Ask Question | login | Register
Notes
Question
Quiz
Tricks
Facts

17 November 2023

'हिंद-प्रशांत क्षेत्रीय संवाद' (आईपीआरडी-2023) का 2023 संस्करण

भारतीय नौसेना की तीन दिवसीय वार्षिक शीर्ष स्तरीय क्षेत्रीय रणनीतिक वार्ता "इंडो-पैसिफिक रीजनल डायलॉग 2023" (आईपीआरडी-2023) का 15 नवंबर 2023 को नई दिल्ली में शुभारंभ हुआ। इस अवसर पर, माननीय उपराष्ट्रपति श्री जगदीप धनखड़ 'स्मारक सत्र' के मुख्य अतिथि थे और माननीय वित्त और कॉर्पोरेट मामले मंत्री श्रीमती निर्मला सीतारमण ने अपना विशेष संबोधन दिया। इस अवसर पर दिनभर में "समुद्री संपर्क के नोड्स" और "भारत-प्रशांत में समुद्री कनेक्टिविटी पहल" विषयों पर केंद्रित दो पेशेवर सत्रों का आयोजन किया गया। दिनभर हुई गतिविधियों का समापन सहयोग के दो समझौता ज्ञापनों के साथ हुआ। इन समझौता ज्ञापनों पर नेशनल मैरीटाइम फाउंडेशन (एनएमएफ) और नेपाल इंस्टीट्यूट फॉर इंटरनेशनल कोऑपरेशन एंड एंगेजमेंट (एनआईआईसीई), नेपाल और एनएमएफ एवं द ग्लोबल सेंटर फॉर पॉलिसी एंड स्ट्रैटेजी (जीएलओसीईपीएस) केन्या के बीच हस्ताक्षर किए गए। भारतीय नौसेना द्वारा आईपीआरडी-2023 का आयोजन अपने प्रबुद्ध भागीदार के रूप में नेशनल मैरीटाइम फाउंडेशन के सहयोग से किया जा रहा है। 2005 में स्थापित, एनएमएफ भारत के अग्रणी समुद्री थिंक-टैंक में से एक है और यह भारत के समुद्री हितों से संबंधित मुद्दों पर अपना शोध केंद्रित करता है।

इंडोनेशिया में 10वीं आसियान रक्षा मंत्रियों की मीटिंग-प्लस

रक्षा मंत्री श्री राजनाथ सिंह ने 16 नवंबर, 2023 को जकार्ता, इंडोनेशिया में आसियान रक्षा मंत्रियों की 10वीं मीटिंग - प्लस (एडीएमएम-प्लस) में भाग लिया। अपने संबोधन में उन्होंने आसियान की महत्‍वपूर्ण स्थिति को स्‍वीकार किया और क्षेत्र में बातचीत एवं सर्वसम्मति को बढ़ावा देने में इसकी भूमिका की सराहना की। उन्होंने समुद्री कानून पर संयुक्त राष्ट्र समझौता (यूएनसीएलओएस) 1982 सहित अंतरराष्ट्रीय कानूनों के अनुसार अंतरराष्ट्रीय जल में नौवहन, हवाई उड़ान और निर्बाध वैध व्‍यापार की स्वतंत्रता के लिए भारत की प्रतिबद्धता दोहराई। उन्होंने इस साल मई में आयोजित पहले आसियान-भारत समुद्री अभ्यास के साथ-साथ मानवीय सहायता और आपदा राहत (एचएडीआर) कार्यों पर विशेषज्ञ कार्य समूह (ईडब्ल्यूजी) में आसियान सदस्य देशों की सक्रिय भागीदारी की भी सराहना की, जिनमें वर्तमान 2020-2023 चक्र में भारत और इंडोनेशिया सह-अध्यक्ष हैं। यह स्वीकार करते हुए कि आतंकवाद आसियान क्षेत्र सहित अंतर्राष्ट्रीय शांति और सुरक्षा के लिए एक गंभीर खतरा है, भारत ने आतंकवाद से निपटने पर ईडब्ल्यूजी की सह-अध्यक्षता करने का प्रस्ताव रखा। इस प्रस्ताव का एडीएमएम-प्लस ने समर्थन किया क्योंकि आतंकवाद इस क्षेत्र के देशों के लिए एक गंभीर चिंता का विषय बना हुआ है।

अहमदाबाद में 21 और 22 नवम्बर, 2023 को वैश्विक मात्स्यिकी सम्मेलन भारत 2023 आयोजित किया जाएगा

