Ask Question | login | Register
Notes
Question
Quiz
Tricks
Facts

24 February 2024

अंतर्राष्ट्रीय समुद्री सम्मेलन

माननीय उपराष्ट्रपति श्री जगदीप धनखड़ ने अभ्यास मिलन 2024 के एक भाग के रूप में आयोजित अंतर्राष्ट्रीय समुद्री सम्मेलन का उद्घाटन किया। अंतर्राष्ट्रीय समुद्री सम्मेलन अभ्यास मिलन 2024 का एक महत्वपूर्ण हिस्सा रहा है। यह संगोष्ठी वैश्विक समुद्री उत्कृष्टता का महत्वपूर्ण संगम साबित हुई है। इस परिसंवाद ने महासागरों के पार स्थित देशों के बीच सहयोग, तालमेल एवं विकास के लिए एक मंच के रूप में कार्य किया है। अंतर्राष्ट्रीय समुद्री सम्मेलन में भारतीय नौसेना के नौसेनाध्यक्ष, मैत्रीपूर्ण संबंध वाले देशों के नौसेना प्रमुखों, वरिष्ठ गणमान्य व्यक्तियों, भारत तथा मित्रवत देशों के राजदूतों, उच्चायुक्तों और नौसेना के वरिष्ठ अधिकारियों सहित अनेक प्रतिनिधियों ने भाग लिया। इस सम्मेलन की विषय-वस्तु "महासागरों में साझेदार: सहयोग, तालमेल, विकास," पर विभिन्न प्रस्तुतियों और चर्चाओं की एक शानदार श्रृंखला पेश की गई। बारह देशों के सम्मानित वक्ताओं द्वारा प्रस्तुत किए गए लेखापत्र आर्थिक विकास, समुद्री सुरक्षा, क्षमता निर्माण, जलवायु परिवर्तन शमन, नीली अर्थव्यवस्था पहल और समुद्र आधारित बुनियादी ढांचे के सतत विकास जैसे महत्वपूर्ण क्षेत्रों पर केंद्रित थे।

प्रधानमंत्री ने वाराणसी में 13,000 करोड़ रुपये से अधिक की अनेक विकास परियोजनाओं की आधारशिला रखी और राष्ट्र को समर्पित किया

प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने वाराणसी में 13,000 करोड़ रुपये से अधिक की अनेक विकास परियोजनाओं का उद्घाटन किया और आधारशिला रखी। प्रधानमंत्री वाराणसी के करखियावं में यूपीआईडीएस एग्रो पार्क में बनी बनासकांठा जिला सहकारी दुग्ध उत्पादक संघ लिमिटेड की दूध प्रसंस्करण यूनिट बनास काशी संकुल देखने गए और गाय लाभार्थियों से बातचीत की। प्रदानमंत्री श्री मोदी ने रोजगार पत्र और जीआई-अधिकृत उपयोगकर्ता प्रमाण पत्र भी दिए। प्रधानमंत्री ने क्षेत्र में औद्योगिक विकास को गति प्रदान करने के लिए सेवापुरी में एचपीसीएल की एलपीजी बॉटलिंग प्लांट; यूपीसीडा एग्रो पार्क करखियांव में बनास काशी संकुल दूध प्रसंस्करण यूनिट; यूपीसीडा एग्रो पार्क, करखियांव में विभिन्न बुनियादी ढांचे के कार्य; और बुनकरों के लिए सिल्क फैब्रिक प्रिंटिंग कॉमन फैसिलिटी सेंटर का उद्घाटन किया।

भगवान बुद्ध और उनके दो शिष्यों के पवित्र अवशेष 19 मार्च तक आयोजित 26 दिनों की प्रदर्शनी के लिए थाईलैंड पहुंचे

