Ask Question | login | Register
Notes
Question
Quiz
Tricks
Facts

129 साल बाद बदलेगा 1 किलो वजन नापने का तरीका

1kg

129 साल बाद एक किलो वजन नापने का तरीका अपडेट होने वाला है। अब तक फ्रांस में रखे एक सिलेंडरनुमा बांट को दुनियाभर का स्टैंडर्ड एक किलो भार माना जाता था। लेकिन, अब स्टैंडर्ड एक किलो भार के लिए अमेरिका का नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ स्टैंडर्ड एंड टेक्नोलॉजी (एनआईएसटी) एक फॉर्मूला तैयार करेगा।

इतिहास

1875 में 17 देशों ने मिलकर फ्रांस में इंटरनेशनल ब्यूरो ऑफ वेट एंड मेजर्स (बीआईपीएम) की स्थापना की थी। इसका काम था- अलग-अलग चीजों के 7 मानकों की इकाई तय करना। 7 स्टैंडर्ड (एसआई) इकाई तय हुईं। लंबाई के लिए मीटर, भार के लिए किलोग्राम, समय के लिए सेकंड, करंट के लिए एम्पीयर, तापमान के लिए केल्विन, पदार्थ की मात्रा के लिए मोल और प्रकाश की तीव्रता के लिए कैंडेला। हर मानक नापने के लिए बीआईपीएम में एक फिजिकल पैमाना रखा गया। जैसे कि- एक लंबी छड़ रखी गई, जो आदर्श एक मीटर थी। फिर दुनिया भर में इसी छड़ को आदर्श मानकर एक मीटर के स्केल तय किए गए। इसी क्रम में 1889 में बीआईपीएम में ही आदर्श एक किलोग्राम का भार रखा गया और उसे ग्रैंड-के का नाम दिया गया। धीरे-धीरे बाकी 6 एसआई पैमानों के फिजिकल पैरामीटर को बदलकर सबका गणितीय फॉर्मूला तैयार कर दिया गया। जैसे कि- निर्वात में प्रकाश द्वारा सेकंड के 299,792,458वें हिस्से में तय की गई दूरी को एक मीटर माना गया। इसी तरह बाकी पैमानों के लिए भी फॉर्मूले बन गए। सिर्फ किलोग्राम बच गया। इसीलिए अब इसे भी फॉर्मूले में ढाला जा रहा है। इस पर काम लगातार जारी है।

« Previous Next Fact »

Notes

Notes on many subjects with example and facts.

Notes

Tricks

Find Tricks That helps You in Remember complicated things on finger Tips.

Learn More

सुझाव और योगदान

अपने सुझाव देने के लिए हमारी सेवा में सुधार लाने और हमारे साथ अपने प्रश्नों और नोट्स योगदान करने के लिए यहाँ क्लिक करें

सहयोग

   

सुझाव

Share