Ask Question | login | Register
Notes
Question
Quiz
Tricks
Facts

13 April 2020

मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने कोविड - 19 से निपटने के लिए वेब पोर्टल - युक्ति की शुरुआत की

मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने नई दिल्ली में वेब पोर्टल युक्ति(Young India Combating COVID with Knowledge, Technology and Innovation-YUKTI) का लोकार्पण किया। इस पोर्टल के माध्यम से यूथ इंडिया कम्बेटिंग कोविड विद नॉलेज टेक्नालॉजी एंड इनोवेशन पर मंत्रालय के प्रयासों और पहलों की निगरानी की जा सकेगी। इसका उद्देश्य कोविड-19 की विभिन्न चुनौतियों से समग्रता और व्यापकता के साथ निपटना है। यानि मंत्रलय से जुड़ी सारी गतिविधियों का संचालन और निगरानी अब इसी युक्ति पोर्टल के जरिये ही की जाएगी।

जम्मू-कश्मीर में दरबार मूव

144 वर्षों में पहली बार जम्मू-कश्मीर प्रशासन ने मौजूदा COVID-19 महामारी के मद्देनज़र प्रदेश में जम्मू से श्रीनगर में राजधानी के वार्षिक हस्तांतरण को रोकने का निर्णय लिया है। लगभग 148 वर्ष पहले शुरू हुई राजधानी हस्तांतरण की इस प्रक्रिया को ‘दरबार मूव’ (Darbar move) के नाम से जाना जाता है। , जिसकी शुरुआत वर्ष 1872 में डोगरा शासक महाराजा रणबीर सिंह (1856 से 1885 तक) द्वारा बेहतर प्रशासनिक व्यवस्था स्थापित करने के उद्देश्य से की गई थी। डोगरा शासक महाराजा रणबीर सिंह द्वारा शुरू की गई इस प्रथा के अनुसार, महाराजा का दरबार 6 महीनों के लिये श्रीनगर में लगता था और 6 महीनों के लिये जम्मू में। इतिहासकारों के अनुसार, महाराजा का काफिला अप्रैल माह में श्रीनगर के लिये रवाना हो जाता था और अक्तूबर में उसकी वापसी होती थी। डोगरा शासकों ने वर्ष 1947 तक इस प्रथा को जारी रखा और वर्ष 1947 के पश्चात् दरबार के स्थान पर राजधानी के हस्तांतरण की प्रथा शुरू हो गई।

एनआईएफ ने स्वदेशी ज्ञान के आधार पर पशुओं के लिए हर्बल डिवार्मर पेश किया

राष्ट्रीय नवप्रवर्तन प्रतिष्ठान-भारत (एनआईएफ) ने पशुओं में कृमि के उपचार के लिए रासायनिक विधि के विकल्प के रूप में एक स्वदेशी हर्बल दवा (डिवार्मर) पेश की है। इसका उत्पादन वाणिज्यिक रुप में किया गया है। स्वदेशी हर्बल दवा (डिवार्मर) ‘वर्मीवेट’ के नाम से पेश की गई है। इस दवा के निर्माण के लिए एनआईएफ ने गुजरात के श्री हर्षाभाई पटेल द्वारा भेजे गए एक उपचार विधि पर काम किया जिसके माध्यम से पशुओं में इंडोपारासाइट (कृमि) संक्रमण बीमारी का इलाज किया जाता था। एनआईएफ ने इस स्वदेशी उपचार को अद्भुत पाया। प्राकृतिक रुप से संक्रमण में इस कृमिनाशक के प्रभाव का मूल्यांकन किया गया। परिणाम ने इस दवा के सफल प्रभाव का प्रदर्शन किया।

औषधि केंद्र देखने और दवाईयों की कीमत जानने के लिए जन औषधि सुगम मोबाइल ऐप

सरकार देशभर में छह हजार तीन सौ प्रधानमंत्री जन औषधि केंद्रों पर सस्ती दवाईयों की उपलब्धता सुनिश्चित कर रही है। रसायन और उर्वरक राज्य मंत्री मनसुख मांडविया ने कहा कि कोरोना महामारी की स्थिति को देखते हुए जन औषधि केंद्रों के गोदाम रात-दिन काम कर रहें हैं। आम जनता अपने नजदीक जन औषधि केंद्र देखने और दवाईयों की कीमत जानने के लिए जन औषधि सुगम मोबाइल ऐप का इस्तेमाल कर सकती है।