भगवान बुद्ध के चार पवित्र पिपराहवा अवशेष सहित उनके दो शिष्यों- अरहाता सारिपुत्र और अरहाता मौदगल्यायन के अवशेष 22 सदस्यीय प्रतिनिधिमंडल के साथ 26 दिवसीय प्रदर्शनी के लिए थाईलैंड के बैंकॉक पहुंचे हैं। इस प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व बिहार के राज्यपाल श्री राजेंद्र विश्वनाथ आर्लेकर और केंद्रीय सामाजिक न्याय व अधिकारिता मंत्री डॉ. वीरेंद्र कुमार कर रहे हैं। इस प्रतिनिधिमंडल में कुशीनगर व औरंगाबाद के सम्मानित भिक्षु, लद्दाख स्थित संस्कृति मंत्रालय व मध्य प्रदेश सरकार के अधिकारी, राष्ट्रीय संग्रहालय के क्यूरेटर, कलाकार और विद्वान शामिल हैं। इस कार्यक्रम का आयोजन विदेश मंत्रालय, थाईलैंड में भारतीय दूतावास, अंतरराष्ट्रीय बौद्ध परिसंघ, राष्ट्रीय संग्रहालय, मध्य प्रदेश सरकार के सहयोग से आयोजित किया जा रहा है।

भारत और ओमान के बीच अभिलेखागार के क्षेत्र में सहयोग करने पर सहमति

अभिलेखागार महानिदेशक श्री अरुण सिंघल के नेतृत्व में भारतीय राष्ट्रीय अभिलेखागार (एनएआई), नई दिल्ली के एक प्रतिनिधिमंडल ने ओमान के नेशनल रिकॉर्ड्स एंड आरकाइव्ज अथॉरिटी (एनआरएए) का दौरा किया। प्रतिनिधिमंडल में उप-निदेशक डॉ. संजय गर्ग और आरकाइविस्ट सुश्री सदफ फातिमा शामिल थीं। यह दौरा 21-22 फरवरी, 2024 को किया गया। दौरे का उद्देश्य था, पुरालेख क्षेत्र में द्विपक्षीय सहयोग के क्षेत्रों का पता लगाना।

केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण राज्य मंत्री प्रो. एसपी सिंह बघेल ने तीन दिवसीय राष्ट्रीय सार्वजनिक स्वास्थ्य भारत सम्मेलन का उद्घाटन किया

केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण राज्य मंत्री प्रोफेसर एस.पी. सिंह बघेल ने नई दिल्ली में नीति आयोग के सदस्य डॉ. वी.के. पॉल की उपस्थिति में पहले राष्ट्रीय सार्वजनिक स्वास्थ्य भारत सम्मेलन (एनपीएचआईसीओएन-2024) का उद्घाटन किया। यह तीन दिवसीय सम्मेलन 23 से 25 फरवरी 2024 तक स्वास्थ्य सेवा महानिदेशालय के अंतर्गत राष्ट्रीय रोग नियंत्रण केंद्र (एनसीडीसी) द्वारा आयोजित किया जा रहा है। राष्ट्रीय सार्वजनिक स्वास्थ्य भारत सम्मेलन राष्ट्रीय स्तर की एक पहल है। इसका उद्देश्य स्वास्थ्य पेशेवरों के लिए अनुभव और सर्वोत्तम प्रथाओं को साझा करने के लिए एक सहयोगी शिक्षण मंच बनाना है। सम्मेलन स्वास्थ्य नीति निर्माताओं और कार्यान्वयनकर्ताओं के विचारों पर केंद्रित है, जो प्रभावी सार्वजनिक स्वास्थ्य कार्यक्रम प्रबंधन में योगदान देता है। यह राष्ट्रीय रोग नियंत्रण केंद्र (एनसीडीसी), तपेदिक और बुनियादी ढांचे को मजबूत करने जैसी स्वास्थ्य प्राथमिकताओं को संबोधित करने में नवीन दृष्टिकोण पर प्रकाश डालता है, जिसमें जूनोटिक रोगों, रोगाणुरोधी प्रतिरोध, पर्यावरण और जलवायु परिवर्तन के पहलुओं सहित एक स्वास्थ्य के लिए सहयोग पर जोर दिया गया है।