मछुआरों और मछली पालकों और अन्य हितधारकों के योगदान और उपलब्धियों का उत्‍सव मनाने तथा मत्स्य पालन क्षेत्र के सतत और न्यायसंगत विकास के प्रति प्रतिबद्धता को मजबूत करने के लिए भारत सरकार का मत्स्य पालन विभाग विश्व मात्स्यिकी दिवस के अवसर पर वैश्विक मत्स्य सम्मेलन भारत 2023 का आयोजन कर रहा है। दो दिवसीय यह सम्‍मेलन 21 और 22 नवंबर 2023 को अहमदाबाद के गुजरात साइंस सिटी में आयोजित किया जाएगा। सम्‍मेलन का विषय 'मत्स्य पालन और जलीय कृषि धन का उत्‍सव मनाएं' होगा।

16 नवंबर 23 को मेसर्स एलएंडटी, कट्टुपल्ली में एएसडब्ल्यू एसडब्ल्यूसी (जीआरएसई) परियोजना के चौथे जहाज 'अमिनी' का जलावतरण

भारतीय नौसेना के लिए मेसर्स जीआरएसई द्वारा बनाई जा रही 08 x एएसडब्ल्यू शैलो वॉटर क्राफ्ट (एसडब्ल्यूसी) परियोजना में चौथे जहाज 'अमिनी' को 16 नवंबर 23 को मेसर्स एलएंडटी, कट्टुपल्ली में लॉन्च किया गया था। इस समारोह की अध्यक्षता साज-समान प्रमुख वाइस एडमिरल संदीप नैथानी ने की। समुद्री परंपरा को ध्यान में रखते हुए, श्रीमती मंजू नैथानी ने अथर्ववेद के मंगलाचरण के साथ जहाज का शुभारंभ किया। कोच्चि से लगभग 400 किलोमीटर पश्चिम में स्थित लक्षद्वीप में अमिनी द्वीप को दिए गए रणनीतिक समुद्री महत्व को दर्शाने के लिए जहाज का नाम अमिनी रखा गया है। आठ एएसडब्ल्यू एसडब्ल्यूसी जहाजों के निर्माण के अनुबंध पर 29 अप्रैल, 2019 को रक्षा मंत्रालय और गार्डन रीच शिपबिल्डर्स एंड इंजीनियर्स (जीआरएसई), कोलकाता के बीच हस्ताक्षर किए गए थे। अर्नाला श्रेणी के जहाज भारतीय नौसेना के सेवारत अभय श्रेणी के एएसडब्ल्यू कार्वेट की जगह लेंगे और इन्हें तटीय जल में पनडुब्बी रोधी अभियानों के साथ-साथ कम तीव्रता वाले समुद्री संचालन (एलआईएमओ) और खदान बिछाने के संचालन के लिए डिजाइन किया गया है।

भारत-श्रीलंका संयुक्त सैन्य अभ्यास ‘मित्र शक्ति’-2023 शुरू

भारत-श्रीलंका संयुक्त सैन्य अभ्यास "मित्र शक्ति-2023" का नौवां संस्करण औंध (पुणे) में शुरू हुआ। यह सैन्य अभ्यास 16 से 29 नवंबर 2023 तक आयोजित किया जा रहा है। भारतीय टुकड़ी का प्रतिनिधित्व मुख्य रूप से की मराठा लाइट इन्फैंट्री रेजिमेंट के 120 सैनिकों द्वारा किया जा रहा है। श्रीलंकाई पक्ष का प्रतिनिधित्व 53 इन्फैंट्री डिवीजन के सैनिकों द्वारा किया जा रहा है। भारतीय वायु सेना के 15 सैनिक और श्रीलंकाई वायु सेना के पांच सैनिक भी अभ्यास में भाग ले रहे हैं।

दुबई में जल, ऊर्जा, प्रौद्योगिकी तथा पर्यावरण-वेटेक्‍स और सौर प्रदर्शनी में तीस भारतीय कंपनियां भाग ले रही हैं

दुबई में जल, ऊर्जा, प्रौद्योगिकी तथा पर्यावरण-वेटेक्‍स और सौर प्रदर्शनी में तीस भारतीय कंपनियां भाग ले रही हैं। ये कंपनियां भारतीय उद्योग परिसंघ से जुडी हैं। भारतीय मंडप का उद्घाटन दुबई में भारत के महावाणिज्‍य दूतावास में राजनयिक सुनील कुमार ने किया। इस प्रदर्शनी के जरिए संयुक्‍त अरब अमीरात के साथ द्विपक्षीय व्‍यापार के अवसर तलाशे जा रहे हैं। यह प्रदर्शनी हर साल दुबई में आयोजित होती है। यह टिकाऊ तकनीक में अभिनव प्रयासों को प्रदर्शित करने तथा विश्‍वभर से उद्योग जगत के प्रमुखों, नीति निर्माताओं और विशेषज्ञों को एक साथ लाने का मंच प्रदान करती है।

