Ask Question |
Notes
Question
Quiz
Tricks
Facts

27 May 2019

ISRO की नई वाणिज्यिक शाखा 'NewSpace India Limited का बेंगलुरु में उद्घाटन

हाल ही में न्यू स्पेस इंडिया लिमिटेड (New Space India Limited-NSIL) का आधिकारिक रूप से बंगलूरु में उद्घाटन किया गया है।न्यू स्पेस इंडिया लिमिटेड भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (Indian Space Research Organisation-ISRO) की एक वाणिज्यिक शाखा है। अंतरिक्ष के क्षेत्र में ISRO द्वारा की गई अनुसंधान और विकास गतिविधियों के व्यावसायिक उपयोग हेतु न्यू स्पेस इंडिया लिमिटेड को 100 करोड़ रुपए के अधिकृत शेयर पूंजी (पेड-अप कैपिटल 10 करोड़ रुपए) के साथ 6 मार्च, 2019 को शामिल किया गया था। यह ‘एंट्रिक्स(Antrix) कॉर्पोरेशन’ के बाद इसरो की दूसरी व्यावसायिक शाखा है। एंट्रिक्स कॉर्पोरेशन को मुख्य रूप से वर्ष 1992 में इसरो के विदेशी उपग्रहों के वाणिज्यिक प्रक्षेपण की सुविधा हेतु स्थापित किया गया था। NSIL का उद्देश्य भारतीय अंतरिक्ष कार्यक्रमों में उद्योग की भागीदारी को बढ़ाना है।NSIL अंतरिक्ष से संबंधित सभी गतिविधियों को एक साथ लाएगा और संबंधित प्रौद्योगिकियों में निजी उद्यमशीलता का विकास करेगा। इसरो के अध्यक्ष के. सिवन, मुख्यालय बेंगलुरु में है।

भारतीय वायुसेना के एएन-32 के बेड़े में जैव जेट ईंधन के इस्तेमाल की अनुमति

भारतीय वायुसेना (आईएएफ) के एएन-32 परिवहन विमान के बेड़े को 10 प्रतिशत जैव जेट ईंधन के मिश्रण वाले विमान ईंधन के इस्तेमाल की अनुमति दे दी है। परिवहन विमान बेड़े को शुक्रवार को जैव जेट ईंधन के इस्तेमाल के लिए प्रमाणन मिल गया। अधिकारियों ने बताया कि ‘सेंटर फॉर मिलिट्री एयरवर्दिनेस एंड सर्टिफिकेशन (सीईएमआईएलएसी) ने रूस में बने विमानों के बेड़े में जैव ईंधन के इस्तेमाल की मंजूरी दी।

25 राज्यों पर लगाया गया एक-एक करोड़ का जुर्माना

देश के 25 से ज्यादा राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों को प्लास्टिक वेस्ट ठिकाने लगाने का तरीका न बताने के लिए केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड को एक-एक करोड़ रुपये का जुर्माना चुकाना होगा। ऐसा नेशनल ग्रीन टिब्यूनल (एनजीटी) के आदेश के चलते होगा। राज्यों को प्लास्टिक कूड़े के निस्तारण की कार्ययोजना 30 अप्रैल तक प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड को सौंपनी थी, जो उन्होंने नहीं सौंपी। देश में केवल आंध्र प्रदेश, पश्चिम बंगाल, सिक्किम और पुडुच्चेरी ने यह कार्ययोजना दाखिल की है। एनजीटी के आदेशानुसार कार्ययोजना न देने वाले राज्यों को प्रति राज्य प्रति माह एक करोड़ रुपये का जुर्माना केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड को देना होगा।