तुर्की ने पहली बार बनाया पांचवीं पीढ़ी का फाइटर जेट

तुर्की के पहले नेशनल कॉम्बैट एयरक्राफ्ट कान (KAAN) ने अपनी पहली उड़ान पूरी की। देश की वायु सेना को उन्नत करने के प्रयासों में ये एक अहम सफलता मानी जा रही है। तुर्की ने 2016 में एक राष्ट्रीय लड़ाकू विमान बनाने के लिए अपनी TF-X परियोजना शुरू की। इसके लिए तुर्की एयरोस्पेस फर्म TUSAS ने ब्रिटेन के BAE सिस्टम्स के साथ एक समझौते पर हस्ताक्षर किए थे। तुर्की ने इस लड़ाकू विमान विकसित करने के लिए 2017 में 125 मिलियन डॉलर खर्च किए हैं।

'पारुवेत' को 'अमूर्त सांस्कृतिक विरासत' घोषित कराने के लिये प्रयास

इंडियन नेशनल ट्रस्ट फॉर आर्ट एंड कल्चरल हेरिटेज (INTACH) संयुक्त राष्ट्र शैक्षिक, वैज्ञानिक और सांस्कृतिक संगठन (UNESCO) द्वारा वार्षिक उत्सव 'पारुवेत' (कृत्रिम शिकार प्रशिक्षण अभ्यास) को 'अमूर्त सांस्कृतिक विरासत' घोषित कराने के लिये प्रयास कर रहा है। यह आंध्र प्रदेश के अहोबिलम में श्री नरसिम्हा स्वामी मंदिर में मनाया जाने वाला एक वार्षिक उत्सव है जिसमें कृत्रिम शिकार प्रशिक्षण अभ्यास भी किया जाता है। मठ के 7वें जीयर (पोंटिफ) द्वारा लिखित संस्कृत नाटक वसंतिका परिणयम से पता चलता है कि 'गुरु परंपरा' के माध्यम से 600 वर्ष पुराने अहोबिला मठ के शासन के तहत मंदिर ने आदिवासी समुदायों के बीच श्रीवैष्णववाद का प्रचार प्रसार किया।

उत्तर प्रदेश पहला कछुआ संरक्षण रिजर्व स्थापित करेगा

उत्तर प्रदेश के गोंडा जिले में वन विभाग, टर्टल सर्वाइवल अलायंस फाउंडेशन इंडिया के सहयोग से संरक्षण का प्रयास शुरू कर रहा है। इस प्रयास का उद्देश्य घाघरा नदी की सहायक नदी सरजू नदी के किनारे एक कछुआ संरक्षण रिजर्व स्थापित करना है। गोंडा जिला अपनी कछुआ विविधता के लिए जाना जाता है, जो इसे इस तरह के संरक्षण प्रयास के लिए एक आदर्श स्थान बनाता है। इस परियोजना के लिए एक प्रस्ताव भेजा गया है, जिसमें छह साल तक विभिन्न कछुओं की प्रजातियों की निगरानी और आसपास की वनस्पतियों और जीवों का अध्ययन किया गया है।

मध्य प्रदेश ने ‘बैग-लेस स्कूल’ पहल शुरू की

मध्य प्रदेश सरकार ने बच्चों के लिए बड़ा फैसला लिया है। स्कूली बच्चों को अब नो बैग, नो होमवर्क डे मिलेगा। 2024-25 के आगामी शैक्षणिक सत्र से सप्ताह में एक बार लागू होने वाली यह नीति, पारंपरिक शैक्षिक मानदंडों से एक महत्वपूर्ण प्रस्थान का प्रतीक है और छात्र कल्याण और समग्र विकास के लिए सरकार की प्रतिबद्धता को रेखांकित करती है। इस पहल के केंद्र में छात्रों के स्कूल बैग के लिए स्पष्ट वजन सीमा की स्थापना है, जैसा कि राज्य सरकार द्वारा जारी एक नोटिस में बताया गया है। छात्रों की संबंधित कक्षाओं के अनुसार वजन की सीमा अलग-अलग होती है, कक्षा 1 और 2 के लिए 1.6 से 2.2 किलोग्राम तक, कक्षा 9 और 10 के लिए 2.5 से 4.5 किलोग्राम तक। यह सावधानीपूर्वक वर्गीकरण भारी स्कूल बैग के कारण होने वाले शारीरिक तनाव की सूक्ष्म समझ को दर्शाता है।