मणिपुर में गरीबों और जरूरतमंदों की मदद के लिए फूड बैंक

मणिपुर में, 'फूड बैंक' नामक एक नई पहल को इंफाल पूर्व जिला प्रशासन ने गरीबों और जरूरतमंदों को मुफ्त भोजन के रूप में तत्काल सहायता प्रदान करने के लिए शुरू किया है, जो लंबे समय से राज्यव्यापी बंद के मद्देनजर आवश्यक वस्तुओं की कमी का सामना कर रहे हैं।

चंडीगढ़ प्रशासन ने जियो फेंसिंग तकनीक वाला ट्रैकर ऐप लांच किया

चंडीगढ़ प्रशासन ने विशेष निगरानी में रखे गये लोगों पर नजर बनाये रखने के लिए जियो फेंसिंग तकनीक वाला CVD ट्रैकर ऐप लांच किया है। एंड्रॉयड ऐप को संगरोध वाले लोगों के आसपास के इलाके की पहचान और उनकी जियो फेंसिंग के लिए विकसित किया गया है। विशेष निगरानी वाले लोगों के लिए अपने मोबाइल पर इस ऐप को डाउनलोड करना अनिवार्य होगा। संगरोध में रह रहे प्रत्‍येक प्रयोक्‍ता के निवास स्‍थान से 50 मीटर तक की दूरी की घेरेबंदी की जायेगी और संगरोध प्रयोक्‍ता को हर घंटे सेल्‍फी अपलोड करनी होगी। इससे यह पता चल सकेगा कि मरीज को संगरोध में कहां रखा गया था और उसने किस स्‍थान से सेल्‍फी अपलोड की है।

एचडीएफसी में चीन के केंद्रीय बैंक पीबीसी ने बढ़ाई अपनी हिस्सेदारी

चीन के केंद्रीय बैंक पीपुल्स बैंक ऑफ चाइना यानी पीबीसी ने भारत में संपत्ति के बदले कर्ज देने वाली एचडीएफसी लिमिटेड में हिस्सेदारी एक प्रतिशत से अधिक कर ली है। शेयर बाजारों को दी जानकारी में एचडीएफसी ने बताया कि इस वर्ष 31 मार्च को चीन के केंद्रय बैंक की हिस्सेदारी 1,74,92,909 शेयरों के साथ 1.01 प्रतिशत पर जा पहुंची।

आइआइटी बॉम्बे के शोधकर्ताओं ने विकसित किया स्मार्ट स्टेथोस्कोप

आइआइटी बॉम्बे के शोधकर्ता की टीम ने ऐसा डिजिटल स्टेथोस्कोप (डिजिटल आला) विकसित किया है जो दूर से किसी भी व्यक्ति की धड़कनों को सुन सकता है और उसे रिकॉर्ड कर सकता है यानी अब इसके लिए मरीजों की छाती से स्टेथोस्कोप लगाना जरूरी नहीं होगा। माना जा रहा है कि इस डिवाइस का इस्तेमाल कोरोना संक्रमित मरीजों से स्वास्थ्यकर्मियों को होने वाले संक्रमण का खतरा कम होगा। ‘आयुडिवाइस’ नाम से स्टार्टअप चला रही शोधकर्ताओं की इस टीम ने देश के विभिन्न अस्पतालों और स्वास्थ्य सेवा केंद्रों में ऐसे 1,000 स्टेथोस्कोप भेजे हैं। यह डिवाइस रिलाइंस और पीडी हिंदुजा अस्पताल के डॉक्टरों की मदद से विकसित की गई है।