बेन गुरियन नहर परियोजना

हाल ही में बेन गुरियन नहर परियोजना (Ben Gurion Canal Project) में फिर से रुचि देखी गई है, यह प्रस्तावित समुद्र-स्तरीय नहर 160 मील लंबी है जो स्वेज़ नहर को दरकिनार करते हुए भूमध्य सागर को अकाबा की खाड़ी से जोड़ेगी। 1960 के दशक में बेन गुरियन नहर परियोजना की अवधारणा एक परिवर्तनकारी बुनियादी ढाँचा पहल के रूप में की गई थी। इसका नाम इज़रायल के संस्थापक (जनक) डेविड बेन-गुरियन (1886-1973) के नाम पर रखा गया, जो इसके ऐतिहासिक महत्त्व को दर्शाता है। इसका उद्देश्य स्वेज़ नहर को दरकिनार करते हुए लाल सागर को भूमध्य सागर से जोड़ने वाला एक वैकल्पिक समुद्री मार्ग बनाना है। इसके तहत सबसे छोटे यूरोप-एशिया मार्ग पर मिस्र के एकाधिकार को चुनौती देकर वैश्विक समुद्री गतिशीलता को नया आकार देने की कल्पना की गई है।

मातृ तपेदिक को समाप्त करने के लिए WHO का 2023 रोडमैप

बच्चों और किशोरों में तपेदिक (टीबी) से निपटने के लिए अपने संशोधित 2023 रोडमैप में, विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) मातृ टीबी के बोझ का अनुमान लगाने और लक्षित हस्तक्षेप विकसित करने के लिए समय-समय पर मूल्यांकन के महत्व पर जोर देता है। WHO इस बात पर प्रकाश डालता है कि टीबी से प्रभावित गर्भवती और प्रसवोत्तर महिलाओं का डेटा राष्ट्रीय टीबी कार्यक्रमों द्वारा नियमित निगरानी के हिस्से के रूप में एकत्र और रिपोर्ट नहीं किया जाता है। नतीजतन, इस कमजोर आबादी और उनके शिशुओं में टीबी का बोझ और विशेषताएं काफी हद तक अज्ञात हैं। WHO सभी नई टीबी दवाओं और टीकों के लिए समर्पित सुरक्षा अध्ययनों में मातृ, गर्भावस्था, जन्म और शिशु परिणामों को शामिल करने की आवश्यकता पर जोर देता है। सितंबर 2023 में टीबी के खिलाफ लड़ाई पर दूसरी संयुक्त राष्ट्र उच्च-स्तरीय बैठक में, 2027 की समयसीमा के साथ प्रतिबद्धताओं को फिर से परिभाषित किया गया। मुख्य लक्ष्यों में टीबी से पीड़ित 90% लोगों का निदान और उपचार करना, उच्च जोखिम वाले लोगों को निवारक उपचार प्रदान करना और टीबी से पीड़ित बच्चों और किशोरों का इलाज करना शामिल है। 2023 रोडमैप 2013 और 2018 के उल्लिखित लक्ष्यों का अपडेट है। 3.5 मिलियन बच्चों और युवा किशोरों को उपचार प्रदान करने का पिछला लक्ष्य हासिल नहीं किया जा सका, लक्ष्य का केवल 71% ही पूरा हुआ।

ब्राज़ील में सोया उत्पादन और बाल कैंसर से होने वाली मौतें के बीच संबंध

हाल के एक अध्ययन में पिछले दो दशकों में ब्राज़ील के अमेज़न और सेराडो क्षेत्रों में सोया/सोयाबीन उत्पादन में उल्लेखनीय वृद्धि और बाल कैंसर से संबंधित मौतों के बढ़ने के बीच संबंध की पहचान की गई है। इन क्षेत्रों में सोया की कृषि के विस्तार के साथ-साथ कीटनाशकों के उपयोग में भी काफी वृद्धि हुई है। इस अध्ययन में वर्ष 2008 से वर्ष 2019 तक सोया उत्पादन में वृद्धि और बच्चों में एक्यूट लिम्फोब्लास्टिक ल्यूकेमिया (ALL) से होने वाली मौतों के बीच सांख्यिकीय रूप से महत्त्वपूर्ण संबंध का पता चला। अध्ययन के अनुसार, जल आपूर्ति प्रवेश संभवतः वह मार्ग था जिसके माध्यम से कीटनाशकों का संपर्क हुआ। तुलनात्मक रूप से कहें तो सोया की खेती के लिये उपयोग की जाने वाली नगरपालिका भूमि की मात्रा में 10% की वृद्धि से ALL से पाँच वर्ष से कम उम्र के बच्चों की मृत्यु की संभावना 1.3% तथा दस से कम उम्र के बच्चों की मृत्यु की संभावना 1.6% बढ़ गई।