एनटीपीसी नवीकरणीय रिन्यूएबल एनर्जी लिमिटेड की पहली सौर परियोजना का परिचालन कार्य प्रारंभ हुआ

राजस्थान के छत्तरगढ़ में एनटीपीसी रिन्यूएबल एनर्जी लिमिटेड (एनटीपीसी-आरईएल) की पहली सौर परियोजना ने 21 फरवरी, 2024 को 70 मेगावाट क्षमता का वाणिज्यिक संचालन कार्य शुरू करने की घोषणा की है। इसके साथ ही एनटीपीसी समूह की कुल स्थापित क्षमता 73,958 मेगावाट तक पहुंच गई है। वर्तमान में, एनटीपीसी रिन्यूएबल एनर्जी लिमिटेड की 17 परियोजनाएं क्रियान्वित हैं, जिनकी कुल क्षमता 6,000 मेगावाट से अधिक है। इसके साथ ही एनटीपीसी समूह की कुल नवीकरणीय ऊर्जा परिचालन क्षमता 3,448 मेगावाट हो गई है। छत्तरगढ़ सौर परियोजना की निर्धारित पूर्ण क्षमता 150 मेगावाट है और इसके मार्च 2024 तक पूरी तरह से क्रियान्वित होने की आशा है। यह क्षमता एसईसीआई-ट्रैंच:III के तहत हासिल की गई थी और इस परियोजना का लाभार्थी राज्य राजस्थान है। यह परियोजना प्रति वर्ष 370 मिलियन यूनिट ऊर्जा उत्पन्न करने के लिए शुरू की गई है, जो 60,000 घरों के लिए पर्याप्त है, साथ ही हर साल 3 लाख टन कार्बन डाई ऑक्साइड उत्सर्जन की बचत और 1,000 एमएमटीपीए पानी का संरक्षण भी करती है।

एसजेवीएन ने उत्तर प्रदेश में 50 मेगावाट के गुजराई सौर ऊर्जा स्टेशन चालू किया

विद्युत मंत्रालय के प्रशासनिक नियंत्रण के अंतर्गत केंद्रीय सार्वजनिक क्षेत्र के उद्यम, मिनी रत्न, श्रेणी- I और अनुसूची 'ए' केंद्रीय उद्यम एसजेवीएन लिमिटेड ने 23 फरवरी, 2024 को उत्तर प्रदेश के कानपुर देहात में अपने 50 मेगावाट के गुजराई सौर ऊर्जा स्टेशन का सफल वाणिज्यिक संचालन शुरू कर दिया है। इस उपलब्धि के साथ एसजेवीएन की कुल संस्थापित विद्युत क्षमता 2,277 मेगावाट हो गई है और वर्तमान में दस विद्युत स्टेशन प्रचालन में हैं। 50 मेगावाट का गुजराई सौर विद्युत स्टेशन को एसजेवीएन द्वारा अपनी नवीकरणीय शाखा एसजेवीएन ग्रीन एनर्जी लिमिटेड (एसजीईएल) के माध्यम से 281 करोड़ रुपये की लागत से लागू किया गया है।

मनी-लॉन्ड्रिंग विरोधी कानून के तहत वित्त मंत्रालय की वित्तीय खुफिया इकाई-भारत (FIU-IND) के साथ पंजीकृत हुआ PayPal

