Ask Question | login | Register
Notes
Question
Quiz
Tricks
Facts

ब्रिटिश शासन के दौरान प्रेस और पत्रकारिता

भारत में प्रथम प्रेस पुर्तगाली लेकर आए थे। भारत में प्रेस द्वारा हिन्दी में प्रकाशित प्रथम पुस्तक कालीदास की अभिज्ञान शकुन्तल्म थी। भातर का प्रथम समाचार पत्र जेम्स आॅगस्टस हिकी का बंगाल गजट(1780 ई.) था। हिक्की को भारतीय समाचार पत्रों का जन्मदाता माना जाता है। भारत का प्रथम हिन्दी समाचार पत्र जुगलकिशोर का उदन्त मार्तण्ड(1826 ई.) था। भारत का प्रथम दैनिक समाचार पत्र सुधा वर्षण(1854 ई.) था।

राजस्थान से प्रकाशित समाचार पत्र

राजस्थान में सबसे पहले ईसाई मिशनरियों ने 1864 इसमें ब्यावर में लिथो प्रेस स्थापित किया। यहां से मिशनरी स्कूलों के लिए पाठ्य पुस्तकें और इसाई धर्म प्रचार के लिए बाइबल सहित अन्य धार्मिक साहित्य की छपाई की जाने लगी। राजस्थान में सर्वाधिक समाचार पत्र अजमेर से ही प्रकाशित हुए।

सज्जन कीर्ति सुधारक(1876)

दयानंद सरस्वती जी की प्रेरणा से महाराणा सज्जन सिंह द्वारा यह उदयपुर से प्रकाशित होने वाली राजस्थान की प्रथम पाक्षिक पत्रिका थी।

राजपुताना गज़ट(1885)

अजमेर से प्रकाशित, मौलवी मुराद अली द्वारा संपादित, भय की भावना को खत्म करने और रियासतों के लोगों के उत्पीड़न का पर्दाफाश करना।

राजपुताना हेराल्ड(1885)

हनुमान सिंह द्वारा अजमेर से प्रकाशित, समाचार पत्र अंग्रेजी में प्रकाशित किया गया था और निर्भीकता से बंदोबस्त के घोटाले को उजागर किया।

राजस्थान टाइम्स(1885)

अजमेर से 'राजस्थान टाइम्स' और उसका हिन्दी संस्करण 'राजस्थान पत्रिका' का प्रकाशन आरम्भ हुआ। इन समाचार पत्रों ने जनता में राष्ट्रीय चेतना जागृत करने में अच्छा योगदान दिया। परिणामस्वरुप दो वर्ष बाद ही ब्रिटिश सरकार ने इन दोनों समाचार पत्रों के प्रकाशन पर प्रतिबन्ध लगा दिया। इसके सम्पादक बख्शी लक्ष्मणदास पर मुकदमा चलाकर डेढ़ वर्ष के कारावास की सजा दी गई।

राजस्थान समाचार(1889)

अजमेर से प्रकाशित होने वाला राजस्थान का प्रथम हिन्दी दैनिक इसके प्रकाशक मुंशी समर्थदास थे।

राजस्थान केसरी(1920)

वर्धा से पथिक द्वारा निकाला गया साप्ताहिक।

नवीन राजस्थान(1922)

अजमेर से यह समाचार पत्र राजस्थान सेवा संघ के तत्वाधान में निकला था। 1923 में इसका नाम ‘तरूण राजस्थान’ कर दिया।

त्याग भूमि(1927)

हरिभाऊ उपाध्याय द्वारा शुरू किया गया।

आगी-बाण(1932)

ब्यावर से जयनारायण व्यास द्वारा निकाला गया राजस्थानी भाषा का प्रथम समाचार पत्र।

नव ज्योति(1936)

रामनारायण चौधरी द्वारा केशरगंज अजमेर से प्रकाशित साप्तहिक। बाद में कप्तान दुर्गादास चौधरी को सौंप दिया था। 1948 में इसे दैनिक नव ज्योति बना दिया।

लोक वाणी(1943)

जयपुर से देवीशंकर तिवारी द्वारा प्रकाशित साप्ताहिक।

« Previous Next Chapter »

Take a Quiz

Test Your Knowledge on this topics.

Learn More

Question

Find Question on this topic and many others

Learn More

Rajasthan Gk APP

Here You can find Offline rajasthan Gk App.

Download Now

Exam

Here You can find previous year question paper and model test for practice.

Start Exam

Share

Join

Join a family of Rajasthangyan on


Contact Us Contribute About Write Us Privacy Policy About Copyright

© 2020 RajasthanGyan All Rights Reserved.