खादी और ग्रामोद्योग आयोग ने दोहरी परत वाले खादी मास्क विकसित किए

खादी और ग्रामोद्योग आयोग (केवीआईसी) ने सफलतापूर्वक एक दोहरी परत वाले खादी मास्क का विकास कर लिया है और उसे बड़ी मात्रा में इन मास्क की आपूर्ति करने के ऑर्डर प्राप्त हुए हैं। अपनी इस सफलता के साथ, केवीआईसी ने हाल ही में जम्मू और कश्मीर सरकार को 7.5 लाख खादी मास्क की आपूर्ति करने का आदेश प्राप्त किया है। कॉटन के दोबारा इस्तेमाल में लाए जा सकने वाले ये मास्क 7 इंच लंबे और 9 इंच चौड़े होंगे, इनमें तीन सलवटें होंगी और बांधने के लिए कोनों में चार पट्टियां होंगी।

586 समर्पित COVID-19 अस्पताल स्थापित

भारत सरकार ने 586 समर्पित COVID-19 अस्पताल स्थापित किए हैं। अस्पतालों में 1 लाख से अधिक आइसोलेशन बेड को समायोजित करने की क्षमता है। भारत में COVID-19 हॉटस्पॉट की पहचान करने के लिए भारत सरकार ने प्रारंभिक कार्रवाई की है। आइसोलेशन बेड के अलावा, लगभग 11,500 ICU बेड भी स्थापित किए गए हैं।

G-20 ऊर्जा मंत्रियों की बैठक: ऊर्जा की खपत का प्रमुख केंद्र बना रहेगा भारत

पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस और इस्पात मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने 10 अप्रैल 2020 को G-20 असाधारण ऊर्जा मंत्रियों की आभासी बैठक में भाग लिया। इस बैठक को सऊदी अरब द्वारा बुलाया गया था, और इसकी अध्यक्षता सऊदी अरब ऊर्जा मंत्री द्वारा की गई थी। जी-20 देशों के ऊर्जा मंत्रियों की बैठक में केंद्रीय पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस तथा इस्पात मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने शिरकत की। इस मौके पर उन्होंने कहा कि भारत इस वैश्विक संकट के दौरान भी ऊर्जा की खपत का प्रमुख केंद्र बना रहेगा। इस बैठक में मांग में कमी और उत्पादन अधिशेष के बीच स्थिर ऊर्जा बाजारों को सुनिश्चित करने के तरीकों और साधनों पर चर्चा की गई। अरब, रूस, अमेरिका आदि ने खनिज तेल की घटती कीमतों में स्थिरता लाने के लिये वैश्विक तेल आपूर्ति में कटौती करने पर सहमति जाहिर की है। इस बैठक में पेट्रोलियम निर्यातक देशों का संगठन (OPEC) के देशों के साथ ही समूह के अन्य अनौपचारिक सदस्यों (OPEC+) के बीच हुए समझौते के तहत कच्चे तेल की वर्तमान वैश्विक आपूर्ति में 10% की कटौती की जाएगी। साथ ही OPEC संगठन ने विश्व के अन्य देशों से भी अपने तेल उत्पादन में 5% की कटौती करने की मांग की है।

कोरोना से लड़ाई में सहयोग के लिए भारतीय मूल के चिकित्सक आए आगे

दुनियाभर में भारतीय मूल के चिकित्सकों ने 'ग्लोबल इंडियन फिजिशियन कोविड-19 कोलैबोरेटिव' के बैनर तले मुहिम के तहत कोरोना वायरस का मुकाबला करने के आपस में हाथ मिलाया है। कोविड-19 से अब तक 185 देशों में एक लाख से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है। इस मुहिम का उद्देश्य कोविड-19 की रोकथाम के लिए रणनीति बनाना है। इसमें टीकाकरण, नई नैदानिक जांच, विकसित जीवन रक्षक प्रणाली, संक्रमण की जल्दी पहचान कर उपाय करने की रणनीति, एंटीवायरल थेरैपी, प्लाज्मा थेरैपी आदि शामिल हैं।

Start the Quiz

« Previous Next Affairs »

Current Affairs Quiz

Here you can find Month Wise Quiz.

Quiz

Notes

Notes on many subjects with example and facts.

Notes

QUESTION

Find Question on this Topic and many other subjects

Learn More

Exam

Here You can find previous year question paper and model test for practice.

Start Exam

Download

Here you can download Current Affairs PDF.

Download

Join

Join a family of Rajasthangyan on


Contact Us Contribute About Write Us Privacy Policy About Copyright

© 2020 RajasthanGyan All Rights Reserved.