इंस्पायर फैकल्टी फेलो ने खारे-क्षारीय पानी वाली झीलों जैसी विषम परिस्थितियों में भी जीवित रहने वाले एक दिलचस्प हरे शैवाल के पीछे मौजूद आणविक तंत्र का पता लगाया

हाल ही में किये गए शोध में पिकोसिस्टिस सेलिनरम के रहस्यों को उजागर किया गया है, जो एक छोटा हरा शैवाल है तथा कठोर खारा-क्षारीय स्थितियों में जीवित रहता है। जीव के आणविक तंत्र का अध्ययन करते हुए अनुसंधान ने हाइपरसॉमिक स्थितियों में अधिकांश प्रकाश संश्लेषक जीवन के विपरीत इसके अद्वितीय अनुकूलन, प्रकाश संश्लेषण और ATP (एडेनोसिन ट्राइफॉस्फेट) संश्लेषण को बढ़ावा देने का खुलासा किया। हाइपरऑस्मोटिक स्थितियाँ उस स्थिति को संदर्भित करती हैं जहाँ किसी कोशिका या जीव के आंतरिक वातावरण की तुलना में आसपास के वातावरण में विलेय की सांद्रता अधिक होती है। अपने लचीलेपन के अलावा यह माइक्रोएल्गा कार्बन कैप्चर और बायोमास उत्पादन की क्षमता को प्रदर्शित करता है, जिससे टिकाऊ जैव प्रौद्योगिकी प्रगति का मार्ग प्रशस्त होता है।

डोमिनिका ने स्पर्म व्हेल के लिए दुनिया का पहला समुद्री संरक्षित क्षेत्र बनाया

डोमिनिका का छोटा कैरेबियाई द्वीप लुप्तप्राय स्पर्म व्हेल की सुरक्षा के लिए समर्पित दुनिया का पहला समुद्री संरक्षित क्षेत्र स्थापित करके इतिहास रच रहा है। इस अभूतपूर्व पहल का उद्देश्य इन शानदार प्राणियों की रक्षा करना है और साथ ही जलवायु परिवर्तन के खिलाफ लड़ाई में भी योगदान देना है। डोमिनिका की सरकार ने हाल ही में द्वीप के पश्चिमी हिस्से में लगभग 300 वर्ग मील (800 वर्ग किलोमीटर) क्षेत्र को समुद्री रिजर्व के रूप में नामित करने की अपनी योजना की घोषणा की। यह पानी स्पर्म व्हेल के लिए महत्वपूर्ण नर्सिंग और भोजन आधार के रूप में काम करेगा, और यह रिजर्व उनकी सुरक्षा सुनिश्चित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगा।

मिजोरम में नई गेको प्रजाति की खोज की गई

शोधकर्ताओं ने हाल ही में भारत में, विशेष रूप से मिजोरम के वैरेंगटे शहर में, छिपकली की एक नई प्रजाति की पहचान की है। इसकी खोज के स्थान के आधार पर इसका नाम ‘साइरटोडैक्टाइलस वैरेंगटेन्सिस’ रखा गया, इस छिपकली प्रजाति की विशिष्ट विशेषताएं हैं, विशेष रूप से ऊरु छिद्रों की संख्या, जो इसे साइरटोडैक्टाइलस परिवार के अन्य सदस्यों से अलग करती है। इस नई प्रजाति के लिए प्रस्तावित सामान्य नाम ‘वैरेंगटे बेंट-टो गेको’ है।

