नीलेना के काम को मंजूरी दी।

अत्याधुनिक युद्धपोत के निर्माण के लिए भारत-ब्रिटेन में बातचीत

भारत अपनी नौ सेना के लिए एक अत्याधुनिक विमान वाहक पोत खरीदने के लिए ब्रिटेन से बातचीत कर रहा है। ब्रिटेन के एचएमएस क्वीन एलिजाबेथ की तर्ज पर बनने वाले इस युद्धपोत का निर्माण ‘मेक इन इंडिया’ के तहत भारत में ही होगा। भारतीय नौसेना के लिए 65,000 टन के ब्रिटिश युद्धपोत की विस्तृत डिजाइन की खरीद के लिए बातचीत चल रही है। एचएमएस क्वीन एलिजाबेथ की तरह बनने वाले इस युद्धपोत को वर्ष 2022 में भारतीय नौ सेना में शामिल किया जाएगा और इसका नाम आइएनएस विशाल होगा।

अमेरिकी यूनिवर्सिटी ने भारतीय दंपती पर रखा विभाग का नाम

अमेरिका की यूनिवर्सिटी ऑफ ह्यूस्टन ने अपने एक विभाग का नाम मध्य प्रदेश से अमेरिका जाकर ह्यूस्टन में बस गए दुर्गा डी अग्रवाल और सुशीला अग्रवाल के नाम पर रखा है। शोध कार्यो, शिक्षकों और छात्रों के लिए खुलकर मदद देने के कारण यूनिवर्सिटी के इंजीनियरिंग रिसर्च विभाग को अब उनके नाम से जाना जाएगा। यूनिवर्सिटी की भारतवंशी चांसलर रेणू खाटोर, अमेरिका में भारत के महावाणिज्य दूत अनुपम रे और अन्य गणमान्य लोगों की उपस्थिति में इस विभाग की इमारत को नया नाम दिया गया। इसका नाम अब दुर्गा डी और सुशीला अग्रवाल इंजीनियरिंग रिसर्च बिल्डिंग हो गया है।

« Previous Next Affairs »

Current Affairs Quiz

Here you can find Month Wise Quiz.

Quiz

Notes

Notes on many subjects with example and facts.

Notes

QUESTION

Find Question on this Topic and many other subjects

Learn More

Exam

Here You can find previous year question paper and model test for practice.

Start Exam

Download

Here you can download Current Affairs PDF.

Download

Join

Join a family of Rajasthangyan on