अमेरिकी ऑनलाइन भुगतान सुविधा सेवा प्रदाता पेपाल ने भारत की वित्तीय आसूचना इकाई (एफआईयू) के साथ अपने परिचालन का पंजीकरण किया है। दोनों इकाइयों के बीच चली लंबी कानूनी लड़ाई के लगभग छह साल बाद कंपनी ने यह कदम उठाया है। PayPal और FIU के बीच कानूनी लड़ाई मार्च 2018 में शुरू हुई जब FIU ने धन शोधन निवारण अधिनियम (PMLA) के तहत एक रिपोर्टिंग इकाई के रूप में पंजीकरण की मांग की। PayPal के प्रतिरोध के बावजूद, FIU ने दिसंबर 2020 में असहयोग और मनी-लॉन्ड्रिंग विरोधी दायित्वों का पालन करने में विफलता का आरोप लगाते हुए जुर्माना लगाया। इस जुर्माने को शुरुआत में जुलाई 2023 में पलट दिया गया था, लेकिन अदालत ने फैसला सुनाया कि PayPal को भुगतान प्रणाली ऑपरेटर के रूप में PMLA के तहत रिपोर्टिंग दायित्वों का पालन करना होगा।

अंतर्राष्ट्रीय सौर गठबंधन में शामिल होने वाला 119वां देश बना माल्टा

माल्टा ने हाल ही में अंतर्राष्ट्रीय सौर गठबंधन (आईएसए) में शामिल होकर टिकाऊ ऊर्जा की दिशा में एक उल्लेखनीय कदम उठाया है। यह कदम गैर-नवीकरणीय ऊर्जा स्रोतों पर निर्भरता कम करने और पर्यावरण के अनुकूल विकल्पों को अपनाने के लिए देश की प्रतिबद्धता को रेखांकित करता है। अंतर्राष्ट्रीय सौर गठबंधन की शुरुआत भारत और फ्रांस के संयुक्त प्रयास से हुई। इसका उद्देश्य सौर ऊर्जा को व्यापक रूप से अपनाने को बढ़ावा देकर जीवाश्म ईंधन पर वैश्विक निर्भरता को कम करना है। गठबंधन विशेष रूप से कम विकसित देशों (एलडीसी) और छोटे द्वीप विकासशील राज्यों (एसआईडीएस) में सतत विकास को सुविधाजनक बनाने के लिए लागत प्रभावी सौर समाधानों के विकास को प्राथमिकता देता है।

अरुणाचल प्रदेश और एनटीसीए ने एसटीपीएफ बनाने के लिए साझेदारी की

अरुणाचल प्रदेश सरकार ने हाल ही में राज्य के पहले विशेष बाघ संरक्षण बल (एसटीपीएफ) की स्थापना के लिए राष्ट्रीय बाघ संरक्षण प्राधिकरण (एनटीसीए) के साथ एक समझौता ज्ञापन (एमओयू) पर हस्ताक्षर किए। इस कदम का उद्देश्य संरक्षण प्रयासों को बढ़ावा देना और राज्य के भीतर बाघों की आबादी की रक्षा करना है। अरुणाचल प्रदेश, जो अपनी जैव विविधता के लिए जाना जाता है, तीन बाघ अभयारण्यों का घर है: नामदाफा, कमलांग और पक्के। हालाँकि, इन अभ्यारण्यों के बावजूद, राज्य में बाघ संरक्षण के लिए समर्पित बल का अभाव था। एमओयू पर हस्ताक्षर के साथ, 336 कर्मियों वाला एक विशेष बल अब इन रिजर्व में तैनात किया जाएगा।