शोधकर्ताओं ने भारतीय जल में सीर मछली की दो नई प्रजातियों की खोज की

ICAR-सेंट्रल मरीन फिशरीज रिसर्च इंस्टीट्यूट (CMFRI) के शोधकर्ताओं ने सीर मछली की दो नई प्रजातियों की पहचान करके एक महत्वपूर्ण खोज की है। प्रमुख वैज्ञानिक ई.एम. अब्दुस्समद के नेतृत्व में, टैक्सोनोमिस्ट्स की टीम ने अरेबियन स्पैरो सीर मछली (स्कोम्बरोमोरस एविरोस्ट्रस) का अनावरण किया, जो पहले से अज्ञात प्रजाति थी, और रसेलस स्पॉटेड सीयर मछली (स्कोम्बरोमोरस लेपर्डस) को पुनर्जीवित किया। इन निष्कर्षों ने भारतीय जल क्षेत्र में शीर्ष-मांग वाली द्रष्टा मछली प्रजातियों की संख्या को चार से बढ़ाकर छह कर दिया है, जिससे समुद्री जैव विविधता के बारे में हमारी समझ में वृद्धि हुई है। यह खोज भारतीय तट के किनारे पाई जाने वाली चित्तीदार मछली प्रजातियों पर केंद्रित एक व्यापक वर्गीकरण अध्ययन का परिणाम थी। इससे पता चला कि चित्तीदार द्रष्टा मछली (स्कॉम्बरोमोरस गुट्टाटस), जिसे कभी एक ही प्रजाति माना जाता था, वास्तव में तीन अलग-अलग प्रजातियों का एक समूह है।

विराट कोहली ने 50 वां वनडे शतक बनाकर इतिहास रचा

विराट कोहली ने आईसीसी क्रिकेट विश्व कप 2023 सेमीफाइनल में न्यूजीलैंड के खिलाफ वानखेड़े स्टेडियम में 50वां वनडे शतक बनाकर इतिहास रचा। उन्‍होंने सचिन तेंदुलकर के 49 शतकों के रिकॉर्ड को पीछे छोड़ते हुए 50वां शतक जड़ा। विराट किसी एक वर्ल्ड कप में सर्वाधिक रन बनाने वाले बल्‍लेबाज बन गए हैं। उन्होंने इस दौरान मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर के 20 साल पुराने विश्व रिकॉर्ड को तोड़ा। विराट कोहली ने 106 गेंदों पर अपना 50वां वनडे शतक जड़ा। विराट कोहली ने विश्व कप 2023 में 674 रन पूरा करते ही विश्व रिकॉर्ड अपने नाम कर लिया।

राष्‍ट्रीय प्रेस दिवस

स्‍वतंत्र और जिम्मेदार प्रेस की याद में राष्‍ट्रीय प्रेस दिवस हर वर्ष 16 नवम्बर को मनाया जाता है। 16 नवम्बर 1966 के दिन भारतीय प्रेस परिषद ने पत्रकारिता के मानकों की निगरानी का काम संभाला था। 1997 से परिषद विभिन्‍न संगोष्ठियों के माध्‍यम से राष्‍ट्रीय प्रेस दिवस मनाती है। 2023 के राष्‍ट्रीय प्रेस दिवस का विषय है कृत्रिम बुद्धिमत्ता के युग में मीडिया

अंतर्राष्ट्रीय सहिष्णुता दिवस : 16 नवंबर

अंतर्राष्ट्रीय सहिष्णुता दिवस हर साल 16 नवंबर को मनाया जाता है। इस दिन को संयुक्त राष्ट्र द्वारा असहिष्णुता के खतरों पर जन जागरूकता पैदा करने के उद्देश्य से घोषित किया गया था। महात्मा गांधी की 125 वीं जयंती के अवसर पर वर्ष 1995 को संयुक्त राष्ट्रीय महासभा के द्वारा अंतर्राष्ट्रीय सहिष्णुता वर्ष घोषित किया गया था। इस वर्ष दुनिया में अहिंसा और सहिष्णुता को बढ़ावा देने और जागरूकता फैलाने के लिए “यूनेस्को मदनजीत सिंह पुरुस्कार” की भी स्थापना की गई थी। इसके बाद वर्ष 1996 में 16 नवंबर को अंतरराष्ट्रीय सहिष्णुता दिवस के रूप में मनाने की घोषणा संयुक्त राष्ट्रीय महासभा द्वारा की गई।

Start Quiz! PRINT PDF

« Previous Next Affairs »

Notes

Notes on many subjects with example and facts.

Notes

QUESTION

Find Question on this Topic and many other subjects

Learn More

Test Series

Here You can find previous year question paper and mock test for practice.

Test Series

Download

Here you can download Current Affairs Question PDF.

Download

Join

Join a family of Rajasthangyan on


Contact Us Contribute About Write Us Privacy Policy About Copyright

© 2024 RajasthanGyan All Rights Reserved.