Ask Question |
Notes
Question
Quiz
Tricks
Facts

जयपुर

जयपुर

प्रशासनिक इकाईयां

तहसील - 16 पंचायत समिति - 15 संभाग - जयपुर

जयपुर राजस्थान की राजस्थानी है। इसे गुलाबी नगर, भारत का पेरिस व रंग श्री द्वीप भी कहा जाता है। जयपुर के इतिहास के अनुसार यह देश का पहला योजनाबद्ध रूप से बसाया गया शहर है।

जयपुर की स्थापना कच्छवाह वंश के महाराजा सवाई जयसिंह द्वितीय द्वारा की गई। जयपुर के वास्तुकार श्री विद्याधर थे। 1876 में महाराजा सवाई रामसिंह ने इंग्लैड की महारानी एलिजाबेथ के स्वागत में पूरे शहर को गुलाबी रंग से आच्छादित करवा दिया था। तभी से शहर का नाम गुलाबी नगरी पड़ा। जयपुर के बसने से पहले जयपुर(ढुंढाड) राज्य था जिसकी राजधानी आमेर थी।

अजरबैजान की राजधानी बाकू में आयोजित यूनेस्को विश्व हेरिटेज समिति के 43वें सत्र के दौरान भारत के गुलाबी शहर जयपुर को यूनेस्‍को की विश्‍व हेरिटेज सूची में शामिल कर लिया गया है। इससे पहले गुजरात के अहमदाबाद शहर को यूनेस्‍को की विश्‍व हेरिटेज सूची में शामिल किया जा चूका है। अब भारत में कुल 38 विश्व विरासत स्थल हैं, जिसमें 30 सांस्कृतिक स्‍थल, 7 प्राकृतिक स्‍थल और 1 मिश्रित स्‍थल शामिल हैं। इससे पहले जयपुर स्थित आमेर किले और जंतर-मंतर को इस सूची में स्थान मिल चुका है।

महत्वपूर्ण तथ्य

हरियाणा राज्य के साथ न्युनतम सीमा जयपुर जिले की लगती है।

ढुंढाड़ - जयपुर के आस पास का क्षेत्र।

जनसंख्या की दृष्टि से राजस्थान का सबसे बड़ा संभाग

राजस्थान में जनसंख्या घनत्व की दृष्टि से जयपुर(595) प्रथम स्थान रखता है।

जनसंख्या की दृष्टि से सबसे बड़ी रियासत - जयपुर।

ढाक टिकट एवं पोस्ट कार्ड जारी करने वाली प्रथम रियासत - जयपुर।

क्षेत्रफल की दृष्टि से सबसे छोटा ठिकाना - लावा, जयपुर।

ढुंढाड़ी जयपुर की बोली(राजावाटी, ढुढाड़ी की उपबोली) ।

बैराठ सभ्यता - जयपुर।

जोधपुरा सभ्यता - जयपुर।

नालियासर(लौह युगिन) सभ्यता - जयपुर।

बाणगंगा नदी- (अर्जुन की गंगा/ताल नदी) यह जयपुर की बैराठ की पहाड़ीयों से निकलती है।

जमवारामगढ़ - जयपुर शहर को इस बांध से पीने का पानी मिलता है। इस बांध में पानी बाणगंगा नदी से आता है।

ढुढ नदी - जयपुर के अचरोल से निकलती है।(ढुढ नदी)

मोरेल नदी - जयपुर के चैनपुरा गांव से निकलती है।(मोरेल नदी)

मैन्था नदी - जयपुर के मनोहरथाना से निकलती है, सांभर के उतर में विलिन हो जाती है।(मैन्था नदी)

साबी - जयपुर में सेवर की पहाड़ीयों से निकलती है।(साबी)

सांभर - खारे पानी की झील।(सांभर)

सर्वाधिक ओलावृष्टि वाला जिला जयपुर।

कुए और नल कुप से सर्वाधिक सिंचाई जयपुर में की जाती है।

जंतर मंतर - 1718 ईस्वी में सवाई जयसिंह द्वारा बनाई गई पांच वेधशालाओं में सबसे बड़ी वेधशाला है। इसका निर्माण समय की जानकारी तथा ग्रह नक्षत्रों की जानकारी के लिए किया गया था।जंतर मंतर

हवा महल - हवामहल का निर्माण 1799 ईस्वी में सवाई प्रतापसिंह ने करवाया था। यह पांच मंजिला अर्धअष्टभूजाकार महल है। इसका निर्माण उद्देश्य राज परिवार की स्त्रियां शहर के जुलूस तथा चहल पहल देख सकें।हवा महल

जल महल - जल महल का निमार्ण सवाई जयसिंह ने गर्भावति नदि पर बने बांध रामसागर में अश्वमेध यद के बाद अपनी रानियों और पंडितों के साथ स्नान करने के लिए बनवाया था।

जयगढ़ किला - इसका निर्माण जयसिंह द्वितीय 1726 ने आमेर दुर्ग की सुरक्षा हेतु करवाया था। प्राचिन भारत कि सैनिक इमारतों में से एक।अन्य भन्डार, तोप ढलाई घर तथा विशायकाय तोप जयबाण के लिए प्रसिद्ध।

आमेर के महल - आमेर के महलों का निर्माण 1592 में राजा मानसिंह ने करवाया। इसमें शिला माता मंदिर का मंदिर है। जो कच्छवाह राज परिवार की कुल देवी थी।