अफ्रीकी संघ द्वारा गधे की खाल के व्यापार पर प्रतिबंध

हाल ही में इथियोपिया में 37वें अफ्रीकी संघ शिखर सम्मेलन, 2024 के दौरान, अफ्रीकी राष्ट्राध्यक्षों ने सर्वसम्मति से गधे की खाल के व्यापार पर ऐतिहासिक प्रतिबंध लगाने पर सहमति व्यक्त की, जिससे उनकी खाल के लिये पूरे महाद्वीप में गधों की हत्या पर रोक लगा दी गई। दिसंबर 2022 में पहले अफ्रीकी यूनियन इंटर अफ्रीकन ब्यूरो फॉर एनिमल रिसोर्स (AU-IBAR), गधों के संरक्षण हेतु पैन-अफ्रीकी सम्मेलन में अपनाई गई दार एस सलाम घोषणा के बाद यह एक महत्त्वपूर्ण परिणाम है। दार एस सलाम घोषणा पर तंजानिया में AU-IBAR द्वारा आयोजित पैन अफ्रीकन गधे की खाल पर आयोजित सम्मेलन के दौरान हस्ताक्षर किये गए थे, जहाँ सरकार के मंत्री अफ्रीका में अन्य जानवरों तथा गधे की खाल के व्यापार के हानिकारक प्रभावों को समझने के लिये एकत्र हुए थे। यह अफ्रीका के गधों की आबादी में तेज़ी से कमी को रेखांकित करता है और साथ ही प्रजातियों की सुरक्षा के लिये अनुसंधान, नीतियों एवं कानून में निवेश बढ़ाने की वकालत भी करता है।

डेथ वैली में अप्रत्याशित झील का निर्माण

उत्तरी अमेरिका के सबसे शुष्क क्षेत्र डेथ वैली के भीतर स्थित बैडवाटर बेसिन में अगस्त 2023 से वर्षा में उल्लेखनीय वृद्धि हुई है, जिससे अप्रत्याशित रूप से मैनली झील का निर्माण हुआ है। मैनली झील का निर्माण अगस्त 2023 में हरिकेन हिलेरी के आने बाद हुआ था। हालाँकि शुरुआत में यह आशानुरूप छोटी हो गई थी, लेकिन आश्चर्यजनक रूप से यह पूरे पतझड़ के साथ-साथ शीतऋतु के दौरान भीं बनी रही। फरवरी 2024 में इसका पुनर्विकास देखा गया क्योंकि एक शक्तिशाली वायुमंडलीय नदी द्वारा अधिक जल विसर्जित गया था। वायुमंडलीय नदी, वायुमंडल में संकेंद्रित नमी की एक संकीर्ण पट्टी है जो जलवाष्प को उष्णकटिबंधीय से उच्च अक्षांशों तक ले जाती है। एक दृश्य जल निकाय के विपरीत, एक वायुमंडलीय नदी आकाश में एक अदृश्य, लंबा गलियारा है जो बड़ी मात्रा में जल वाष्प ले जाती है, जो मौसम प्रणाली और वर्षा को प्रभावित करती है।

आरबीआई ने एमस्वाइप टेक्नोलॉजीज को भुगतान एग्रीगेटर लाइसेंस प्रदान किया

भारत के डिजिटल भुगतान क्षेत्र की प्रमुख कंपनी एमस्वाइप टेक्नोलॉजीज को भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) द्वारा पेमेंट एग्रीगेटर (पीए) लाइसेंस से सम्मानित किया गया है। यह महत्वपूर्ण विकास कंपनी को 2022 की शुरुआत में सैद्धांतिक मंजूरी मिलने के बाद हुआ है। एमस्वाइप का लक्ष्य विभिन्न चैनलों पर व्यापक भुगतान प्रौद्योगिकी समाधान प्रदान करते हुए, अपनी पेशकशों की श्रृंखला को बढ़ाने के लिए इस लाइसेंस का लाभ उठाना है।