निशानेबाज अपूर्वी ने जीता साल का दूसरा स्वर्ण

भारत की स्टार महिला निशानेबाज अपूर्वी चंदेला ने म्यूनिख (जर्मनी) में जारी आइएसएसएफ विश्व कप में स्वर्ण पदक अपने नाम किया। भारतीय राष्ट्रीय राइफल संघ (एनआरएआइ) ने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल पर इसकी जानकारी दी। विश्व नंबर-एक अपूर्वी ने 10 मीटर एयर राइफल स्पर्धा में स्वर्ण पदक जीता। अपूर्वी का इस साल यह दूसरा स्वर्ण पदक है। पिछले साल कॉमनवेल्थ गेम्स में 10 मीटर एयर राइफल में कांस्य पदक जीतने वालीं अपूर्वी ने फाइनल में 251.0 के स्कोर के साथ स्वर्ण पदक हासिल किया। अपूर्वी ने इसी साल फरवरी में नई दिल्ली में हुए निशानेबाजी विश्व कप में विश्व रिकॉर्ड के साथ पहला स्थान हासिल किया था।

साइबर हमले से अमेरिका के बाल्टिमोर शहर में इंटरनेट ठप

हैकर्स ने फिरौती के लिए साइबर हमला कर अमेरिका के बाल्टिमोर शहर का इंटरनेट ठप कर दिया है। सात मई को हुए रैंसमवेयर हमले से शहर के सभी कंप्यूटर सिस्टम प्रभावित हैं। ईमेल के साथ ऑनलाइन पेमेंट प्लेटफॉर्म भी काम नहीं कर रहे। हैकर्स ने कंप्यूटर सिस्टम को रैनसमवेयर वायरस से मुक्त करने के लिए बिटक्वाइन के रूप में 76,280 डॉलर (करीब 52 लाख रुपये) मांगे हैं। शहर के अधिकारियों का हालांकि कहना है कि वह फिरौती नहीं देंगे। इस साइबर हमले के लिए हैकर्स ने इटर्नल ब्लू टूल का इस्तेमाल किया। अमेरिका की नेशनल सिक्योरिटी एजेंसी ने ही इसे विकसित किया था। अप्रैल, 2017 में शैडो ब्रोकर नामक हैकिंग समूह ने इस टूल को लीक कर दिया था।

बायर्न म्यूनिख ने 19वां जर्मन कप जीता

जर्मनी के फुटबॉल क्लब बायर्न म्यूनिख ने जर्मन कप के फाइनल में बर्लिन ओलंपिया स्टेडियम पर लीपजिग को 3-0 से हरा दिया। इस जीत के साथ ही टीम ने 19वीं बार यह खिताब अपने नाम किया। बायर्न इससे पहले बुंदेसलिगा टाइटल भी जीत चुका है। इस तरह यह उसका 12वां डोमेस्टिक डबल रहा। यानी बायर्न 12वीं बार एक ही सीजन में जर्मन कप और बुन्देसलिगा जीतने में सफल रहा।

यूएनओ हैल्थकेयर अवार्ड : आचार्य बालकृष्ण विश्व के 10 सबसे प्रभावशाली व्यक्तियों की सूची में शामिल

पतंजलि के प्रबंध निदेशक आचार्य बालकृष्ण को यूएनओ की संस्था यूएनएसडीजी (यूनाइटेड नेशंस सस्टेनेबल डेवलपमेंट गोल) ने विश्व के 10 सबसे प्रभावशाली लोगों की सूची में शामिल किया है। उन्हें जेनेवा में यूएनएसडीजी हेल्थकेयर अवॉर्ड से सम्मानित किया गया। 1995 में हरिद्वार में दिव्य फार्मेसी के रूप में शुरू किए गए पतंजलि ग्रुप के प्रमुख बालकृष्ण को फोर्ब्स की रईसों की सूची में भी शामिल किया गया है। उनकी निजी संपदा 25,000 करोड़ रुपये आंकी गई है। पतंजलि के 97% शेयर बालकृष्ण के पास हैं।