सिटी पैलेस(राजमहल) - जयपुर राज परिवार का निवास स्थान। राजस्थानी मुगल शैली एवं स्थापत्य कला पर बना हुआ है।

नाहरगढ़ का किला - नाहरगढ़ के किले का निर्माण 1734 में सवाई जयसिंह ने करवाया है। परन्तु इसका वर्तमान स्वरूप 1868 में सवाई रामसिंह ने दिया।

गलता जी - शहर के पूर्व में पहाडि़यों के बीच स्थित प्राचीन पवित्र कुण्ड धार्मिक स्थल है। संत कृष्णदास जी ने यहां रामानन्दी सम्प्रदाय की पीठ रखी।

बैराठ - यहां पाण्डवों ने अपना निर्वासित जिवन व्यतीत किया था।

गणेश मंदिर - यहां पर गणेश जी का मंदिर है जो राजा माधोसिंह प्रथम के काल में बनाया गया।

बिड़ला मंदिर - इसका निर्माण गंगाप्रसाद बिड़ला के ट्रस्ट ने करवाया। इसमें भारत के औद्योगिक विकास की क्रमबद्ध सजीव झांकी देखने को मिलती है।

अल्बर्ट हाल - इसका शिलान्यास प्रिंस अल्र्बट द्वारा किया गया।यह ईरान के बहुमूल्य गलीचे के लिए प्रसिद्ध है। गैटोर की छतरियां - जयपुर के शासकों का शाही शमशान घाट।

गणगौर - जयपुर का गणगौर भारत भर में प्रसिद्ध है। यह त्यौहार चैत्र शुक्ल तृतीया को मनाया जाता है इसमें गौरी माता(शिव जी की पत्नी) की सवारी निकाली जाती है।

तीज महोत्सव(छोटी तिज) - जयपुर(तीज महोत्सव)

नाहरगढ़ - जैविक उद्यान।

सांभर - रामसर साइट।

जमुवारामगढ़ अभ्यारण्य - जयपुर।

नाहरगढ़ अभ्यारण्य - जयपुर।

जयपुर चिड़ीयाघर - यह राजस्थान का प्रथम तथा सबसे बड़ा चिड़ीयाघर है, यह घडि़यालों के प्रजनन के लिए भारत वर्ष में प्रसिद्ध है। इस चिड़ीयाघर को विश्व बैंक से अनुदान प्राप्त होता है।

राजस्थान में सर्वाधिक बायोगैंस प्लांट वाले जिले - 1. उदयपुर 2. जयपुर।

राजस्थान विधुत नियामक प्राधिकरण(RERA)|

जयपुर में औद्योगिक विकास

राजस्थान में सर्वाधिक औद्योगिक ईकाइयों वाला जिला।

राजस्थान राज्य औद्योगिक विकास एवं विनियोजन निगम(RIICO)

राजस्थान वित्त निगम(RFC)

राजस्थान लघु उद्योग निगम(राजसीको,RAJSICO ) ।

हिन्दुस्तान साॅल्ट लिमिटेड - सांभर जयपुर।

एयर कारगो काम्पलेक्स - सांभर जयपुर।

राजस्थान पर्यटन विकास निगम(RTDC)।

स्वर्णिम त्रिकोण - दिल्ली - आगरा - जयपुर।

राजस्थान में सर्वाधिक पर्यटक जयपुर शहर में आते हैं।

जयपुर में हस्त कला

स्वर्ण चांदी के आभुषण - जयपुर।

कुदन कला(जयपुर) - स्वर्ण आभूषणों पर रतन जड़ाई करना।

कोफ्तगिरी - फौलाद की वस्तुओं पर सोने के तार की जड़ाई करना।

मार्बल की मुर्तियां - जयपुर।

लाख की चुडि़यां - जयपुर।

हाथि दांत एवं चंदन की खुदाई, घिसाई एवं पेंटिग्स - जयपुर।

धनक - कपड़े पर बड़ी - बड़ी बिन्दीयां।

लहरियो - कपड़े पर एक तरफ से दुसरी तरफ तक धारियां।

बेल - बूटेदार छपाई - सांगानेर, जयपुर।

फल - पत्तियां, पशु - पक्षियों की प्रिन्ट - बगरू, जयपुर।

बल्यू पोटरी - जयपुर ।

कागज बनाने की कला - सांगानेर, जयपुर।

पेपर मेसी(कुट्टी मिट्टी) - कागज की लुगदी, कुट्टी, मुलतानी मिट्टी एवं गोंद के पेस्ट से वस्तुएं।

नागरी व मोजड़ीयां - जयपुर।

हिमकृत वीर्य बैंक - बस्सी जयपुर।

Official Website

http://jaipur.rajasthan.gov.in

राजस्थान मानचित्र

यहां आप राजस्थान के मानचित्र से जिला चुन कर उस जिले से संबंधित जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

rajasthan District श्री गंगानगर हनुमानगढ बीकानेर चुरू जैसलमेर जोधपुर नागौर सीकर झुंझुनू जयपुर अलवर बाडमेर जालोर पाली सिरोही राजसमंद उदयपुर डूगरपुर बांसवाडा प्रतापगढ चितौडगढ अजमेर भीलवाड़ा टोंक बूंदी कोटा बांरा झालावाड भरतपुर दौसा सवाई माधौपुर करौली धौलपुर

Notes

Notes on many subjects with example and facts.

Notes

Tricks

Find Tricks That helps You in Remember complicated things on finger Tips.

Learn More

QUESTION

Find Question on many subjects

Learn More

Share