साइबर अपराध के मामले में भारत दुनिया भर में 80वां सबसे अधिक लक्षित देश

वर्ष 2023 में स्थानीय खतरों पर ध्यान केंद्रित करने वाली एक रिपोर्ट में भारत को 80वें स्थान पर रखा गया था। यह स्थिति उपयोगकर्ताओं के कंप्यूटर या उनसे जुड़े हटाने योग्य मीडिया (flash drives, camera memory cards, phones, external hard drives) पर सीधे पाए जाने वाले दुर्भावनापूर्ण प्रोग्रामों पर आधारित है या जिन्होंने शुरू में गैर-ओपन फॉर्म, जिसमें जटिल इंस्टालर या एन्क्रिप्टेड फ़ाइलों में प्रोग्राम शामिल हैं में कंप्यूटर पर अपना रास्ता बना लिया था। इसके अतिरिक्त, भारत में लगभग 34% उपयोगकर्ताओं को स्थानीय खतरों द्वारा लक्षित किया गया था, लगभग 74,385,324 स्थानीय घटनाओं को कैस्परक्सी उत्पादों द्वारा अवरुद्ध किया गया था।

Google और Apple को टक्कर देने के उद्देश्य से PhonePe ने लॉन्च किया इंडस ऐपस्टोर

PhonePe ने एक देशी एंड्रॉइड मार्केटप्लेस इंडस ऐपस्टोर लॉन्च किया, जो भारतीय ब्रांडों के 2 लाख से अधिक ऐप्स पेश करता है। डेवलपर्स को मार्च 2025 तक कोई लिस्टिंग शुल्क नहीं मिलेगा। PhonePe ने Google Play Store और Apple App Store को टक्कर देने के उद्देश्य से भारत में निर्मित एंड्रॉइड ऐप मार्केटप्लेस इंडस ऐपस्टोर लॉन्च किया है। यह प्लेटफ़ॉर्म 45 श्रेणियों में 2 लाख से अधिक ऐप्स होस्ट करता है, जो उपयोगकर्ताओं को विभिन्न प्रकार के एप्लिकेशन प्रदान करता है।

Morgan Stanley ने घटाया वित्त वर्ष-25 की GDP ग्रोथ का अनुमान

मॉर्गन स्टैनली रिसर्च ने बुधवार को कहा कि वित्त वर्ष 2025 में भारत के सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) की वृद्धि दर 6.5 प्रतिशत रहने की संभावना है। इसके पहले मॉर्गन स्टैनली ने 6.9 प्रतिशत वृद्धि का अनुमान लगाया था। वहीं इक्रा ने वित्त वर्ष 2024 की दूसरी तिमाही के 7.6 प्रतिशत से घटकर वित्त वर्ष 2024 की तीसरी तिमाही में वृद्धि दर 6 प्रतिशत रहने का अनुमान लगाया है, जिसमें कृषि व उद्योग क्षेत्रों का अहम योगदान होगा।

विश्वकर्मा जयंती 2024

सनातन धर्म में भगवान विश्वकर्मा की जयंती को बहुत अहम माना गया है। हिंदू पंचांग के अनुसार, माघ महीने के शुक्ल पक्ष की त्रयोदशी तिथि को विश्वकर्मा जयंती मनाई जाती है। इस दिन पूरे देश में लोग अपने कार्यस्थलों व घर पर भगवान विश्वकर्मा (Lord Vishwakarma) की पूजा करते हैं, जिन्हें ब्रह्मांड का पहला वास्तुकार यानी इंजीनियर माना जाता है। हिंदू पंचांग के अनुसार, इस साल माघ शुक्ल पक्ष की त्रयोदशी तिथि 21 फरवरी 2024 प्रातः 11 बजकर 28 मिनट से शुरू हो चुकी है और इसका समापन 22 फरवरी दोपहर 1 बजकर 22 मिनट पर होगा।

Start Quiz! PRINT PDF

« Previous Next Affairs »

Notes

Notes on many subjects with example and facts.

Notes

QUESTION

Find Question on this Topic and many other subjects

Learn More

Test Series

Here You can find previous year question paper and mock test for practice.

Test Series

Download

Here you can download Current Affairs Question PDF.

Download

Join

Join a family of Rajasthangyan on


Contact Us Contribute About Write Us Privacy Policy About Copyright

© 2024 RajasthanGyan All Rights Reserved.