नलिनी मालानी ने जोआन मीरो पुरस्कार जीता

भारतीय कलाकार नलिनी मालानी ने जोआन मीरो प्राइज का सातवां संस्करण जीता है, जो एक अंतर्राष्ट्रीय पुरस्कार है। उन्हें पुरस्कार राशि के तौर पर 70,000-यूरो (78,000 डॉलर) नकद पुरस्कार मिला है और इसे दुनिया के सबसे प्रतिष्ठित कला पुरस्कारों में से एक माना जाता है। नलिनी (1946 में कराची में जन्मीं), एक फिल्म, फोटोग्राफी, वीडियो कला और परफॉर्मेस आर्टिस्ट हैं, नलिनी मालानी जोआन मिरो पुरस्कार से सम्मानित होने वाली पहली भारतीय हैं।

चीन ने प्रतिबंधित ओजोन का उपयोग जारी रखा है- CFC-11 को हटाने का उल्लंघन

चीन एक प्रतिबंधित ओजोन-हटाने वाला रसायन का उपयोग कर रहा है। यह पत्रिका Nature में प्रकाशित हुआ था। यह 1987 मॉन्ट्रियल प्रोटोकॉल के खिलाफ है। मई 2018 में जारी अध्ययन के अनुसार, 2013 से सीएफसी -11 का उत्सर्जन बढ़ रहा था। यह 2012 के बाद से 25% देखा गया। 2008 और 2012 के बीच, पूर्वी चीन ने औसतन लगभग 6,400 मीट्रिक टन सीएफसी -11 प्रति वर्ष उत्सर्जित किया और 2014 से 2017 तक इसे बढ़ाकर 13,400 मीट्रिक टन प्रति वर्ष कर दिया गया। चीन दुनिया का सबसे बड़ा पॉलीयूरेथेन फोम बाज़ार है। ब्रिटेन स्थित पर्यावरण जांच एजेंसी (ईआईए) के अनुसार, चीनी फोम निर्माता CFC-11 का अवैध रूप से उपयोग कर रहे हैं, ताकि HCFC-141b जैसे हाइड्रोक्लोरो-फ्लोरोकार्बन और शेडोंग प्रांत की फैक्ट्रियों जैसे विकल्प की उच्च लागत को बचाया जा सके। CFC-11 एक क्लोरोफ्लोरोकार्बन नामक यौगिकों का एक वर्ग है जो वायुमंडलीय & nbsp; ओजोन को नष्ट करता है। मॉन्ट्रियल प्रोटोकॉल, ओज़ोन परत को क्षीण करने वाले पदार्थों के बारे में (ओज़ोन परत के संरक्षण के लिए वियना सम्मलेन में पारित प्रोटोकॉल) अंतर्राष्ट्रीय संधि है जो ओज़ोन परत को संरक्षित करने के लिए, चरणबद्ध तरीके से उन पदार्थों का उत्सर्जन रोकने के लिए बनाई गई है, जिन्हें ओज़ोन परत को क्षीण करने के लिए उत्तरदायी माना जाता है। इस संधि को हस्ताक्षर के लिए 16 सितंबर 1987 को खोला गया था और यह 1 जनवरी 1989 में प्रभावी हुई, जिसके बाद इसकी पहली बैठक मई, 1989 में हेलसिंकी में हुई. तब से, इसमें सात संशोधन हुए हैं।

UN की ILO रिपोर्ट ने लिंग विविधता को व्यापार और अर्थव्यवस्था के लिए अच्छा बताया

संयुक्त राष्ट्र (UN) का अंतर्राष्ट्रीय श्रम संगठन (ILO) ने अपनी रिपोर्ट में "व्यापार और प्रबंधन में महिलाएं: परिवर्तन के लिए व्यापार का मामला" शीर्षक से बताया कि वे कंपनियां जो विशेष रूप से शीर्ष पर लिंग विविधता में सुधार करती हैं, बेहतर प्रदर्शन करती हैं ।

WHO ने वैश्विक सर्पदंश से निपटने के लिए एक योजना पेश की

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) अपनी रिपोर्ट में, रोकथाम और नियंत्रण के लिए एक नई रणनीति पेश की सर्पदंश envenoming , एक उपेक्षित उष्णकटिबंधीय बीमारी जो हर साल 1.8 से 2.7 मिलियन लोगों को प्रभावित करती है और 81,000 से 1,38,000 लोगों की मृत्यु हो गई। इस रणनीति का उद्देश्य अगले 12 वर्षों में सांप की वजह से होने वाली मौतों की संख्या और विकलांगता के मामलों को आधा करना है सांप के जहर का असर बहुत गंभीर होता है। यह पक्षाघात का कारण बन सकता है जो श्वास, रक्तस्राव विकारों, अपरिवर्तनीय गुर्दे की विफलता और ऊतक क्षति को रोकता है जो स्थायी विकलांगता और अंग हानि का कारण बन सकता है। डब्ल्यूएचओ की रिपोर्ट के अनुसार, सर्पदंश से सबसे अधिक प्रभावित लोग दुनिया के उष्णकटिबंधीय और सबसे गरीब क्षेत्रों में रह रहे हैं, और बच्चे अपने छोटे शरीर के आकार के कारण अधिक प्रभावित होते हैं। WHO के बारे में मुख्यालय जिनेवा, स्विटजरलैंड महानिदेशक टेड्रोस एडनॉम

14 करोड़ की खुराक ठीक करेगी बीमारी स्पाइनल मस्क्युलर अट्रॉफी

अमेरिका के फूड एंड ड्रग्स एडमिनिस्ट्रेशन ने गंभीर किस्म की बीमारी स्पाइनल मस्क्युलर अट्रॉफी (एसएमए) के इलाज के लिए जीन-थेरेपी को मंजूरी दे दी है। जोलेगेंस्मा नामक इस नई थेरेपी के जरिये एक ही बार में इस बीमारी का इलाज हो जाएगा जिसकी कीमत 21 लाख डॉलर (करीब 14 करोड़ रुपये) है। एक खुराक के लिहाज से इसे अब तक का सबसे महंगा इलाज बताया जा रहा है। एसएमए के इलाज के लिए पहले भी कई ड्रग्स विकसित की गई थी, लेकिन उनकी एक खुराक की कीमत दस डॉलर से ऊपर नहीं थी। एसएमए एक तरह का न्यूरोमस्क्युलर डिसऑर्डर है जिससे मरीज की शारीरिक क्षमता घट जाती है और वह चल-फिर भी नहीं पाते।

एमबीबीएस वार्षिक परीक्षा के लिए 50 फीसद अंक अनिवार्य

एमबीबीएस में प्रवेश लेने वाले छात्रों को नए परीक्षा पैटर्न से रूबरू होना होगा। मेडिकल काउंसिल ऑफ इंडिया (एमसीआइ) ने शैक्षिक सत्र 2019-20 के लिए मूल्यांकन प्रक्रिया में बड़ा बदलाव करते हुए नई गाइड लाइन जारी की है। अब विषयों का आंतरिक मूल्यांकन थ्योरी के बजाए प्रैक्टिकल बेस्ड होगा वहीं इसमें 50 फीसद अंक लाना भी अनिवार्य होगा। छात्रों को पहले ही वर्ष से मरीजों पर काम करके सीखना होगा। ऐसे ही आंतरिक मूल्यांकन का पासिंग मार्क भी 50 कर दिया गया है।

« Previous Next Affairs »

Current Affairs Quiz

Here you can find Month Wise Quiz.

Quiz

Notes

Notes on many subjects with example and facts.

Notes

QUESTION

Find Question on this Topic and many other subjects

Learn More

Exam

Here You can find previous year question paper and model test for practice.

Start Exam

Download

Here you can download Current Affairs PDF.

Download

Join

Join a family of Rajasthangyan on